Monday, August 8, 2022

लखीमपुर खीरी में केंद्रीय मंत्री के काफिले ने किसानों को कुचला, 4 किसानों की मौत, 18 घायल

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

लखीमपुर खीरी में तीन केंद्रीय कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे किसानों पर केंद्रीय राज्य मंत्री के काफिले की गाड़ियों ने कई किसानों को पहियों तले कुचल दिया है। जिसमें 4 किसानों की मौत हो गई। जबकि डेढ़ दर्जन से अधिक लोग घायल बताए जा रहे हैं। घटना के बाद मौके पर मौजूद किसानों ने उनके साथियों को कुचलने वाली दोनों गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया।
 संयुक्त किसान मोर्चा का आरोप है कि लखीमपुर खीरी के सांसद और गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी के पुत्र आशीष ने किसानों पर कार चढ़ायी है। कार चालक ने किसानों पर पीछे से गाड़ी चढ़ाई। जिसमें 4 किसानों की मौत हो गई। 

जबकि भारतीय किसान यूनियन ने दावा किया है कि घटना में तीन किसान मारे गए हैं। यह किसान मंत्री के खिलाफ प्रदर्शन करने जा रहे थे। हादसे के बाद हंगामा शुरू हो गया है। मौके पर तीन गाड़ियों में आग लगा दी गई है। किसान संगठन का कहना है कि राकेश टिकैत भी गाजीपुर से लखीमपुर खीरी के लिए निकल रहे हैं। 

कार्यक्रम स्थल पर जा रहे उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य का काफिला हादसे के बाद वापस हो गया है।बता दें कि केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी के गांव बनवीर में रविवार को डिप्टी सीएम केशव प्रसाद पहुंचने वाले थे। किसानों ने गांव के मैदान में बने हेलिपैड पर क़ब्ज़ा कर लिया। किसानों का समूह केंद्रीय मंत्री और उप मुख्यमंत्री को काले झंडे दिखाने के लिए खड़े हुए थे। 

किसानों को कुचल कर मारने के बाद किसानों के आक्रोश को देखते हुये मौके पर भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। एडीजी जोन लखनऊ एसएन साबत ने सूचना दी है कि अब तक 2 लोगों के मौत की सूचना है। तीन लोग घायल हैं। मौके पर आईजी रेंज लखनऊ लक्ष्मी सिंह भेजी गईं हैं। घटना को काबू करने के लिए आसपास के थानों की फोर्स को भी लगाया गया है।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस प्रभारी प्रियंका गांधी ने प्रतिक्रिया देते हुये कहा है – “भाजपा देश के किसानों से कितनी नफ़रत करती है? उन्हें जीने का हक नहीं है? यदि वे आवाज उठाएँगे तो उन्हें गोली मार दोगे, गाड़ी चढ़ाकर रौंद दोगे? बहुत हो चुका। ये किसानों का देश है, भाजपा की क्रूर विचारधारा की जागीर नहीं है। किसान सत्याग्रह मजबूत होगा और किसान की आवाज और बुलंद होगी।
राष्ट्रीय लोकदल के जयंत चौधरी ने प्रतिक्रिया देते हुये कहा है – “लखीमपुर खीरी से दिल दहलाने वाली खबरें आ रहीं हैं!केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा का क़ाफ़िला आंदोलनकारी किसानों पर चढ़ा दिया गया! 2 किसानों की मौत हो गई और कई घायल हैं।
विरोध को कुचलने का काला कृत्य जो किया है, साज़िश जब गृह मंत्री रच रहे हैं, फिर कौन सुरक्षित है?

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि “कृषि कानूनों का शांतिपूर्ण विरोध कर रहे किसानों को भाजपा सरकार के गृह राज्यमंत्री के पुत्र द्वारा, गाड़ी से रौंदना घोर अमानवीय और क्रूर कृत्य है। उप्र दंभी भाजपाइयों का ज़ुल्म अब और नहीं सहेगा। यही हाल रहा तो उप्र में भाजपाई न गाड़ी से चल पाएंगे, न उतर पाएंगे। “

बसपा अध्यक्ष मायावती ने घटना की निंदा करते हुए कहा कि “यूपी के जिला लखीमपुर खीरी में 3 कृषि कानूनों की वापसी की माँग को लेकर आन्दोलन कर रहे किसानों पर केन्द्रीय मंत्री के पुत्र द्वारा कथित तौर पर कई किसानों की गाड़ी से रौंद कर की गई हत्या अति-दुःखद। यह भाजपा सरकार की तानाशाही व क्रूरता को दर्शाता है जो कि इनका असली चेहरा भी है”।उन्होंने सुप्रीम कोर्ट से स्वतः संज्ञान लेने की अपील करते हुये कहा है कि ” इस घटना के सम्बंध में भी पीड़ितों को सरकार से उचित न्याय मिलने की उम्मीद नहीं है। इसलिए माननीय सुप्रीम कोर्ट इस दुःखद घटना का स्वंय ही संज्ञान ले, बीएसपी की यह माँग”। साथ ही, बीएसपी के स्थानीय प्रतिनिधिमण्डल को भी घटनास्थल पर जाने का निर्देश दिया है।

राकेश टिकैत ने कहा है कि लखीमपुर खीरी में हुई घटना बहुत ही दुखद है। ‌इस घटना ने सरकार के क्रूर और अलोकतांत्रिक चेहरे को एक बार फिर उजागर कर दिया है। किसान आंदोलन को दबाने के लिए सरकार किस हद तक गिर सकती है, सरकार और सरकार में बैठे लोगों ने आज फिर बता दिया। लेकिन सरकार भूल रही है कि अपने हक के लिए हम मुगलों और फिरंगियों के आगे भी नहीं झुके। सरकार किसान के धैर्य की और परीक्षा न ले। किसान मर सकता है पर डरने वाला नहीं है। सरकार होश में आए और किसानों के हत्यारों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तारी सुनिश्चित करे। किसानों से अपील है कि शांति बनाए रखें, जीत किसानों की ही होगी। सरकार होश में ना आई तो भाजपा के एक भी नेता को घर से नहीं निकलने दिया जाएगा।

इस बीच खबर आ रही है कि कांग्रेस महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी कल लखीमपुर खीरी का दौरा कर सकती हैं। उनके साथ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के भी रहने की सम्भावना जताई जा रही है।


तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

हर घर तिरंगा: कहीं राष्ट्रध्वज के भगवाकरण का अभियान तो नहीं?

आजादी के आन्दोलन में स्वशासन, भारतीयता और भारतवासियों की एकजुटता का प्रतीक रहा तिरंगा आजादी के बाद भारत की...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This