Wednesday, December 7, 2022

ऑक्सीजन को लेकर हर तरफ हाहाकार, कई अस्पताल नहीं भर्ती कर रहे हैं नये मरीज

Follow us:
Janchowk
Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

ऑक्सीजन की किल्लत पूरे देश में जारी है। तमाम अस्पतालों में ऑक्सीजन की बेहद कमी है और इसके लिए हाहाकार मचा हुआा है। दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल के निदेशक ने जानकारी दी है कि अस्पताल में पिछले 24 घंटे में 25 मरीजों की मौत हुई है। ऑक्सीजन का स्टॉक दो घंटे से ज़्यादा का नहीं है। वैंटिलेटर और Bipap प्रभावी ढंग से काम नहीं कर रहे हैं। ऑक्सीजन की तत्काल आवश्यकता है। 60 अन्य बीमार मरीजों की जान जोखिम में है।

इससे पहले कल रात आठ बजे भी सर गंगाराम अस्पताल के निदेशक ने ट्वीट करके ऑक्सीजन की अनुपलब्धता की बात कही थी। ट्वीट में लिखा था, रात 8 बजे हैं, स्टोर में ऑक्सीजन एक बजे तक परिधीय उपयोग के लिए और उच्च प्रवाह उपयोग के लिए 5 घंटे से कम का स्टॉक है। अस्पताल में उच्च प्रवाह ऑक्सीजन समर्थन पर 142 रोगियों के साथ 510 कोविड-19 रोगियों को भर्ती कराया गया है। हमें ऑक्सीजन की आपूर्ति की सख्त ज़रूरत है।

वहीं कल रात आकाश हेल्थ केयर के सीओओ डॉ. केए शाह ने मीडिया के सामने आकर कहा था, “यहां 233 कोविड मरीज भर्ती हुए, जिनमें से 75% पूरी तरह से ऑक्सीजन पर जीवित हैं। हमारे पास केवल 1-1.5 घंटे का ऑक्सीजन बचा है और सख्त ज़रूरत है। ऑक्सीजन आपूर्ति के साथ विभिन्न राज्यों से आने वाले टैंकरों को उनके राज्यों से आने की अनुमति नहीं है।”

वहीं दिल्ली के शांति मुकुंद अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी हुई। एक मरीज के परिजन ने मीडिया को बताया कि डॉक्टर कह रहे हैं कि अगर सरकार समय पर ऑक्सीजन प्रदान करेगी तो हम मरीज का इलाज करेंगे, नहीं तो रोगी को छुट्टी दे देंगे।

कल रात ही नोएडा के कैलाश अस्पताल प्रबंधन ने कहा था कि उनके पास ऑक्सीजन का बहुत कम स्टॉक है, जो केवल कुछ और घंटों तक चलेगा। ग्रुप मेडिकल डायरेक्टर डॉ. रितु बोहरा ने कहा, “हमारे पास गौतमबुद्ध नगर में चार अस्पताल हैं, सभी में संकट है। हमें बताया गया है कि हम अगले 36 घंटे के बाद आपूर्ति प्राप्त करेंगे। हमने मरीज भर्ती करने पर रोक लगा दी है।”

जबकि कल दिल्ली हाई कोर्ट के दखल के बाद दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) ने दिल्ली भर में ऑक्सीजन की आपूर्ति और आवंटन के बारे में नए निर्देश जारी किए हैं। इसमें कहा गया है कि समय-समय पर जारी किए गए आवंटन आदेशों के अनुसार सभी स्वास्थ्य प्रतिष्ठानों को आवंटन और ऑक्सीजन आपूर्ति को सख्ती से विनियमित किया जाएगा।

दिल्ली सरकार ने छतरपुर में सरदार पटेल कोविड केयर सेंटर को फिर से चालू करने के लिए गृह मंत्रालय (एमएचए) से चिकित्सा अधिकारियों और पैरामेडिकल स्टाफ की मांग की थी, जिसे फिर से चालू किया जा रहा है। MHA ने सुविधा के संचालन के लिए ITBP को नोडल फोर्स के रूप में नामित किया है।

वहीं आईटीबीपी के डीजी एसएस देशवाल ने कहा, “जब भी दिल्ली सरकार तैयार होगी और हमें पूरा बुनियादी ढांचा प्रदान करेगी, हम तुरंत छतरपुर में सरदार पटेल कोविड केंद्र का संचालन शुरू करेंगे। गौरतलब है कि गृह मंत्रालय की ओर से भी कहा गया है कि सरदार पटेल कोविड केंद्र, दिल्ली के छतरपुर में 500 ऑक्सीजन वाले बेड के लिए पर्याप्त संख्या में चिकित्सा अधिकारी और पैरा मेडिकल स्टॉफ उपलब्ध कराने का निर्णय लिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

क्यों ज़रूरी है शाहीन बाग़ पर लिखी इस किताब को पढ़ना?

पत्रकार व लेखक भाषा सिंह की किताब ‘शाहीन बाग़: लोकतंत्र की नई करवट’, को पढ़ते हुए मेरे ज़हन में...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -