Monday, August 8, 2022

तिकुनिया में शहीद किसानों का स्मारक बनेगा, टिकैत ने कहा-जब तक बापू-बेटा जेल में बंद नहीं होंगे, आंदोलन जारी रहेगा

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

तिकोनिया में घटनास्थल पर 5 किसानों का शहीदी स्मारक बनाया जाएगा। दिल्ली गुरुद्वारा प्रबंधन समिति लखीमपुर खीरी में पांच किसानों की याद में स्मृति स्थल बनाएगी। दिल्ली गुरुद्वारा मैनेजमेंट कमेटी की तरफ से संयुक्त किसान मोर्चा के डॉ. दर्शनपाल ने अंतिम अरदास मंच से यह ऐलान किया।

वहीं उत्तर प्रदेश के हर जिले और देश के हर राज्य में अस्थिकलश यात्रा जाएगी। साथ ही आज निकलने वाला अस्थिकलश विसर्जन कार्यक्रम के तहत 24 अक्टूबर को देश की सभी प्रमुख नदियों में मृतक किसानों की अस्थि का विसर्जन होगा। इसी दिन 10 से 4 बजे तक किसान देश में चक्का जाम करेंगे।

संयुक्त किसान मोर्चा ने आज अरदास सभा से पांच ऐलान किये जिसके तहत 15 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदर दास मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पूरे देश में पुतला फूंका जाएगा। वहीं तीन दिन बाद यानि 18 अक्टूबर को देश भर में ट्रेनें रोकी जाएंगी। 24 अक्टूबर को शहीद किसानों का अस्थि विसर्जन होगा। और 5 मृतक किसानों का तिकुनिया में शहीदी स्मारक बनाया जाएगा। और 26 अक्टूबर को राजधानी लखनऊ में महापंचायत होगी।

संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा है कि किसान आंदोलन को कमजोर करने के लिए भाजपा-आरएसएस साम्प्रदायिक राजनीति का प्रयोग कर रही हैं। आज लखीमपुर खीरी में हर समाज के लोगों ने श्रद्धांजलि सभा मे पहुँचकर भाजपा-आरएसएस के इस प्रयोग को नकारा है।

भारतीय किसान यूनियन प्रवक्ता राकेश टिकैत ने अरदास सभा में कहा कि अभी तक रेड कार्पेट गिरफ्तारी हुई है। आरोपियों को गुलदस्ता देकर बुलाया गया। मंत्री के रहमो-करम वाले पुलिस कैसे पूछताछ करेंगे? जब तक बापू बेटा जेल में बंद नहीं होंगे, जब तक मंत्री का इस्तीफा नहीं होगा। शांति पूर्व आंदोलन जारी रहेगा।

भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) नेता राकेश टिकैत ने मंगलवार को फिर कहा है कि हमारा आंदोलन अभी खत्म नहीं हुआ है। सरकार को केंद्रीय गृह मंत्री अजय मिश्र टेनी को बर्खास्त कर गिरफ्तार करना चाहिए वर्ना हमारा आंदोलन जारी रहेगा। वे लखीमपुर खीरी के तिकुनिया कांड में मारे गए पांच लोगों की याद में मंगलवार को अंतिम अरदास में शामिल होने आए थे। उन्होंने कहा है कि मंत्री अजय मिश्र और उनके बेटे आशीष मिश्र को तराई के बजाय आगरा जेल में भेजा जाए ताकि उनसे अच्छी तरह से पूछताछ की जा सके।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा नीचे से बैठकर किसानों को सुनती नज़र आईं। प्रियंका गांधी को मंच पर जगह नहीं मिली। राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष जयंत चौधरी तिकुनिया पहुंचे। जयंत किसानों की आत्मा की शांति के लिए अंतिम अरदास कार्यक्रम में शामिल हुए। जयंत चौधरी को भी मंच पर जगह नहीं दी गई।

तिकुनिया में संयुक्त किसान मोर्चा ने मंच से कहा कि हम प्रियंका गांधी, दीपेंद्र हुड्डा का स्वागत करते हैं। मगर हम लोगों का यह निर्णय है कि किसान संयुक्त मोर्चा का मंच किसी राजनैतिक व्यक्ति से साझा नहीं किया जाएगा।

तीस हजारी कोर्ट परिसर में श्रद्धांजलि सभा

वहीं आज प्रगतिशील महिला संगठन की लायर्स कमेटी की ओर से लखीमपुर खीरी के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए एक सभा की गई। SKM के देश भर में श्रद्धांजलि सभा और मोमबत्ती जुलूस के आह्वान पर आज यह सभा की गई । तीस हजारी कोर्ट परिसर में की गई इस सभा को PMSलायर्स यूनिट सचिव पूनम कौशिक और सदस्य कंचन के अतिरिक्त ऑल इंडिया लायर्स यूनियन के दिल्ली उपाध्यक्ष एडवोकेट सतेंद्र मिश्र ने संबोधित किया। सभा में शामिल बहुत से वकीलों ने फूल माला अर्पित कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। सभा में नारे लगाए गए लखीमपुर के शहीद अमर रहें,अजय मिश्रा इस्तीफा दो,अजय मिश्रा को गिरफ्तर करो,कंपनी राज नहीं चलेगा, कृषि कानून रद्द करो।

(जनचौक ब्यूरो की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

हर घर तिरंगा: कहीं राष्ट्रध्वज के भगवाकरण का अभियान तो नहीं?

आजादी के आन्दोलन में स्वशासन, भारतीयता और भारतवासियों की एकजुटता का प्रतीक रहा तिरंगा आजादी के बाद भारत की...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This