संघ प्रचारक सुनील जोशी की हत्या की फिर से खुलेगी फाइल, मामले में प्रज्ञा ठाकुर हैं मुख्य आरोपी

बड़ी ख़बर , नई दिल्ली, मंगलवार , 21-05-2019


pragya-thakur-kamal-nath-suneel-joshi-accused

जनचौक ब्यूरोे

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने देवास जिले में लगभग 12 साल पहले हुई राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रचारक सुनील जोशी की हत्या के मामले की फाइल फिर खोलने की तैयारी शुरू कर दी है। इस मामले में भोपाल से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) उम्मीदवार प्रज्ञा ठाकुर सहित आठ लोग आरोपी थे, जिन्हें वर्ष 2017 में निचली अदालत से बरी किया जा चुका है। लेकिन सरकार ने फैसले को ऊपरी अदालत में चुनौती नहीं दी।

दि प्रिंट पोर्टल के मुताबिक राज्य के विधि-विधाई मंत्री पीसी शर्मा ने सोमवार को शाजापुर के नालखेड़ा में बगलामुखी मंदिर के दर्शन करने के बाद संवाददाताओं से चर्चा के दौरान इस बात के संकेत दिए कि राज्य सरकार सुनील जोशी हत्याकांड की फाइल को फिर खोलने जा रही है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इस मौके पर शर्मा ने संवाददाताओं से कहा, ‘मैं प्रज्ञा ठाकुर को साध्वी नहीं कहूंगा, क्योंकि उन्होंने महात्मा गांधी के हत्यारे को देशभक्त और शहीद हेमंत करकरे को देशद्रोही कहा है। इन बयानों से लगता है कि वे उस (सुनील जोशी) हत्याकांड में शामिल हो सकती हैं।’

सुनील जोशी की 29 दिसंबर 2007 को देवास में हत्या हुई थी। इस मामले में प्रज्ञा ठाकुर सहित आरोपी बनाए गए आठ लोगों को फरवरी 2017 को एनआईए कोर्ट ने बरी कर दिया था। बताया जाता है कि जोशी का नाम मालेगांव से लेकर समझौता एक्सप्रेस के धमाकों में भी आय़ा था। अभी इन सब मामलों को लेकर पुलिस उनकी घेरेबंदी करती उससे पहले ही उनकी हत्या कर दी गयी थी।

 








Tagpragya kamalnath suneeljoshi rss accused

Leave your comment