Wednesday, August 10, 2022

कंगना रनौत का पद्मश्री वापस लिया जाए: दीपंकर भट्टाचार्य

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

भाकपा-माले महासचिव कॉ. दीपंकर भट्टाचार्य ने कहा है कि देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मानों में से एक, पद्मश्री प्राप्त करने के तुरंत बाद अभिनेत्री और भाजपा समर्थक खेमे की प्रमुख हस्ती- कंगना रनौत ने घोषित कर दिया कि 1947 में जो देश ने आजादी हासिल की, वह तो महज भीख थी और असल आजादी 2014 में आई, जब नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री चुने गए. उन्होंने यह बात टाइम्स नाउ द्वारा आयोजित कॉन्क्लेव में कही।

कंगना रनौत का बयान हालांकि अफसोसजनक है पर यह आरएसएस द्वारा आजादी के आंदोलन के दौरान और आजादी के तत्काल बाद अभिव्यक्त भावनाओं के साथ ही आरएसएस के संस्थापक विचारक गोलवलकर के इन विचारों से मेल खाता है, जिसमें वे घोषित करते हैं कि स्वाधीनता आंदोलन के शहीद असफल लोग हैं और उनको आदर्श नहीं माना जाना चाहिए। गोलवलकर ने तो यहां तक कहा कि आजादी का ब्रिटिश विरोधी दृष्टिकोण “विनाशकारी”है। आजादी के वक्त आरएसएस ने तिरंगे झंडे और संविधान के प्रति भी घोर अवमाननाकारी दृष्टिकोण प्रदर्शित किया और इनके बजाय भगवा झंडे व मनुस्मृति को अपनाने की मंशा जाहिर की।

ऐसा प्रतीत होता है कि कंगना रनौत के लिए औपनिवेशिक ब्रिटिश राज से स्वतंत्रता अवमाननाकारी है। लगता है कि आजादी का मतलब वे समझती हैं – मॉब लिंचिंग की आजादी, कट्टरता व रूढ़िवाद की अभिव्यक्ति व प्रसार की आजादी और आरएसएस के खानपान, पहनावे, धर्म और आचार-व्यवहार संबंधी विचारों को बेहद हिंसक तरीके से पूरे देश पर थोपना।

देश की आजादी और उसके शहीदों का अपमान करने के लिए केंद्र सरकार को कम से कम इतना तो करना ही चाहिए कि वह, कंगना रनौत का पद्मश्री वापस ले ले। सरकार एक तरफ आजादी का “अमृत महोत्सव”मनाने का दावा करे और दूसरी तरफ ऐसे लोगों को प्रश्रय और सम्मान दे जो भारत की आजादी और आजादी के आंदोलन का अपमान करे, ये दोनों बातें एक साथ तो नहीं चल सकतीं।

(प्रेस विज्ञप्ति पर आधारित।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

शिशुओं का ख़ून चूसती सरकार!  देश में शिशुओं में एनीमिया का मामला 67.1%

‘मोदी सरकार शिशुओं का ख़ून चूस रही है‘ यह पंक्ति अतिशयोक्तिपूर्ण लग सकती है पर मेरे पास इस बात...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This