Tuesday, August 9, 2022

गेंदालाल दीक्षित की पुण्यतिथि: एक भूला बिसरा क्रांतिकारी और उसके साहसिक कारनामे

ज़रूर पढ़े

देश की आज़ादी कई धाराओं, संगठन और व्यक्तियों की अथक कोशिशों और कुर्बानियों का नतीज़ा है। गुलाम भारत में महात्मा गांधी के अहिंसक आंदोलन के अलावा एक क्रांतिकारी धारा भी थी, जिससे जुड़े क्रांतिकारियों को लगता था कि अंग्रेज़ हुक्मरानों के आगे हाथ जोड़कर, गिड़गिड़ाने और सविनय अवज्ञा जैसे आंदोलनों से देश को आज़ादी नहीं मिलने वाली, इसके लिए उन्हें लंबा संघर्ष करना होगा और ज़रूरत के मुताबिक हर मुमकिन कुर्बानी भी देनी होगी। क्रांतिवीर गेंदालाल दीक्षित ऐसे ही एक जांबाज़ क्रांतिकारी थे, जिन्होंने अपने साहसिक कारनामों से उस वक्त की अंग्रेजी हुकूमत को हिलाकर रख दिया था।

गेंदालाल दीक्षित, क्रांतिकारी दल ‘मातृवेदी’ के कमांडर-इन-चीफ़ थे और एक वक्त उन्होंने देश के अलग-अलग हिस्सों में काम कर रहे क्रांतिकारियों रासबिहारी बोस, विष्णु गणेश पिंगले, करतार सिंह सराभा, शचीन्द्रनाथ सान्याल, प्रताप सिंह बारहठ, बाघा जतिन आदि के साथ मिलकर, ब्रिटिश सत्ता के ख़िलाफ़ उत्तर भारत में सशस्त्र क्रांति की पूरी तैयारी कर ली थी, लेकिन अपने ही एक साथी की गद्दारी की वजह से उनकी सारी योजना पर पानी फिर गया और अनेक स्वतंत्रता संग्राम सेनानी अंग्रेजी हुकूमत के ख़िलाफ़ बग़ावत करने के इल्जाम में फ़ांसी पर चढ़ा दिए गए, सैकड़ों को काला पानी जैसे यातनागृहों में कठोर सजाएं हुईं। हजारों लोगों को अंग्रेज सरकार के दमन का सामना करना पड़ा। बावजूद इसके गेंदालाल दीक्षित ने हिम्मत नहीं हारी और अपने जीवन के अंतिम समय तक मातृभूमि की स्वतंत्रता के लिए प्रयास करते रहे।

30 नवम्बर,1890 को चंबल घाटी के भदावर राज्य आगरा के अंतर्गत बटेश्वर के पास एक छोटे से गांव मई में जन्मे महान क्रांतिकारी पं. गेंदालाल दीक्षित ने साल 1916 में चंबल के बीहड़ में ‘मातृवेदी’ दल की स्थापना की थी। ‘मातृवेदी’ दल से पहले उन्होंने एक और संगठन ‘शिवाजी समिति’ का गठन किया था और इस संगठन का भी काम नौजवानों में देश प्रेम की भावना को जागृत करना और उन्हें क्रांति के लिए तैयार करना था। आगे चलकर ब्रह्मचारी लक्ष्मणानंद और बागी सरदार पंचम सिंह के साथ मिलकर, उन्होंने ‘मातृवेदी’ दल बनाया। जिसमें बाद में प्रसिद्ध क्रांतिकारी राम प्रसाद ‘बिस्मिल’, देवनारायण भारतीय, श्रीकृष्णदत्त पालीवाल, शिवचरण लाल शर्मा भी शामिल हुए। ‘मातृवेदी’ दल ने ही राम प्रसाद ‘बिस्मिल’ को सैन्य प्रशिक्षण दिया था। बिस्मिल ने गेंदालाल दीक्षित के प्रमुख सहायक कार्यकर्ता के तौर पर भी काम किया। गेंदालाल दीक्षित का कल्पनाशील नेतृत्व और अद्भुत सांगठनिक क्षमता का ही परिणाम था कि एक समय ‘मातृवेदी’ दल में दो हज़ार पैदल सैनिक के अलावा पांच सौ घुड़सवार थे।

इसके अलावा संयुक्त प्रांत के 40 जिलों में 4 हज़ार से ज्यादा हथियारबंद नौजवानों की टोली थी। दल के ख़जाने में आठ लाख रुपए थे। सबसे दिलचस्प बात यह है कि ‘मातृवेदी’ दल की केन्द्रीय समिति में चंबल के 30 बागी सरदारों को भी जगह मिली हुई थी। क्रांतिकारी रास बिहारी बोस ने इस संगठन की तारीफ करते हुए लिखा था,‘‘संयुक्त प्रांत का संगठन भारत के सब प्रांतों से उत्तम, सुसंगठित तथा सुव्यवस्थित था। क्रांति के लिए जितने अच्छे रूप में इस प्रांत ने तैयारी कर ली थी, उतनी किसी अन्य प्रांत ने नहीं की थी।’’ आगे चलकर ‘मातृवेदी’, संयुक्त प्रांत के सबसे बड़े गुप्त क्रांतिकारी संगठन के रूप में विख्यात हुआ। संगठन में शामिल सैनिकों को देश के लिए मर मिटने की शपथ लेना पड़ती थी। ‘भाइयों आगे बढ़ो, फ़ोर्ट विलियम छीन लो/ जितने भी अंग्रेज़ सारे, उनको एक—एक बीन लो।’ यह नारा क्रांतिकारियों में एक नया जोश जगाता था।

