दिल्ली में भैंसें ले जा रहे तीन युवकों की पिटाई फिर गिरफ्तारी, हमलावर लापता

मुद्दा , , रविवार , 23-04-2017


delhi-yuvak-pitai-pfa-police-buffalo

जनचौक ब्यूरो

नई दिल्ली। कथित पशुरक्षकों ने पहले उनकी पिटाई की बाद में पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। मामला राजधानी के पौश इलाके दक्षिणी दिल्ली का है। रात में हरियाणा से गाजीपुर मंडी के लिए जब तीन युवक गाड़ियों में भरकर भैंसों को ले जा रहे थे तभी रास्ते में पशु रक्षा समूह के कार्यकर्ताओं ने उन्हें पकड़ लिया और उनकी जमकर पिटाई कर दी। पीपुल फार एनिमल (पीएफए) के कुछ कार्यकर्ता जो मौके पर मौजूद थे उन्होंने युवकों की पिटाई से इनकार किया है। संगठन के एक सदस्य गैरव गुप्ता ने बताया कि हमारे पास गैरमानवीय तरीके से भैसों के ले जाने की सूचना थी हम लोगों ने ट्रक का पीछा किया। उसके बाद पुलिस को बुलाया

पशुओं के खिलाफ क्रूरता के तहत मामला दर्ज

ट्रक को जब्त करने वाले पुलिसकर्मियों ने बताया कि गाड़ी में 14 भैसें थीं। पुलिस अधिकारी ने बताया कि उनकी हालत बेहद दयनीय थी। पकड़े गए लोगों के खिलाफ पशुओं के खिलाफ क्रूरता के तहत एफआईआर दर्ज कर दी गयी है। इसके तहत किसी को पांच साल तक के जेल का प्रावधान है।

मामूली थीं चोटें

पुलिस अफसर ने बताया कि कल रात पशु ले जाने वालों को कुछ चोटें आयी थीं जिनका एम्स ले जाकर इलाज कराया गया था। इलाज करने वाले डाक्टर ने बताया कि उनकी चोटें हल्की थीं और मरहम पट्टी करने के बाद उन्हें जल्द ही अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। अज्ञात हमलावरों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी रामिल बनिया ने कहा कि पीएफए बहुत सालों से दिल्ली में पशुओं के क्रूरता के मुद्दे पर काम कर रहा है वो गौरक्षक नहीं हैं। मेनका गांधी पीएफए की चेयरपर्सन हैं उनके कार्यालय ने इस घटना में उसके सदस्यों के शामिल होने से इंकार किया है। 










Leave your comment