Sunday, May 22, 2022

डॉ. सिद्धार्थ

आखिर क्या है कांग्रेस पार्टी का संकट?

सन् 2020, 2021 और 2022 के विधान सभा चुनावों के परिणामों के यदि देखें तो ये परिणाम कांग्रेस पार्टी के लिए काफी निराशाजनक रहे हैं। 2019 के विधान सभा चुनावों में कांग्रेस की छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्य प्रदेश में...

ग्राम्शी के आर्गेनिक जन बुद्धिजीवी के प्रतिमान राहुल सांकृत्यायन 

“अंत में मनुष्य अवश्य अपने ध्येय पर पहुंचेगा। वह ध्येय है-समस्त मानवों की समता, परस्पर प्रेम और सार्वत्रिक सुख-समृद्धि।”                                                                     —राहुल सांकृत्यायन  लोकहित में सच की खोज की अनवरत जिज्ञासा और कोई भी कीमत चुका कर सच के पक्ष में खड़ा होने...

  हिंदी पट्टी की बहुजन राजनीति को कैसे निगल रही है भाजपा

हिंदी पट्टी में राजनीतिक वर्चस्व भारत की केंद्रीय सत्ता पर राजनीतिक वर्चस्व का रास्ता खोलता है। हिंदी पट्टी की घनी जनसंख्या और भारत में जनसंख्या आधारित राजनीतिक प्रतिनिधित्व की व्यवस्था के चलते भारत के अन्य हिस्सों पर इसका राजनीतिक...

यूपी में बीजेपी की जीत के धार्मिक समीकरण का क्या है काउंटर

उत्तर प्रदेश के 2022 के विधान सभा चुनावों में भाजपा को 255 सीटें और 41.3 प्रतिशत मत प्राप्त हुए हैं। 2017 की तुलना में सीटों की संख्या की दृष्टि से देखें तो भाजपा को 57 सीटों का नुकसान हुआ...

हिंदी पट्टी: वर्ण-जातिवादी और पितृसत्तात्मक संस्कृति का ह्रदयस्थल

हिंदी पट्टी को आर्यावर्त और गाय पट्टी के रूप में भी जाना जाता है। इसका भौगोलिक विस्तार उत्तर प्रदेश, बिहार, उत्तराखंड, झारखंड, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश तक फैला हुआ है। चारो तरफ व्याप्त गरीबी, बेरोजगारी,...

भारत के 98 अरबपतियों के पास 55.5 करोड़ लोगों के बराबर संपत्ति, 84 प्रतिशत परिवारों की आय घटी: ऑक्सफैम रिपोर्ट

जहां एक ओर आरएसएस-भाजपा ने पूरे देश में एक धार्मिक उन्मादी माहौल खड़ा करके लोगों को हिंदू-मुसलमान में बुरी तरह उलझा दिया है, वहीं दूसरी तरफ देश के चंद अरबपति देश की संपत्ति पर बहुत ही तेजी से कब्जा...

बसपा के कोर समर्थकों का असमंजस

पांच राज्यों में विधान सभा चुनावों का बिगुल बज चुका है, लेकिन सबकी निगाहें उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव पर सबसे ज्यादा केंद्रित हैं। आरएसएस-भाजपा के लिए उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में जीत का प्रश्न जीवन-मरण का प्रश्न...

यूपी में टूट रहा है भाजपा के विजय रथ का एक पहिया

2017 के विधान सभा चुनावों में भाजाप के प्रचंड बहुमत के विजय रथ के मुख्य दो पहिए थे- एक हिंदुत्व और दूसरा सोशल इंजीनीयरिंग। सोशल इंजीनीयरिंग के तहत भाजपा ने खुलकर गैर-यादव और गैर-जाटव का कार्ड खेला था और...

मोदी की बौखलाहट का नतीजा है पीएम से जुड़ा पंजाब सुरक्षा प्रकरण

एक देश के प्रधानमंत्री से सबसे पहली उम्मीद यह की जाति है कि उसके बयान प्रधानमंत्री पद की गरिमा के अनुकूल हों, न कि वह किसी गली के गुंडे की तरह अनाप-शनाप बके। पंजाब में प्रधानमंत्री के काफिले के...

नये चिंतन, विचार और ज्ञान की सर्जक थीं सावित्री बाई फुले

सावित्रीबाई फुले का व्यक्तित्व बहुआयामी है। वह महान शिक्षिका, बहुजनों और महिलाओं की मुक्ति के लिए संघर्ष करने वाली अद्वितीय नायिका और आधुनिक युग की महान कवयित्री हैं, लेकिन इस सब के पीछे उनका एक चिंतक-विचारक व्यक्तित्व भी है,...

About Me

81 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

सरकारी दावों पर पानी फेरता झारखंड के पानी का सच

कहा जाता है कि पहाड़ से पानी का रिश्ता सदियों पुराना है। प्रकृति के इसी गठबंधन की वजह से...