Tuesday, July 5, 2022

डॉ. सुनीलम

मंदसौर गोलीकांड की बरसी: कब मिलेगा शहीद किसानों के साथ न्याय?

मंदसौर किसान आंदोलन के पांच वर्ष आज पूरे हो रहे हैं। आज पुलिस गोली चालन में शहीद हुए छह किसानों की गांव में बनी मूर्तियों पर ग्रामवासियों द्वारा पुष्पांजलि अर्पित की जा रही है। श्रद्धांजलि कार्यक्रम में शामिल होने...

भोपाल विलीनीकरण आंदोलन: जब चार युवाओं ने सीने पर गोली खा ली लेकिन नहीं गिरने दिया तिरंगा

15 अगस्त, 1947 को देश तो आजाद हो गया था। मार्च 1948 में भोपाल नवाब हमीदुल्लाह ने रियासत को स्वतंत्र रहने की घोषणा कर दी। मई 1948 में नवाब ने भोपाल सरकार का एक मंत्रिमंडल घोषित कर दिया। प्रधानमंत्री...

दूसरी बरसी पर विशेष: एमपी वीरेंद्र कुमार ने कभी नहीं किया विचारधारा से समझौता

केरल के सबसे बड़े मीडिया समूह मातृभूमि प्रकाशन के प्रबंध निदेशक, लोकप्रिय विधायक, सांसद और केंद्र सरकार में मंत्री रहे मनियानकोड़ी पद्मप्रभा वीरेंद्र कुमार की आज 28 मई 22 को दूसरी बरसी है। 82 वर्ष की उम्र में उनका देहांत...

समाजवादी नेता मधु लिमये का जन्मशताब्दी वर्ष धूम-धाम से मनाने की तैयारी

स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, गोवा मुक्ति आंदोलन के सिपाही, पुणे से बांका (बिहार) जाकर चुनाव जीतने की ताकत रखने वाले, 128 किताबों के रचनाकार प्रख्यात संसद विद मधु लिमये जी का यह जन्म शताब्दी वर्ष है। इसे मनाने की पहल...

भाजपा की जीत के बाद चुनौती और बड़ी हो गई है

पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजे आ गए हैं। पंजाब में आम आदमी पार्टी की ऐतिहासिक जीत हुई है जिसका अंदाजा किसी को नहीं था। एग्जिट पोल में भी जब यह बताया जा रहा था कि आम...

मुलताई पुलिस गोलीकांड के 24 वर्ष बाद भी जारी है किसान आंदोलन

12 जनवरी, 1998 का दिन किसानों की स्मृति में अमिट छाप छोड़ गया क्योंकि इस दिन मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने अतिवृष्टि से फसल नष्ट हो जाने के कारण मुआवजा और फसल बीमा की मांग को लेकर किसान...

कारपोरेट शक्ति पर लोक शक्ति की विजय का वर्ष

देश के किसानों के लिए यह वर्ष ऐतिहासिक आंदोलन की सफलता का वर्ष रहा। वर्ष की शुरुआत बॉर्डरों पर किसान आंदोलन पर सरकारों के बेबुनियाद आरोपों और फ़र्ज़ी मुकदमों से हुई। बॉर्डरों पर किसानों को हमले भी झेलने पड़े।...

स्मृति दिवस: मामा बालेश्वर ने कराया था रियासतों में बेगारी प्रथा और स्वतंत्र भारत में जागीरदारी प्रथा का खात्मा

मामाजी बालेश्वर दयाल जी का 26 दिसंबर को 23 वां स्मृति दिवस है। आज 25 दिसंबर की रात मामा जी के 25 हजार से ज्यादा अनुयायी राजस्थान से 3 दिनों से पदयात्रा करते हुए बामनिया भील आश्रम पहुंचेंगे, जहां...

किसान आंदोलन के चलते चौधरी चरण सिंह फिर बने चर्चा का केंद्र

चौधरी चरण सिंह को ईमानदार, गांधीवादी विचारधारा में यकीन रखने वाले, किसानों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध राजनेता के तौर पर  जाना जाता है। उन्हें किसानों के मसीहा के तौर पर देखा और माना जाता है। उनका देहांत 29...

पुण्यतिथि पर विशेष: भारतीय राजनीति के दधीचि थे सुरेन्द्र मोहन

समाजवादी चिंतक पूर्व सांसद सुरेंद्र मोहन जी से 1984 में दिल्ली पहुंचने के बाद लगातार मुलाकात होती थी। जनता दल में जनता पार्टी की तरह ही वे ही मुख्य भूमिका में थे। पार्टी की बैठक और सम्मेलनों में प्रस्ताव...

About Me

42 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

एंकर रोहित रंजन की गिरफ्तारी को लेकर छत्तीसगढ़ और नोएडा पुलिस के बीच नोक-झोंक, नोएडा पुलिस ने किया गिरफ्तार

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी के बयान को लेकर फेक न्यूज फैलाने के आरोप में छत्तीसगढ़ में दर्ज...