Sunday, January 29, 2023

एक बीमार समाज से स्वामी अग्निवेश का जाना

Follow us:
प्रदीप सिंह
प्रदीप सिंहhttps://janchowk.com
दो दशक से पत्रकारिता में सक्रिय और जनचौक के राजनीतिक संपादक हैं।

ज़रूर पढ़े

स्वामी अग्निवेश अंतत: दुनिया से कूच कर गये। स्वामी जी लंबे समय से बीमार थे और कुछ दिनों पहले उन्हें दिल्ली के इंस्टीट्यूट ऑफ लिवर एंड बिलेरी साइंसेज (आईएलबीएस) में भर्ती कराया गया था। पिछले डेढ़ वर्षों से आईएलबीएस में भर्ती होने और फिर निकल कर ताज अपार्टमेंट या गुरुग्राम के बहलपा आश्रम जाने का सिलसिला चल रहा था, जो आज थम गया। डॉक्टरों के मुताबिक, शाम 6 बजकर 30 मिनट पर दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हुआ है। लेकिन यह बात सही नहीं है। एक बीमार समाज ने कदम-कदम पर स्वामी अग्निवेश की राह में रोड़े अटकाए। मजबूत इरादे और वैज्ञानिक सोच के इस व्यक्ति के हौसले को जब वे तोड़ नहीं सके तो उन पर प्राणघातक हमला किया। 

एक संपन्न, प्रगतिशील और धनाड्य परिवार में जन्मे और कोलकाता के सेंट जेवियर्स कॉलेज में शिक्षा और अध्यापन करने वाले वेपा श्याम राव ने भारत की समस्या को अपने युवावस्था में ही पहचान लिया था। जन्मना जातिवाद, ऊंच-नीच और गरीब-अमीर के भेदभाव से ग्रस्त होकर बीमार हुये समाज को वे बुद्धिवाद, तर्क, आधुनिकता-प्रगतिशील और वैज्ञानिक सोच से स्वस्थ करना चाहते थे और आजीवन इसके लिये संघर्ष भी करते रहे। लेकिन बीमार को दवा कड़वी लगती है।

कांग्रेस का शासन हो या किसी दूसरे दल का, भारत का शासक वर्ग इस जातिवादी, सांप्रदायिक और पूंजीवादी बीमारी का उपचार करने के बजाय उसे नजरंदाज करने और पर्दे के पीछे उससे गठजोड़ करने की राह पर चलता रहा है। लेकिन 2014 से देश में सत्तारूढ़ संघ-भाजपा की सरकार इस जातिवादी, सांप्रदायिक बीमारी का इलाज करने की बजाय उसे बढ़ाने में लगी है। जिसके परिणामस्वरूप स्वामी अग्निवेश जैसे अंतरराष्ट्रीय ख्याति की शख्सियत पर प्राणघातक हमला किया गया। यह घटना एक बार नहीं दो-दो बार हुई। आश्चर्य की बात यह है कि झारखंड और दिल्ली में दोनों जगहों पर हमला करने वाले संघ-भाजपा के कार्यकर्ता-नेता थे। लेकिन आज तक उन पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। 

स्वामी जी के असमय निधन का प्रमुख कारण संघ-भाजपा राज्य में उन पर होने वाला प्रायोजित हमला है। पिछले दिनों जिस तरह से झारखंड और दिल्ली में दो-दो बार संघ-भाजपा के गुंडों ने उन पर प्राण घातक हमला किया उससे स्वामी अग्निवेश जी के स्वाभिमान और आत्मसम्मान को गहरी ठेस लगी थी। जीवन भर एक आदर्श एवं वैज्ञानिक विश्व का सपना देखने वाले शख्स के लिये यह असहनीय था। 

jharkhand

स्वामी अग्निवेश के नाम से तो मैं लंबे समय से परिचित था लेकिन 2006 में दिल्ली आने के बाद अकसर उनसे मुलाकातें होती रहती थीं। लेकिन 2018 में यथावत पत्रिका छोड़ने के बाद उनके साथ काम करने का मौका मिला और उनको नज़दीक से जानने का भी। जून, 2019 में एक दिन अचानक उनको फोन किया और उनके सहयोगी अशोक जी ने फोन रिसीव किया। थोड़ी देर में स्वामी जी का फोन आया और ताज अपार्टमेंट आने का हुक्म दिया। बातचीत के क्रम में जब उन्हें मालूम हुआ कि मैं यथावत को छोड़ चुका हूं तो घबराने की बात न कह कर आगे की योजना के बारे में पूछा। 

फिलहाल ये लंबी कहानी है…. आगे मैं उस बीमारी का जिक्र करना चाहूंगा जिसकी चपेट में आने के बाद स्वामी जी फिर नहीं उबर पाये। 17 जुलाई, 2018 को झारखंड के पाकुड़ जिले में संघी फासिस्टों के हमले ने अग्निवेश के ह्रदय को छलनी कर दिया था वह घाव भर रहा था कि 17 अगस्त, 2018 को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को भाजपा मुख्यालय पर श्रद्धांजलि देने जाते समय हमला किया गया। उक्त दोनों घटनाओं ने उनके मनोविज्ञान को गहरे प्रभावित किया और वह गुमशुम रहने लगे। 

इस दौरान हमारी मुलाकातों का क्रम बढ़ा और एक नहीं कई बार स्वामी जी ने मुझसे कहा, “ प्रदीप जी इन दोनों हमलों ने मुझे तोड़ कर रख दिया है, लगता है कि मैं बीमार हो गया हूं और अब ठीक नहीं होऊंगा।”

