Monday, August 8, 2022

आधुनिक शिक्षा उपयोगितावादी, चरित्र निर्माण के योग्य नहीं : चीफ जस्टिस

ज़रूर पढ़े

भारत के चीफ जस्टिस (सीजेआई) एनवी रमना ने सोमवार को कहा कि आधुनिक शिक्षा प्रकृति में उपयोगितावादी है और छात्र के चरित्र के निर्माण या नैतिक मूल्यों के पोषण में मदद नहीं कर सकती है। उन्होंने कहा कि सच्ची शिक्षा में नैतिक और नैतिक मूल्यों के विकास सहित व्यक्ति का समग्र विकास शामिल होना चाहिए। सीजेआई रमना ने कहा की आधुनिक शिक्षा की उपयोगितावादी प्रणाली पर केंद्रित है और यह छात्र के चरित्र का निर्माण करने और छात्रों के नैतिक मूल्य को विकसित करने के लिए उपयुक्त नहीं है। सच्ची शिक्षा से धैर्य, आपसी समझ और आपसी सम्मान का विकास होता है। मानवीय मूल्यों के सच्चे मूल को विकसित करने के लिए शैक्षिक यात्रा को जारी रखें।

चीफ जस्टिस रमना ने सोमवार को कहा कि छात्रों को वैश्विक नागरिक होने के नाते एक प्रगतिशील दुनिया की स्थापना के लिए प्रयास करना चाहिए। श्री सत्य साईं इंस्टीट्यूट ऑफ हायर लर्निंग के 40वें दीक्षांत समारोह में बोलते हुए, सीजेआई रमना ने छात्रों से कहा कि उन्हें व्यक्तिगत जरूरतों या चाहतों में नहीं फंसना चाहिए और परिवार, पड़ोस, गांव, समुदाय आदि के बीच रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि आप इसका अभ्यास करना शुरू करते हैं, तो आप जल्द ही संघर्षों और हिंसा से मुक्त एक बेहतर दुनिया में रहेंगे।

चीफ जस्टिस ने विश्वविद्यालय की सराहना की, जो उन्होंने कहा कि “बच्चों के लिए सत्य साईं बाबा के अटूट प्रेम” के कारण अस्तित्व में आया। उन्होंने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि कैसे विश्वविद्यालय भारतीय संस्कृति और मूल्यों को आगे बढ़ाने वाली शिक्षा प्रदान कर रहा है। यह विश्वविद्यालय आधुनिक गुरुकुल की अवधारणा के आसपास बनाया गया है। सीखना सबसे समकालीन है। भारतीय संस्कृति और मूल्यों का सार भी आत्मसात किया जाता है। मुझे यह जानकर खुशी हुई कि यह विश्वविद्यालय एक नए अनुसंधान एवं विकास क्षेत्र की योजना बना रहा है।

चीफ जस्टिस ने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि कैसे COVID-19 महामारी ने गहरी असमानताओं और कमजोरियों को उजागर किया है। उन्होंने जोर देकर कहा कि अब लोगों को एक साथ आने की जरूरत है। मुझे यकीन है कि मेरे युवा दोस्त जिन्होंने यहां से स्नातक किया है, वे जनता की भलाई के विचार को कायम रखेंगे।

(वरिष्ठ पत्रकार जेपी सिंह की रिपोर्ट)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

हर घर तिरंगा: कहीं राष्ट्रध्वज के भगवाकरण का अभियान तो नहीं?

आजादी के आन्दोलन में स्वशासन, भारतीयता और भारतवासियों की एकजुटता का प्रतीक रहा तिरंगा आजादी के बाद भारत की...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This