Wednesday, December 7, 2022

अकाली राजनीति में बड़ा धमाका, परमिंदर सिंह ढींडसा ने छोड़ा विधायक दल का ओहदा

Follow us:

ज़रूर पढ़े

जालंधर। मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल की सरपरस्ती वाले शिरोमणि अकाली दल में नया धमाका हुआ है। विधानसभा में विधायक दल के नेता परमिंदर सिंह ढींडसा ने विधायक दल नेता पद से इस्तीफा दे दिया है। पार्टी अध्यक्ष सांसद सुखबीर सिंह बादल ने इसे मंजूर कर लिया है। पूर्व वित्त मंत्री परमिंदर सिंह ढींडसा शिरोमणि अकाली दल में बड़े कद के नेता माने जाते हैं। उनके पिता राज्यसभा सांसद सुखदेव सिंह ढींडसा पहले ही अकाली दल को अलविदा कह कर बादल विरोधी टकसाली अकाली दल का दामन थाम चुके हैं। अब परमिंदर सिंह ढींडसा भी टकसाली अकाली दल के साथ जाएंगे।

बादलों ने तमाम कोशिशें कीं लेकिन परमिंदर सिंह ढींडसा को साथ रखने में कामयाब नहीं हुए। ढींडसा परिवार मालवा में अच्छा जनाधार रखता है और कम से कम 30 सीटों पर प्रभावी है। परमिंदर की बगावत से अकाली राजनीति सिरे से बदलना तय है। इसलिए भी कि सांसद सुखदेव सिंह ढींडसा प्रकाश सिंह बादल के सबसे पुराने हिमायतियों और विश्वासपात्रों में एक रहे हैं। माना जा रहा था कि सुखदेव सिंह ढींडसा की अलग राह को परमिंदर को साथ रखकर काटा जा सकता है। लेकिन आज अकाली दल में हुए इस धमाके ने साफ कर दिया कि ढींडसा परिवार पूरी तरह से बादलों के विरोध में आ गया है।

बादल परिवार के लिए सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि परमिंदर सिंह ढींडसा पार्टी, बादलों और केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल के भाई राज्य के पूर्व मंत्री विक्रमजीत सिंह मजीठिया के कई ऐसे ‘राज’ संभाले हुए हैं जो अगर फंसे होते हैं तो सबके लिए बड़ी दिक्कत का सबब बनेंगे। परमिंदर सिंह ढींडसा ने खुद इस पत्रकार से अपने इस्तीफे की पुष्टि की है।

(अमरीक सिंह वरिष्ठ पत्रकार हैं और आजकल जालंधर में रहते हैं।)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

क्यों ज़रूरी है शाहीन बाग़ पर लिखी इस किताब को पढ़ना?

पत्रकार व लेखक भाषा सिंह की किताब ‘शाहीन बाग़: लोकतंत्र की नई करवट’, को पढ़ते हुए मेरे ज़हन में...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -