Wednesday, August 10, 2022

किसान मोर्चा कल पूरे देश में मनाएगा ‘शहीद किसान दिवस’, लखीमपुरखीरी में होगा बड़ा आयोजन

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

नई दिल्ली। एसकेएम के आह्वान पर 12 अक्तूबर पूरे भारत में ‘शहीद किसान दिवस’ के रूप में मनाया जाएगा। कल लखीमपुर खीरी हत्याकांड के शहीदों की अंतिम अरदास तिकुनिया में साहेबजादा इंटर कॉलेज में होगी। इस प्रार्थना सभा में हजारों किसानों के शामिल होने की उम्मीद है और सभी किसान संगठन मिलकर उसी की तैयारी कर रहे हैं। एसकेएम ने देश भर के किसान संगठनों और अन्य प्रगतिशील समूहों से पूरे देश में प्रार्थना और श्रद्धांजलि सभा आयोजित करके शहीद किसान दिवस को यादगार बनाने की अपील की है। शाम को एसकेएम के आह्वान पर मोमबत्ती मार्च आयोजित किया जाएगा। एसकेएम ने लोगों से कल रात 8 बजे अपने घरों के बाहर 5 मोमबत्तियां जलाने का आग्रह किया है।

संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा कि अजय मिश्रा टेनी को अभी तक बर्खास्त नहीं किया जाना मोदी सरकार के लिए शर्म की बात है। उसने कहा कि लखीमपुर खीरी की घटनाओं के बाद अजय मिश्रा टेनी के पहले के आपराधिक मामलों का इतिहास लोगों की नजरों में आ गया है, यह स्पष्ट है कि लखीमपुर खीरी हत्याकांड में भी उनकी भूमिका थी। उन्हीं के वाहन उस काफिले में थे जिसने निर्दोष लोगों को कुचल कर मार डाला। तराई क्षेत्र के अल्पसंख्यक सिखों के खिलाफ 25 सितंबर को दिए गए उनके भाषण से यह स्पष्ट होता है कि अजय मिश्रा टेनी ने दुश्मनी, घृणा और द्वेष को बढ़ावा देने की कोशिश की थी।
उनका भाषण डराने-धमकाने वाला था, वो भी एक जनसभा में जहां वे गर्व से अपने आपराधिक इतिहास का भी जिक्र कर रहे थे। इस आधार पर अब तक कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए थी, जिससे लखीमपुर खीरी हत्याकांड के पूरे प्रकरण को रोका जा सकता था।

यह भी स्पष्ट है कि उन्होंने अपने बेटे आशीष मिश्रा को गिरफ्तार होने से बचाने की पूरी कोशिश की। यह स्पष्ट है कि केंद्रीय मंत्रिपरिषद में एक मंत्री के रूप में उनका बने रहना, नरेंद्र मोदी द्वारा अपराधियों को शरण देना, नरेंद्र मोदी की केंद्र सरकार की विश्वसनीयता को कम करने की तत्परता, या सार्वजनिक जीवन में नरेंद्र मोदी के अहंकार को नैतिकता से अधिक महत्वपूर्ण मानना, के रूप में ही देखा जा सकता है। इस तरह के अहंकार के कारण किसानों के आंदोलन को अपना विरोध प्रदर्शन जारी रखना पड़ रहा है, जिसके पिछले साल लाखों किसानों के पहली बार दिल्ली की सीमाओं पर पहुंचे ग्यारह महीने हो चुके हैं। संयुक्त किसान मोर्चा ने अजय मिश्रा टेनी को बर्खास्त करने और गिरफ्तार करने का 11 तारीख का अल्टीमेटम पहले ही जारी कर दिया था। कल लखीमपुर खीरी में नरसंहार के शहीदों के लिए आयोजित प्रार्थना सभाओं में एसकेएम अपनी घोषित कार्ययोजना को आगे बढ़ायेगा। एसकेएम ने एक बार फिर दोहराया कि भाजपा-आरएसएस के सांप्रदायिक कार्ड खेलने से किसान आंदोलन को न तो खत्म किया जा सकता है और न ही कमजोर किया जा सकता है, और देश के किसान संघर्ष में एकजुट हैं।

आज लखीमपुर खीरी में सत्र न्यायालय में सुनवाई के बाद आशीष मिश्रा टेनी को 3 दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है, जबकि यूपी एसआईटी ने 14 दिनों के लिए उसकी हिरासत मांगी है। एसकेएम ने कहा कि यह काफी चौंकाने वाली बात है कि उत्तर प्रदेश पुलिस ने उसके साथियों को बच कर भागने की अनुमति दे दी है। आशीष मिश्रा ने भी पुलिस द्वारा पूछताछ किए जाने से पहले हलफनामे और पेन ड्राइव के साथ पहुंच कर अपना बचाव करने की कोशिश की। अब तक जिस तरह से गिरफ्तारियों की जांच और पुलिस की कार्रवाई सामने आई है, उससे जाहिर है कि यूपी पुलिस और प्रशासन पर छोड़ दिया गया न्याय अभी बहुत दूर है। एसकेएम ने यूपी सरकार को किसी भी सबूत से छेड़छाड़ के खिलाफ चेतावनी दी, और एक बार फिर मांग की कि इस मामले में जांच तंत्र को सीधे सुप्रीम कोर्ट को रिपोर्ट करना चाहिए।

