Tuesday, July 5, 2022

बीएचयू में ज्यादा खर्च पर घटिया स्वास्थ्य सेवाएं कमीशनखोरी की देन: डॉ ओमशंकर

ज़रूर पढ़े

वाराणसी। सर सुंदरलाल अस्पताल (बीएचयू) में हृदय रोग विभाग के कैथ लैब  स्थित अमृत फार्मेसी द्वारा मरीजों से मुनाफा कमाने के विरोध में हृदय रोग विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. ओमशंकर ने मोर्चा खोल दिया है। बीते दिनों अमृत फार्मेसी को जगह ख़ाली करने की नोटिस जारी करने वाले डॉ. ओमशंकर का कहना है कैथलैब में अवैध तरीके से चल रही फार्मेसी की कार्यप्रणाली अविश्वसनीय और संदिग्ध है। अस्पताल के ही कुछ लोगों से साठगांठ कर फार्मेसी मरीजों का दोहन कर रहा है। जिसका एक बड़ा हिस्सा कमीशनखोरों की जेब में पहुंचाया जा रहा है और मरीज लुट रहा है।

उन्होंने दावा किया था कि जिस एंजियोप्लास्टी को करने में 30 हजार खर्च आते हैं। उसी एंजियोप्लास्टी के 50 हजार क्यों? फार्मेसी और कमीशनखोरों के दो पाटों के बीच मरीज के परिजन क्यों पिसते रहे? उनका कहना है कि एंजियोप्लास्टी इतनी सस्ती होनी चाहिए कि एक गरीब रिक्शे वाले को इसमें दिक्कत न आए।

उन्होंने कहा कि तकरीबन दस दिन पहले मैंने अमृत फार्मेसी को जगह ख़ाली करने की नोटिस दी थी उसका कोई जवाब नहीं आया तो मैंने फिर उसे नोटिस भेजी जिसे अमृत फार्मेसी ने रिसीव नहीं किया। मैंने स्पीड पोस्ट के जरिए उस नोटिस को भेजा है।

इस मामले में फिलहाल पीआरओ के माध्यम से सर सुंदरलाल अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ के.के गुप्ता द्वारा विज्ञप्ति जारी किए जाने के बाद मुद्दा और गर्मा गया है। डॉ ओमशंकर का कहना है चिकित्सा अधीक्षक झूठा और भ्रामक जानकारी देकर विश्वविद्यालय और उसकी गरिमा को ठेस पहुंचा रहे हैं उन्होंने मीडिया को जारी प्रेस विज्ञप्ति का खंडन करते हुए कहा है कि चिकित्सा अधीक्षक ने विज्ञप्ति में जो कुछ कहा है वो खुद में सवाल है। वैसे देखें तो डॉ ओमशंकर जो कुछ कह रहे है उसे नजर अंदाज़ करना मुश्किल है। उन्होंने कहा कि प्रेस विज्ञप्ति में अधीक्षक महोदय का दावा है कि अस्पताल के अंदर सभी जगहों पर पारदर्शिता के साथ टेंडर जारी कर दुकानें खोलने की अनुमति दी गई है जो पूरी तरह से गलत है।

डॉ ओमशंकर ने चिकित्सा अधीक्षक से उस आवंटन की छायाप्रति की मांग की है जिसके जरिए हृदय रोग विभाग के कैथ लैब में अमृत फार्मेसी को जगह दी गई। इतना ही नहीं उन्होंने पूछा है कि अगर अस्पताल के किसी कमेटी ने अमृत फार्मेसी को हृदय रोग विभाग में दुकान आवंटित किया है तो उसकी छाया प्रति भी अधीक्षक महोदय दें। डॉ. ओमशंकर कहते हैं कि विज्ञप्ति में अधीक्षक महोदय ने अमृत फार्मेसी के पक्ष में झूठ बोला है एक तरफ अधीक्षक महोदय कहते हैं कि कार्डियोलॉजी विभाग के परिसर में कोई भी दवा की दुकान संचालित नहीं हो रही है। दूसरी तरफ खुद ही कहते हैं हृदय रोग विभाग के कैथ लैब में 2016 से ही अमृत फार्मेसी सर्जरी में उपयोग आने वाली स्टंट और बैलून का रखरखाव करने के साथ ही मरीजों को उपलब्ध करवाती है। और मरीजों से उसका दाम भी लेती है उन्होंने कहा कि इसका सीधा मतलब है कि किसी दवा की दुकान की तरह अमृत फार्मेसी भी काम कर रही है जो अवैध है। उन्होंने कहा कि चिकित्सा अधीक्षक महोदय से अमृत फार्मेसी द्वारा जमा किए गए बिजली, पानी के बिल की छाया प्रति मांगी जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि अधीक्षक महोदय झूठ बोलकर मनमाने तरीके से झूठे तथ्य पेश कर मुद्दे को भटका रहे हैं उनके खिलाफ भी फ़ौरन कार्रवाई की जरूरत है।

डॉ ओमशंकर का कहना है कि निजी फायदे के लिए मरीजों का शोषण हर हाल में रुकना चाहिए जो यहां हो रहा है। एचएएल लाइफ केयर लिमिटेड भारत सरकार का उपक्रम है जिसका काम है कम खर्च पर गरीबों को अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करवाना लेकिन यहां ज्यादा खर्च पर घटिया स्वास्थ्य सेवाएं दी जा रही हैं जो अपराध है।

     (वाराणसी से भास्कर गुहा नियोगी की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

एंकर रोहित रंजन की गिरफ्तारी को लेकर छत्तीसगढ़ और नोएडा पुलिस के बीच नोक-झोंक, नोएडा पुलिस ने किया गिरफ्तार

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी के बयान को लेकर फेक न्यूज फैलाने के आरोप में छत्तीसगढ़ में दर्ज...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This