Monday, August 15, 2022

सीतापुर: दलित महिला पत्रकार से गैंगरेप की कोशिश, 10 दिन बाद भी नहीं हुई कोई कार्रवाई

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

दलित महिला पत्रकार सुनीता वर्मा निवासी ग्राम अचाकापुर, पोस्ट कोठवल मजरा जरावन, थाना रामपुर मथुरा, जिला सीतापुर पर यौन हमला किया गया है। घटना के10 दिन बीत चुके हैं लेकिन अभी आरोपियों के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई नहीं हुयी है। सुनीता वर्मा अपने घर में दो छोटे-छोटे बच्चों और मां के साथ रहती हैं। वो और उनके बच्चे बहुत डरे हुये और आतंकित हैं। उन्होंने महमूदाबाद के क्षेत्राधिकारी से लिखित शिक़ायत की है। शिक़ायत में उन्होंने बताया रोज़ाना की तरह 3 अक्टूबर 2021 की रात 7-8 बजे दौड़ लगाने के लिये वह बिसेशर की तरफ जा रही थीं। उन्होंने देखा 3-4 लोग जमुना वर्मा के मकान में बैठे थे, बाइक खड़ी थी।

सुनाती वर्मा ने शिक़ायत पत्र में आगे बताया है कि थोड़ी देर बाद जब दौड़ लगाकर जब वह वापस लौटकर आ रही थीं तभी श्रीराम जानकी इंटरमीडिएट कॉलेज कोठवल के सामने तिर्भुवन वर्मा और जमुना वर्मा ने उन्हें रोक लिया और कहा मैडम इस तरह से पेट की चर्बी नहीं कम होगी दौड़ने से। पेट की चर्बी कम करने का रास्ता मैं बताता हूं। स्कूल के अंदर चलो अभी थोड़ी देर में ही चर्बी कम हो जायेगी। और तभी तिर्भुवन ने उन्हें पीछे से पकड़कर उनका सीना इतनी तेज से दबा दिया कि वह रोने लगीं। फिर तिर्भुवन ने कहा कि अभी पांच-पांच हजार दोनों लोग देंगे इतना कमा नहीं पाती होगी। तिर्भुवन ने कहा कि तुम्हारी पत्रकारिता तुम्हारे पिछवाड़े में खोंस देंगे। चमा…. कहीं की। वहीं मौके पर जमुना के मकान पर गोल बंगले में दो व्यक्ति बैठे थे जिसमें से एक को वह नहीं जानतीं थीं जबकि दूसरा उनके गांव का लड़का अंबर था। अंबर नाम का लड़का जोर से बोला अरे पकड़ो पकड़ो इसको गर्मी बहुत है। ले जाओ देखो कितनी टाइट है, कई अंगुली जायेंगी अंदर।

सुनीता वर्मा अपनी शिक़ायत में आगे बताती हैं कि तिर्भुवन और जमुना ने उन्हें स्कूल की ओर खींचने की कोशिश की तभी वह रोने लगीं। तिर्भुवन ने कहा कि तुम्हारा पति ज़्यादा दिन से तुम्हारे पास नहीं रहा तो तुम्हारा कभी मन नहीं करता है। हमीं लोगों का दिल बहला दिया करो। सुनीता वर्मा ने कहा कि उनका हाथ झटककर वह घर की ओर भागीं। मां से सारी बात बतायी। सुनीता वर्मा प्रशासन से पूछती हैं कि क्या एक औरत अपने पति के बिना जीवन नहीं गुज़ार सकती। मेरे छोटे छोटे बच्चे हैं मैं कहां चली जाऊँ। कहां मर जाऊं। सुनीता वर्मा कहती हैं मैं थाने में नहीं जा सकती। उन्होंने मुझे धमकी दी है कि रामपुर मथुरा की तरफ आओगी तो तुम्हें ग़ायब करवा दूंगा।   

वहीं सीतापुर पुलिस ने कहा है कि थाना रामपुर मथुरा पर प्राप्त तहरीर के आधार पर अभियोग पंजीकृत किया गया है। क्षेत्राधिकारी महमूदाबाद के निकट पर्यवेक्षण में अग्रिम कार्यवाही की जा रही है। दलित महिला चाहे आम महिला हो चाहे पत्रकार उसके ख़िलाफ़ बिना किसी भेदभाव के समान भाव से यौन हिंसा और उत्पीड़न की घटनाये जारी हैं।

(जनचौक ब्यूरो की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

कार्पोरेट्स के लाखों करोड़ की कर्जा माफ़ी क्या रेवड़ियां नहीं हैं मी लार्ड!

उच्चतम न्यायालय ने अभी तक यह तय नहीं किया है कि फ्रीबीज या रेवड़ियां क्या हैं, मुफ्तखोरी की परिभाषा क्या है? सुप्रीम...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This