एक दिन तो दो-तीन घंटे की मुलाकात में कई बार उपरोक्त कथन को उन्होंने दोहराया और मुझे झुंझलाहट जैसी हो गयी। मैंने कहा कि, “आप को कुछ नहीं हुआ है। दोनों घटनाओं को भूल जाइये।” स्वामी जी ने कहा कि, “कैसे भूल जाऊं, नहीं भूलता।”

swamy atal

स्वामी अग्निवेश के नाम से परिचय तो पहली बार किताबों और पत्र-पत्रिकाओं को पढ़ने से मिला। कानून और सामान्य ज्ञान की पुस्तकों को पढ़ने के दौरान बंधुआ मुक्ति मोर्चा और स्वामी अग्निवेश का नाम कई बार आंखों के सामने से गुजरा। पत्थर खदानों में मजदूरों के शोषण उत्पीड़न की जब भी कोई खबर आती तो स्वामी जी का नाम ज़रूर किसी न किसी संदर्भ में वहां मौजूद रहता। लेकिन मेरे मन-मष्तिष्क में एक सवाल सहज ही उठता। यह सवाल एक स्वामी का किसी आंदोलन से जुड़ने का था।

कहां एक संन्यासी और कहां बंधुआ मजदूरों के हक की लड़ाई। एक संन्यासी जो सांसारिक-पारिवारिक जीवन को त्याग कर मजदूरों के अधिकारों की लड़ाई पत्थर खदानों से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक लड़ रहा हो। साधुओं-संन्यासियों और मठाधीशों की एक परंपरागत छवि और व्यवहार के कारण मेरा मन-मष्तिष्क यह स्वीकार नहीं कर पाता था कि स्वामी अग्निवेश जैसा भगवा धारण करने वाला व्यक्ति सड़क से लेकर अदालत तक मजदूरों के लिए संघर्ष कर सकता है। 

कई बार स्वामी जी से मिलने की इच्छा हुई लेकिन छात्र जीवन और उसकी सीमाओं के चलते मैंने उनसे मिलने का कोई ठोस उपाय नहीं किया। छात्र जीवन में मां-बाप के सपनों की गठरी सिर पर लिए हुए मैं इलाहाबाद में सिर्फ योजनाएं बनाते रह गया। 

विश्वविद्यालय में अध्ययन के दौरान मैं छात्र संगठन आइसा से जुड़ा था। मार्च 1997 की बात है। बिहार के सीवान जिले में जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष चंद्रशेखर प्रसाद की अपराधी छवि के राजद सांसद शहाबुद्दीन ने दिन-दहाड़े गोली मार कर हत्या कर दी। चंद्रशेखर की शहादत के बाद समूचे उत्तर भारत के विश्वविद्यालयों में छात्रों में आक्रोश व्याप्त था। इसी कड़ी में दिल्ली के सप्रू हाउस में एक कन्वेंशन आयोजित किया गया था।

हम लोग इलाहाबाद से चंद्रशेखर की शहादत के उपलक्ष्य में दिल्ली के सप्रू हाउस आए हुए थे। भाकपा-माले के साथ ही सारे लेफ्ट दलों के नेता इस कन्वेंशन में शामिल थे। जिसमें विनोद मिश्र, दीपंकर भट्टाचार्य, गीता मुखर्जी, रवि किरण जैन, विभूति नारायण राय आदि का नाम याद आ रहा है। वक्ताओं में स्वामी अग्निवेश भी थे। उस श्रद्धांजलि समारोह में स्वामी अग्निवेश राजनीति-पूंजी-धर्म और अपराधियों के गठजोड़ का मुद्दा उठाया। 

फिलहाल, स्वामी जी इस समय सभी धर्मों के पाखंड, अंधविश्वास, सांप्रदायिकता और पूंजीवादी शोषण के खिलाफ संघर्ष की अलख जगा रहे थे। उनका जाना भारत ही नहीं समूचे विश्व की मानवता के लिये अपूर्णीय क्षति है। हृदय की गहराइयों से उनको नमन!

(नोट- स्वामी अग्निवेश जी, जिनका लीवर खराब होने के कारण ILBS अस्पताल दिल्ली में भर्ती कराया गया था। डॉक्टरों की एक टीम ने अपने स्तर पर सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया है। ILBS के निदेशक डॉ. शिव सरीन ने 6.45pm, 11 सितंबर 2020 को घोषित किया कि हमारे सबसे प्रिय और सबसे अच्छे दोस्त अब नहीं रहे। उनके पार्थिव शरीर को सुबह 11 बजे से दोपहर 2 बजे तक अंतिम सार्वजनिक श्रद्धांजलि के लिए दिल्ली, 7 जंतर-मंतर रोड स्थित कार्यालय में रखा जाएगा। हम अपने सभी मित्रों से अनुरोध करते हैं कि कोविद शासन का पालन करते हुए, उपर्युक्त पते पर अपनी अंतिम श्रद्धांजलि अर्पित करें। उनका अंतिम संस्कार 12 सितंबर को , शाम को 4 बजे, अग्निलोक आश्रम, बहलपा, जिला गुरुग्राम में संपन्न होगा।।

स्वामी आर्यवेश
कार्यवाहक अध्यक्ष बंधुआ मुक्ति मोर्चा और सार्वदेशिक आर्य प्रतिनिधि सभा,

विट्ठल राव आर्य
पूर्व महासचिव बंधुआ मुक्ति मोर्चा और सार्वदेशिक आर्य प्रतिनिधि सभा के सचिव,)

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

‘थ्री इडियट्स’ के ‘वांगड़ू’ हाउस अरेस्ट, कहा- आज के इस लद्दाख से बेहतर तो हम कश्मीर में थे

लद्दाख में राजनीति एक बार फिर गर्म हो गयी है। सूत्रों के मुताबिक लद्दाख प्रशासन ने प्रसिद्ध इनोवेटर 'सोनम वांगचुक' के...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x