Wednesday, August 10, 2022

मिर्जापुर में आकाशीय बिजली का कहर,  3 की मौत और 3 झुलसे

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

मिर्ज़ापुर। उत्तर प्रदेश के अंतिम छोर पर स्थित पहाड़, जंगल व अति पिछड़े जिले मिर्जापुर में बरसात से भले ही अभी लोगों को गर्मी और उमस से राहत नहीं मिल पाई है, लेकिन आकाशीय बिजली का ज़रूर खौफ देखने को मिल रहा है। जिले के लालगंज थाना क्षेत्र के कोठी गांव के कोल्हुआ मौजा में मंगलवार को दोपहर बाद 1.30 बजे आकाशीय बिजली की चपेट में आने से 6 लोग घायल हो गये। घायलों में 3 लोगों की मौत हो गई है। परिजनों की सूचना पर पहुंची एंबुलेंस सेवा से 3 गम्भीर रूप से घायलों को मण्डलीय अस्पताल ले जाया गया। जहां घायलों में से तीन को चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।

जानकारी के अनुसार कोल्हुआ मौजा निवासी फूल कुमारी पत्नी मोनू 25 वर्ष, रोहित पुत्र शिवकुमार 14 वर्ष, ममता पुत्री रमाकांत 12 वर्ष, मुन्ना पुत्र 8 वर्ष, ईश्वर पुत्र कमला उम्र 10 वर्ष, अनूप पुत्र राजू 12 वर्ष सभी ग्राम वासी कोल्हुआ मौजा के हैं। अपने घर से 200 मीटर दूर चौका नीम के पास मवेशी चराने के लिए गए थे कि मंगलवार को दोपहर बाद 1:30 बजे आकाशीय बिजली नीम के पेड़ पर गिरने से उसके नीचे मौजूद सभी 6 लोग गंभीर रूप से झुलस गए। जिसमें फूल कुमारी पत्नी मोनू, रोहित पुत्र शिव कुमार, ममता पुत्री रमाकांत को गंभीर अवस्था में एंबुलेंस की मदद से मण्डलीय अस्पताल भेजा गया। जहां पर मौजूद चिकित्सकों ने रोहित पुत्र शिवकुमार, ममता पुत्री रमाकांत, फुल कुमारी पत्नी मोनू निवासीगण कोल्हुआ को मृत घोषित कर दिया है। सूचना मिलने पर लहंगपुर चौकी की पुलिस मौके पर पहुंच कर जांच पड़ताल करने में  जुट गई। वहीं गंभीर रूप से घायलों का इलाज चल रहा है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर आगे की कार्रवाई में जुट गई। मौत की खबर मिलते ही परिजनों में कोहराम मच गया है।

आकाशीय बिजली से ग्रामीण हुए खौफजदा

मिर्जापुर के लालगंज कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत कोल्हुआ गांव में आकाशीय बिजली के खौफ से ग्रामीण दहशत में देखे जा रहे हैं। मृतक के परिजनों का जहां रो रो कर बुरा हाल होता है वही झुलसे लोगों के परिजन भी बेहाल हैं। आकाशीय बिजली की चपेट में आकर मरने वाले एवं झुलसे सभी लोग दलित परिवार के हैं। किसी प्रकार मेहनत मजदूरी कर अपने परिवार का पेट पालते आ रहे थे। मेहनत मजदूरी के साथ ही सभी मवेशी पालन के जरिए जीविकोपार्जन संचालित कर रहे थे। मंगलवार को दोपहर बाद भी मवेशियों को लेकर सभी गांव से बाहर उन्हें चलाने के लिए जा रहे थे और अचानक मौसम में परिवर्तन के बाद हल्की बूंदा-बांदी होने पर यह सभी नीम के पेड़ के नीचे आ गए थे कि तभी आकाशीय बिजली की चपेट में आ जाने से सभी झुलस गए।

आंखों देखा मंजर देख कांप जाते हैं ग्रामीण

जिस स्थान पर आकाशीय बिजली गिरने की घटना घटित हुई है उससे कुछ ही मीटर की दूरी पर बस्ती के ही राजेंद्र मौजूद थे जो अपने मवेशियों को हांकने के लिए जा रहे थे कि तभी अचानक कुछ दूरी पर आकाशीय बिजली गिरने और छ: लोगों के झुलसने का आंखों देखा हाल देख कांप उठे थे। जिला अस्पताल पहुंचे राजेंद्र तीन लोगों की मौत हो जाने की खबर से मर्माहत होने के साथ ही साथ रोती बिलखती महिलाओं को चुप कराने में जुटे हुए थे तो खुद ही उनके आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे थे। लड़खड़ाती आवाज और बहते आंसुओं के बीच उन्होंने बताया कि कुछ समय पहले ही वह पहुंचे होते तो शायद वह भी आकाशीय बिजली का शिकार हो गए होते। इसकी कल्पना मात्र से ही वह कांप जाते हैं।

बिन बारिश अचानक आकाशीय बिजली गिरने से सभी हैं चकित

अन्य दिनों की अपेक्षा मंगलवार को हालांकि मौसम साफ सुथरा था। आसमान में कहीं हल्के बादल घिरे हुए थे तो कहीं पूरी तरह से प्रचंड धूप और उमस का कहर जारी था। मौसम खुला होने की वजह से कोल्हुआ दलित बस्ती के लोग भी अपने-अपने मवेशियों को लेकर दोपहर में सिवान की ओर निकले थे। इसमें कुछ लोग आकाश में सूर्य देव के तेवर देखकर कड़ी धूप से बचने के लिए नीम के पेड़ के नीचे आ गए थे कि तभी अचानक आकाशीय बिजली गिरने से 6 लोग इसकी चपेट में आ गए।

(मिर्जापुर से संतोष देव गिरि की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

शिशुओं का ख़ून चूसती सरकार!  देश में शिशुओं में एनीमिया का मामला 67.1%

‘मोदी सरकार शिशुओं का ख़ून चूस रही है‘ यह पंक्ति अतिशयोक्तिपूर्ण लग सकती है पर मेरे पास इस बात...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This