Monday, August 15, 2022

किसान संगठनों को बांटने के विभाजनकारी एजेंडे से बाज आए सरकार: किसान मोर्चा

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

एसकेएम ने संसद में भारत सरकार की प्रतिक्रिया कि उसे किसान आंदोलन में हुई मौतों के बारे में कोई जानकारी नहीं है और इसलिए वित्तीय सहायता का सवाल ही नहीं उठता, की निंदा की है। इसके साथ ही उसने चल रहे आंदोलन में 689 से अधिक शहीदों के परिजनों को मुआवजा और पुनर्वास की अपनी मांग को फिर से दोहराई है।

इस बीच उसका कहना है कि दिल्ली के मोर्चों पर अधिक ट्रैक्टर-ट्रॉलियों के साथ किसानों का विरोध स्थलों पर पहुंचना जारी है और संघर्ष जारी रहेगा। उसने बताया कि अधिक किसान आ रहे हैं ताकि सभी एक साथ विजयी होकर वापस जा सकें। एसकेएम ने किसानों और मीडिया से अपील की है कि वे विरोध प्रदर्शनों के बारे में फैलाए जा रहे झूठ पर विश्वास न करें – जैसा कि पहले घोषित किया गया था, एसकेएम 4 दिसंबर को अपनी बैठक आयोजित करेगा।

संयुक्त किसान मोर्चा ने नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार द्वारा, औपचारिक संवाद शुरू न करके, और लंबित मांगों के बारे में सरकार को याद दिलाने के लिए एसकेएम द्वारा भेजे गए पत्र का औपचारिक रूप से जवाब नहीं देकर, विरोध करने वाले किसानों को विभाजित करने के निरंतर प्रयासों की निंदा की है। मोर्चे का कहना है कि सरकार से अपनी मांगों के लिए किसान संगठन एकजुट हैं और एसकेएम सरकार से सभी आवश्यक विवरणों के साथ औपचारिक संवाद की प्रतीक्षा कर रहा है।

भारत सरकार, यह कहकर कि उसके पास किसी भी विरोध कर रहे किसानों की मौत का कोई रिकॉर्ड नहीं है, किसानों के भारी बलिदान का अपमान कर रही है। एसकेएम ने संसद में भारत सरकार की प्रतिक्रिया की निंदा की है जहां नरेंद्र सिंह तोमर ने एक लिखित उत्तर में कहा कि सरकार को किसान आंदोलन में मौतों के बारे में कोई जानकारी नहीं है और इसलिए वित्तीय सहायता का सवाल ही नहीं उठता। एसकेएम ने चल रहे आंदोलन में 689 से अधिक शहीदों के परिजनों को मुआवजा और पुनर्वास की अपनी मांग दोहराई।

इस बीच संयुक्त किसान मोर्चा ने दृढ़ता से स्पष्ट किया है कि दिल्ली के आसपास के मोर्चा स्थल पहले की तरह जारी हैं, और वास्तव में, अधिक ट्रैक्टर-ट्रॉली विरोध स्थलों पर पहुंच रहे हैं। एसकेएम ने सभी किसानों और मीडिया प्रतिनिधियों से अपील की कि वे विरोध प्रदर्शन समाप्त होने और लोगों द्वारा मोर्चा खाली करने के बारे में फैलाए जा रहे झूठ पर विश्वास न करें। यह कहना भी सही नहीं है कि एसकेएम के घटक संगठनों के बीच कोई दरार है।

इस बीच किसान नेताओं ने स्पष्ट किया है कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और राज्य के किसान संगठन के नेताओं के बीच कोई बैठक नहीं हुई है। हरियाणा एसकेएम की बैठक में, यह दोहराया गया कि जब तक सरकार द्वारा लंबित मांगों को पूरा नहीं किया जाता है, और उसके संबंध में औपचारिक संचार प्राप्त नहीं हो जाता है, तब तक आंदोलन जारी रहेगा। हरियाणा किसान संगठन 4 दिसंबर को अन्य घटकों की तरह एसकेएम की बैठक में शामिल होंगे, और उस दिन सामूहिक रूप से स्थिति का जायज़ा लिया जाएगा।

जारीकर्ता –

बलबीर सिंह राजेवाल, डॉ दर्शन पाल, गुरनाम सिंह चढूनी, हन्नान मोल्ला, जगजीत सिंह डल्लेवाल, जोगिंदर सिंह उगराहां, शिवकुमार शर्मा (कक्का जी), युद्धवीर सिंह, योगेंद्र यादव

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

कार्पोरेट्स के लाखों करोड़ की कर्जा माफ़ी क्या रेवड़ियां नहीं हैं मी लार्ड!

उच्चतम न्यायालय ने अभी तक यह तय नहीं किया है कि फ्रीबीज या रेवड़ियां क्या हैं, मुफ्तखोरी की परिभाषा क्या है? सुप्रीम...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This