Saturday, August 13, 2022

एडसमेटा कांड के मृतकों को 1 करोड़ देने की मांग को लेकर आंदोलन में उतरे ग्रामीण

ज़रूर पढ़े

एक ओर जहां छत्तीसगढ़ सरकार राजधानी में राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव 2021 आयोजित करा रही है। देश-प्रदेश-विदेश से आदिवासी नृत्य महोत्सव में भाग ले रहे हैं। वहीं प्रदेश में बस्तर के आदिवासी आंदोलन की राह में हैं। छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में एक बार फिर ग्रामीणों का आंदोलन शुरू हो गया है। गुरुवार को जिले के नक्सल प्रभावित इलाके गांगलूर के बुर्जी में दर्जनों गांव के सैकड़ों ग्रामीण इकठ्ठा हुए।

ग्रामीणों ने एडसमेटा गोली कांड के मृतकों को 1-1 करोड़ व घायलों को 50-50 लाख रुपए का मुआवजा देने की सरकार से मांग की है। ग्रामीणों ने कहा कि यदि उनकी मांग पूरी नहीं होती है तो वे बीजापुर जिले से राजधानी रायपुर तक पदयात्रा करेंगे। ग्रामीणों ने राज्यपाल के नाम बीजापुर तहसीलदार अमित योगी को ज्ञापन भी सौंपा है।

इधर ग्रामीणों ने बीजापुर जिले के पुसनार में प्रस्तावित सुराक्षबलों के नवीन कैंप का भी विरोध किया है। ग्रामीणों ने कहा- हमें पुसनार में पुलिस कैंप नहीं चाहिए। यदि गांव में पुलिस कैंप खुलता है तो जवान गांव में घुसेंगे। बेकसूर ग्रामीणों को नक्सली बताकर गिरफ्तार किया जाएगा। या फिर एनकाउंटर में उनकी हत्या कर देंगे। ग्रामीणों ने कहा है कि हमें गांव में न तो कैंप चाहिए और ना ही सड़कें। बता दें कि लगभग 1 महीने पहले ही ग्रामीणों ने इलाके में निर्माणाधीन सड़क को भी कई जगह से काट दिया था। बुर्जी में आंदोलन में जुटे ग्रामीणों ने पहली बार इंकलाब जिंदाबाद के नारे भी लगाए।

पुलिस अधिकारियों को सजा देने की मांग

बीजापुर-सुकमा जिले के सरहदी इलाके सिलगेर में पुलिस की गोलियों से मारे गए ग्रामीणों के परिजनों को भी मुआवजा देने की मांग आंदोलनरत ग्रामीणों ने की है। उन्होंने कहा कि, सिलगेर में पुलिस कैंप के खिलाफ ग्रामीण शांतिपूर्वक विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। पुलिस जवानों ने उन पर फायरिंद शुरू कर दी थी। पुलिस की गोली से 3 ग्रामीणों की मौत हुई ,जबकि भगदड़ में एक गर्भवती महिला ने भी दम तोड़ा था। ग्रामीणों ने पुलिस अधिकारियों को सजा देने की भी मांग की है।

(बीजापुर से जनचौक संवाददाता तामेश्वर सिन्हा की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

भ्रष्ट अधिकारियों, राजनेताओं को लोकायुक्त से बचाने के लिए कर्नाटक में गठित एसीबी भंग

पिछले पखवाड़े कर्नाटक हाईकोर्ट के जस्टिस एचपी संदेश ने राज्य के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) को 'वसूली केंद्र' कहा था। उन्होंने एसीबी प्रमुख आईपीएस...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This