Wednesday, December 7, 2022

किसान निकालेंगे ‘मिट्टी सत्याग्रह यात्रा’, गांव-गांव से इकट्ठा करेंगे मिट्टी

Follow us:
Janchowk
Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

पटियाला के थापर यूनिवर्सिटी चौक पर एक दुखद दुर्घटना में सरदार इंद्रजीत सिंह की मृत्यु हो गयी व कई अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। ये लोजी बताए गए चौक पर किसान आन्दोलन के बारे में अन्य लोगों को जागरूक कर रहे थे। किसान नेताओं और विभिन्न संगठनों के लोगों ने प्रशासन से मांग की कि दुर्घटना के लिए जिम्मेदार ड्राइवर प्रीतपाल सिंह को तुरंत गिरफ्तार किया जाए और उसके खिलाफ मामला दर्ज कर जेल भेजा जाए। किसान संगठनों के विभिन्न नेताओं / प्रवक्ताओं ने मांग की कि सरदार इंद्रजीत सिंह को किसान आंदोलन का शहीद मानते हुए, उनके परिवार को पंजाब सरकार व केंद्र सरकार द्वारा तय मुआवजा दिया जाना चाहिए, प्रशासन को चाहिए कि वह घायल व्यक्तियों को अपनी लागत पर पूरा इलाज करवाए। सभी घायलों की पहचान की जानी चाहिए और सभी परिवारों की सहायता की जानी चाहिए।

किसान मोर्चा ने बताया कि जनांदोलनों के राष्ट्रीय समन्वय NAPM द्वारा मिट्टी सत्याग्रह आयोजित किया जा रहा है। आज तक, 320 से ज्यादा किसानों ने इस आंदोलन में शहादत दी है इसके बावजूद भी यह आंदोलन अहिंसक सत्याग्रह के साथ सरकार की आक्रामकता और दमन का सामना कर रहा है व आंदोलन का विस्तार जारी है। इस आंदोलन की जड़ें भारत के स्वतंत्रता संग्राम के साथ जुड़ी हैं।1919 में आए रॉलेट एक्ट को शांतिपूर्ण ढंग से विरोध कर रहे हजारों बेकसूरों पर जालियांवाला बाग में ब्रिटिश हुकूमत ने गोलियाँ चलाई। पूरा देश आक्रोश से भर गया। इसी दौर में गांधी जी ने “असहयोग आंदोलन” का नारा देकर इस बेरहम हुकूमत के कानूनों का सहयोग ना करने का आह्वान किया।

असहयोग आंदोलन में सत्याग्रह की  प्रेरणा हमें ऊर्जा प्रदान कर रही है। कृषि, किसानों, खाद्य सुरक्षा को बचाने के लिए आज नमक नहीं, मिट्टी की जरूरत  है। इस उद्देश्य से युवाओं ने शिद्दत के साथ “मिट्टी सत्याग्रह’ का आयोजन किया है। इस सत्याग्रह के माध्यम से गाँव की सड़कों पर पहुँचना देश के जल, जंगल, जमीन, प्राकृतिक संसाधनों और साथ ही आजीविका को बचाने की कोशिश की जा रही है। यह माँग लोकतंत्र और संविधान के मूल्यवान ढांचे को बचाने के लिए भी है। जाति-धर्म-दुर्भाव के माध्यम से भी हो रहे अत्याचारों को नकारकर समानता का आह्वान करना आवश्यक है। विभिन्न राज्यों में विभिन्न संगठन – विभिन्न रूप से कार्यक्रमों का समन्वय कर रहे हैं। वे गाँव के प्रमुख ऐतिहासिक स्थानों, आज़ादी के नायकों की प्रतिमाओं और संघर्ष के प्रतीकों से एक मुट्ठी मिट्टी कलश में इकट्ठा करेंगे और लोगों से संवाद करेंगे। 

मिट्टी सत्याग्रह यात्रा विकेन्द्रित रूप में 12 मार्च से 28 मार्च तक देश के कई राज्यों में जैसे महाराष्ट्र, गुजरात, उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, मध्य प्रदेश, राजस्थान, उत्तराखंड, असम और पंजाब में जन संवाद अभियान चला रही है। मिट्टी सत्याग्रह यात्रा 30 मार्च को दांडी से शुरू होकर गुजरात के अन्य जिलों से होकर, राजस्थान, हरियाणा और पंजाब के कई जिलों से होकर 5 अप्रैल की सुबह 9 बजे शाहजहाँपुर बॉर्डर पहुँचेंगे। यात्रा के आखिरी दौर में पूरे देश की विकेन्द्रित यात्राएँ किसान बॉर्डर पर अपने राज्य के मिट्टी कलश के साथ यात्रा में शामिल होंगे। शाहजहाँपुर बॉर्डर से हम टिकरी बॉर्डर जाएँगे। अप्रैल 6 की सुबह 9 बजे हम सिंघु बॉर्डर और शाम 4 बजे हम गाजीपुर बॉर्डर पहुँचेंगे। बॉर्डर पर संयुक्त किसान मोर्चा के सभी वरिष्ठ किसान साथी इस मिट्टी सत्याग्रह यात्रा का हिस्सा रहेंगे। पूरे देश से आई मिट्टी किसान आंदोलन के शहीदों को समर्पित की जाएगी। बॉर्डर पर शहीद स्मारक बनाए जाएंगे। स्वतंत्रता संग्राम के मूल्यों की पुनर्स्थापित करने के  विचार को आगे बढ़ाने के लिए हम संकल्पित हैं। 

(प्रेस विज्ञप्ति पर आधारित।)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

क्यों ज़रूरी है शाहीन बाग़ पर लिखी इस किताब को पढ़ना?

पत्रकार व लेखक भाषा सिंह की किताब ‘शाहीन बाग़: लोकतंत्र की नई करवट’, को पढ़ते हुए मेरे ज़हन में...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -