Saturday, August 13, 2022

वानखेड़े सिद्ध करें कि नवाब मलिक के ट्वीट झूठे हैं, मलिक हलफनामा दें कि उनकी जानकारी पुष्ट है : बॉम्बे हाईकोर्ट

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

बॉम्बे हाईकोर्ट ने सोमवार को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े के पिता को यह सिद्ध करने के लिए कहा कि महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक द्वारा उनके बेटे के खिलाफ किए गए ट्वीट झूठे हैं। अदालत ने मलिक से एक अतिरिक्त हलफनामा भी मांगा, जिसमें यह जानकारी मांगी कि क्या मलिक ने वानखेड़े के खिलाफ ट्वीट करने से पहले जानकारी की पुष्टि की थी, जिसमें मलिक ने आरोप लगाया था कि समीर वानखेडे मुस्लिम पैदा हुए, लेकिन बाद में खुद को अनुसूचित जाति से होने का झूठा दावा करके केंद्र सरकार की नौकरी हासिल की।

जस्टिस माधव जामदार की एकल पीठ समीर के पिता ध्यानदेव वानखेड़े द्वारा मलिक के खिलाफ दायर मानहानि मुकदमे की सुनवाई कर रहे थे, जिसमें समीर के पिता ने मलिक से बतौर हर्जाना 1.25 करोड़ रुपये की मांग की है । जस्टिस जामदार ने सुनवाई के दौरान वानखेड़े के वकील से कहा, “समीर वानखेड़े एक सरकारी अधिकारी हैं, आपको प्रथम दृष्टया दिखाना चाहिए कि वह जो कह रहे हैं वह झूठ है। आपका बेटा एक सरकारी अधिकारी है, इसलिए उसके कार्यों की जांच जनता के किसी भी सदस्य द्वारा की जा सकती है। आपको सिद्ध करना होगा कि उक्त ट्वीट झूठे हैं।

एकल पीठ की ये टिप्पणियां अधिवक्ता अरशद शेख की प्रस्तुतियों के जवाब में थीं कि वह मलिक के ट्वीट का जवाब देने के लिए बाध्य नहीं हैं, क्योंकि वह केवल एक विधायक हैं, न कि अदालत या प्राधिकरण। मलिक को बयान प्रकाशित करने से पहले संबंधित अधिकारी से शिकायत करनी चाहिए थी। शेख ने मलिक द्वारा उद्धृत मूल जन्म प्रमाण पत्र होने से भी इनकार किया जिसके अनुसार समीर वानखेड़े को मुस्लिम और उनके पिता ध्यानदेव वानखेड़े के नाम को ‘दाऊद’ के रूप में दिखाया गया है।

शेख ने कुछ अतिरिक्त दस्तावेजों को रिकॉर्ड में लाने के लिए शुक्रवार तक का समय मांगा। “हमारे पास दस्तावेज़ की प्रति नहीं है। यह हमारा मामला है, यह झूठ है।” मलिक के लिए एडवोकेट कुणाल दामले की सहायता से वरिष्ठ अधिवक्ता अतुल दामले ने कहा कि वे सच्चाई का बचाव कर रहे हैं। हालांकि, अदालत ने यह जानना चाहा कि क्या मलिक ने ट्वीट करने से पहले तथ्यों की पुष्टि की थी। एकल पीठ ने पूछा कि क्या आपने जानकारी की पुष्टि की है ? आप एक राजनीतिक दल के प्रवक्ता हैं। दिखाएं कि आपने जानकारी को सत्यापित किया है।

एकल पीठ ने मलिक के उस जवाब की ओर इशारा किया जिसमें उन्होंने कहा है कि उनके द्वारा पेश किए गए सबूतों की प्रामाणिकता और स्वीकार्यता का फैसला मुकदमे के स्तर पर ही किया जा सकता है। जस्टिस जामदार ने मलिक से अतिरिक्त हलफनामा मांगा, “जहां तक स्वीकार्यता का सवाल है, मैं समझ सकता हूं, लेकिन कहने के लिए प्रामाणिकता को भी सत्यापित करने की आवश्यकता है।

एकल पीठ ने शेख के बयान को स्वीकार करने से इनकार कर दिया और कहा कि भले ही मलिक के बयान को सच मान लिया जाए, लेकिन अगर इसमें द्वेष शामिल है तो यह मानहानि के बराबर होगा। शेख ने यह भी बताया था कि कैसे वानखेड़े के बारे में गलत जानकारी फैलाने के लिए मलिक ने गलत धारणा बनाई। शेख ने कहा कि पहले आप बताते हैं कि तस्वीरों में एक डॉन है। फिर आप “डॉन” को दाऊद का नाम देते हैं। फिर आप उस पर मुस्लिम होने का आरोप लगाते हैं। फिर आप उसकी बहन के पास आते हैं कि वह एक ड्रग पेडलर के संपर्क में है। फिर भाभी।

जस्टिस जामदार ने कहा कि वह किसी को भी चुप कराना नहीं चाहते, लेकिन यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि जो कुछ भी ट्वीट किया जाता है वह पहले से सत्यापित हो। मलिक की आपत्तियों का जिक्र करते हुए कि मुकदमा चलने योग्य नहीं है। एकल पीठ ने निजता, प्रेस की भूमिका और मानहानि के सिद्धांतों पर आर. राजगोपाल बनाम स्टेट ऑफ टी.एन. में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के पैरा 26 का भी हवाला दिया। अब मामले की सुनवाई 12 नवंबर तक के लिए स्थगित कर दी गई है।

दरअसल समीर वानखेड़े के पिता ने राज्य के अल्पसंख्यक विकास मंत्री नवाब मलिक के खिलाफ 1.25 करोड़ रुपए का हर्जाने की मांग करते हुए बॉम्बे हाईकोर्ट में मानहानि का मुकदमा दायर किया है। ध्यानदेव वानखेड़े (72) ने अदालत से एक घोषणा की मांग की है कि मलिक की टिप्पणी, जो प्रेस विज्ञप्ति या साक्षात्कार या सोशल मीडिया, उनके ट्विटर अकाउंट तक सीमित नहीं है, वह “प्रकृति में अपमानजनक और मानहानिकारक” हैं।

वानखेड़े ने मलिक, उनकी पार्टी के सदस्यों और मलिक के निर्देशों के तहत काम करने वाले अन्य सभी लोगों को उनके और वानखेड़े के परिवार के सदस्यों के बारे में किसी भी तरह की मानहानिकारक सामग्री को प्रकाशित करने, लिखने या मीडिया में बोलने या प्रकाशित करने पर प्रतिबंधित लगाने की मांग की है। उन्होंने अपने और अपने परिवार के खिलाफ इलेक्ट्रॉनिक और सोशल मीडिया सहित लेखों, ट्वीट्स, साक्षात्कारों को हटाने और उन्हें “किसी भी मीडिया में प्रकाशित, लिखने और बोलने से रोकने” के लिए अस्थायी निषेधाज्ञा की मांग की है।

(जेपी सिंह वरिष्ठ पत्रकार हैं और आजकल इलाहाबाद में रहते हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

बिहार का घटनाक्रम: खिलाड़ियों से ज्यादा उत्तेजित दर्शक

मैच के दौरान कई बार ऐसा होता है कि मैदान पर खेल रहे खिलाड़ियों से ज्यादा मैच देख रहे...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This