Wednesday, August 17, 2022

stice

महाबोधि विहार का महाविवाद: आखिर कब चमकेगा मुक्ति का सूरज?

भारत में बौद्ध पक्ष अनुत्तरित है और उसके दावों को न्याय से वंचित किया जाता है, इसका एक उदाहरण बोधगया के महाबोधि विहार का महाविवाद भी है। इसके सिलसिले में बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर ने 25 दिसम्बर, 1954...
- Advertisement -spot_img

Latest News

इन संदेशों में तो राष्ट्र नहीं, स्वार्थ ही प्रथम!

गत सोमवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपना नौवां स्वतंत्रता दिवस संदेश देने के लिए लाल किले की प्राचीर पर...
- Advertisement -spot_img