महान क्रांतिकारी गेंदालाल दीक्षित की छोटी सी ज़िंदगानी काफ़ी तूफ़ानी और रोमांचकारी रही। ‘मातृवेदी’ संगठन से नौजवानों को जोड़ने के लिए उन्होंने संयुक्त प्रांत के कई शहरों का दौरा किया। देशी सामंतों और सरमायेदारों के यहां डाका डालकर, संगठन के लिए उन्होंने ज़रूरी पैसा इकट्ठा किया। डाका डालते समय हमेशा इस बात का ख्याल रखा जाता कि औरतों और बच्चों को किसी तरह की तकलीफ़ और उनके साथ गलत बर्ताव न हो। देश के अलग-अलग हिस्सों में आज़ादी के लिए काम कर रहे अंतर प्रांतीय संगठनों और उनके नेताओं में जिसमें गेंदालाल दीक्षित भी शामिल थे, ने आखिरकार क्रांति की एक तारीख 21 फरवरी, 1915 मुकर्रर की। इस क्रांति में राजस्थान के ख़ारवा रियासत से 10 हजार सैनिकों का साथ मिलना भी तय हो गया था। लेकिन एक भेदिये की वजह से क्रांति की सारी योजना नाकाम हो गई।

तयशुदा तारीख से दो दिन पहले पंजाब पुलिस को इस बग़ावत का मालूम चल गया। अंग्रेज हुकूमत ने दमन चक्र चलाते हुए कई क्रांतिकारियों की धरपकड़ की। उन्हें कठोर सजाएं सुनाने से लेकर फांसी पर लटका दिया गया। इस नाकाम क्रांति के बाद भी गेंदालाल दीक्षित ने हिम्मत नहीं हारी। वे सिंगापुर गए और गदर पार्टी के नेताओं के साथ मिलकर, फिर ब्रिटिश हुकूमत के ख़िलाफ़ रणनीति बनाई। बर्मा और संघाई जाकर वहां काम कर रहे क्रांतिकारी संगठनों से देश की आज़ादी के लिए समर्थन मांगा। ‘मातृवेदी’ को नये सिरे से खड़ा करने के लिए काफी जद्दोजहद की, लेकिन कामयाब नहीं हुए।

गेंदालाल दीक्षित के जिस्म में जब तलक जान रही,आज़ादी का ख़्वाब देखते रहे। अंग्रेज हुकूमत के शिकंजे से एक बार छूटे, तो फिर उनके हाथ नहीं आए। महज़ तीस साल की छोटी सी उम्र में 21 दिसम्बर, 1920 को गेंदालाल दीक्षित की शहादत हुई। उनकी शहादत के कई साल बाद तक अंग्रेज हुकूमत उनके कारनामों से ख़ौफ़जदा रही। सरकार को यक़ीन ही नहीं था कि गेंदालाल दीक्षित अब इस दुनिया में नहीं हैं। चंबल फाउंडेशन से प्रकाशित ‘कमांडर-इन-चीफ़ गेंदालाल दीक्षित’ लेखक-पत्रकार-सोशल एक्टिविस्ट शाह आलम की एक ऐसी किताब है, जिसमें उन्होंने देश की आज़ादी के लिए संघर्ष करने वाले इस महान योद्धा के संघर्षमय जीवन की झलकियां पेश की हैं, जिसे हमारी सरकारों ने तो बिसरा ही दिया है, नई पीढ़ी भी नहीं जानती कि क्रांतिकारी गेंदालाल दीक्षित का देश की आज़ादी में क्या योगदान है ?

क्रांतिकारियों की महान विरासत के प्रति सरकारों की उदासीनता और उपेक्षा का आलम यह है कि मई गांव में आज़ादी के इस महानायक गेंदालाल दीक्षित का जन्मस्थान पूरी तरह ज़मींदोज हो चुका है। उनके गांव तक जाने के लिए पक्की सड़क नहीं है। जबकि उनके घर को राष्ट्रीय स्मारक बनाया जाना चाहिए था। साल 2020 क्रांतिवीर गेंदालाल दीक्षित की शहादत का सौंवा साल था। उनकी शहादत के शताब्दी वर्ष और आज़ादी की 75वीं सालग़िरह पर क्रांतिकारियों के गुरु कहे जाने वाले गेंदालाल दीक्षित को सच्ची श्रद्धांजलि यह होगी कि न सिर्फ़ उनके घर को राष्ट्रीय स्मारक बनाया जाये, बल्कि सरकार उन पर एक डाक  टिकट भी जारी करे।

नोट-अमर शहीद क्रांतिकारी गेंदालाल दीक्षित के जन्मस्थान आगरा के पास स्थित मई गांव में राष्ट्रीय स्मारक बनाया जाये, गांव तक पक्की सड़क बने, उन पर डाक टिकट निकाला जाये आदि मांगों को लेकर लेखक-पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता शाह आलम बीते दो दिन यानी 19 दिसम्बर से मई गांव में आमरण अनशन पर बैठे हैं। लेकिन अभी तलक सरकार ने इन मांगों को पूरा करने के लिए कोई आश्वासन नहीं दिया है। लेख भेजे जाने तक सर्दी के इस आलम में शाह आलम अनशन पर डटे हुए हैं।  

शाह आलम से इस मोबाइल नंबर—63885 09249 पर संपर्क किया जा सकता है।

(वरिष्ठ पत्रकार जाहिद खान का लेख।) 

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

बिहार में सियासत करवट लेने को बेताब

बिहार में बीजेपी-जेडीयू की सरकार का दम उखड़ने लगा है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस दमघोंटू वातावरण से निकलने को...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This