जहां पंजाब भाजपा के एक नेता ने हिंदू त्योहारों के दिन एसकेएम के विरोध कार्यों पर सवाल उठाया है, एसकेएम ने कहा कि वह भाजपा को याद दिलाना चाहता है कि दशहरा बुराई पर सच्चाई और अच्छाई की जीत का त्योहार है। एसकेएम द्वारा दिया गया आह्वान दशहरे की इसी भावना को प्रतिबिंबित करेगा, और एसकेएम का दिन के अन्य उत्सवों के रास्ते में आने का कोई इरादा नहीं है। किसान आंदोलन ने वास्तव में सभी धर्मों के मूल्यों को अपनाया है और सभी धर्मों के किसानों के बीच एकता और बंधन को बढ़ाया है। एसकेएम की कार्रवाई सरकार और भाजपा के खिलाफ है। आंदोलन में किसान दशहरा मनाएंगे और 15 अक्तूबर को भाजपा नेताओं के पुतले दहन में भी शामिल होंगे। एसकेएम ने पहले ही घोषणा कर दी है कि 12 अक्तूबर के बाद की कार्रवाई अजय मिश्रा टेनी को गिरफ्तार और बर्खास्त नहीं करने की स्थिति में है, और अब यह सुनिश्चित करना भाजपा सरकारों की जिम्मेदारी है कि न्याय सुनिश्चित हो।

सत्तारूढ़ महाराष्ट्र विकास अघाड़ी ने लखीमपुर खीरी में किसानों की हत्या के खिलाफ आज महाराष्ट्र में राज्यव्यापी बंद की घोषणा की। एसकेएम की भी रिपोर्ट बता रही है कि बंद सफल रहा।

उत्तर प्रदेश पुलिस कई किसानों और किसान नेताओं को लखीमपुर खीरी जाने से रोकने के लिए घेराबंदी कर रही है। प्रयागराज के बारा में कई एआईकेएमएस के नेताओं को अवैध रूप से हिरासत में लिए जाने की खबरें आई हैं। रिपोर्टों से संकेत मिलता है कि उत्तर प्रदेश सरकार एसकेएम के आह्वान के अनुसार किसानों के विरोध की प्रत्याशा में पुलिस और अर्धसैनिक बलों को तैनात कर रही है। यह वास्तव में खेदजनक है कि कार्रवाई का आश्वासन देने के बजाय जो न्याय बहाल करे और इस तरह विरोध प्रदर्शन को खत्म करे, यूपी सरकार भाजपा से जुड़े दोषियों को बचाने के अपने प्रयास में, सही कार्रवाई के अभाव में हो रहे विरोध प्रदर्शन के खिलाफ तैयारी कर रही है।

लखीमपुर खीरी किसान हत्याकांड खुद भाजपा नेताओं को शर्मसार और असहज करने वाला है, भले ही पार्टी द्वारा कोई सख्त कार्रवाई नहीं की जा रही हो। यह भाजपा सांसद वरुण गांधी के और यूपी राज्य भाजपा अध्यक्ष के बयानों से स्पष्ट है, जिन्होंने इस घटना को सांप्रदायिक विभाजन पैदा करने वाली घटना के रूप में देखा है।

किसानों का विभिन्न जगहों पर भाजपा नेताओं और उनके कार्यक्रमों के खिलाफ प्रदर्शन जारी है। जींद में कल भाजपा की एक कार्यशाला के विरोध में जींद-पानीपत राजमार्ग पर शांतिपूर्ण जाम लगा रहा। खबर है कि इस आयोजन से भाजपा नेताओं और भाजपा के कुछ विधायकों को पिछले दरवाजे से छिप कर भागना पड़ा। हरियाणा के एलेनाबाद में भाजपा-जजपा उम्मीदवार गोविंद कांडा को किसानों के गुस्से का सामना करना पड़ा। इस बीच चंडीगढ़ में खबर है कि भाजपा नेताओं के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया और पीटा है।

गांधी जयंती पर चंपारण में शुरू हुई लोकनीति सत्याग्रह पदयात्रा उत्तर प्रदेश में प्रवेश कर गई है। सैकड़ों प्रदर्शनकारियों का पैदल मार्च 20 अक्तूबर को पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंचेगा। कल यात्रा सीताब दियारा (लोकनायक जयप्रकाश नारायण के पैतृक गांव) पहुंची और दुबे छपरा में रात बिताई।

इंदिरा गांधी द्वारा लगाए गए आपातकाल के संदर्भ में संपूर्ण क्रांति का आह्वान करने वाले स्वतंत्रता सेनानी, समाजवादी और राजनेता, भारत रत्न लोकनायक जयप्रकाश नारायण की आज 119वीं जयंती है। संयुक्त किसान मोर्चा ने इस अवसर पर लोकनायक को सम्मान के साथ याद किया है।

हरियाणा के गोहाना में किसानों ने राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को 13 अक्तूबर को गोहाना में एक कार्यक्रम में भाग लेने के खिलाफ चेतावनी दी है, और कहा है कि अगर सीएम कार्यक्रम में शामिल होते हैं तो वे काले झंडे से विरोध करेंगे।

(प्रेस विज्ञप्ति पर आधारित।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

शिशुओं का ख़ून चूसती सरकार!  देश में शिशुओं में एनीमिया का मामला 67.1%

‘मोदी सरकार शिशुओं का ख़ून चूस रही है‘ यह पंक्ति अतिशयोक्तिपूर्ण लग सकती है पर मेरे पास इस बात...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This