Tuesday, January 31, 2023

सिलंगेर आंदोलन के एक साल: पूरे बस्तर से जुटे हजारों आदिवासी, सीआरपीएफ कैंप के सामने विशाल-प्रदर्शन

Follow us:

ज़रूर पढ़े

सिलंगेर (बस्तर)। छत्तीसगढ़ के सिलंगेर में सीआरपीएफ कैंप के खिलाफ एक साल से आंदोलन कर रहे हजारों आदिवासियों ने 17 मई 2022 को विशाल प्रदर्शन किया।

एक साल पहले इसी दिन प्रदर्शन कर रहे आदिवासियों पर सीआरपीएफ के जवानों ने गोली चला दिया था जिसमें 3 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई थी और लाठीचार्ज की वजह से घायल एक गर्भवती महिला की बाद में मौत हो गई थी।

दिल्ली बॉर्डर पर एक साल तक घेरा डाल कर आंदोलन करने वाले किसानों की तरह ही, आदिवासियों ने सिलंगेर सीआरपीएफ कैंप के पास करीब दो किलोमीटर के दायरे में मुख्य मार्ग (जो कि बन रहा था) पर ही फूस के टेंट लगाकर धरने पर बैठ गए।

जाड़ा, गर्मी और बरसात झेलते हुए इस आंदोलन के 365 दिन पूरे होने पर एक विशाल जुटान हुआ। आंदोलन और मारे गए आदिवासियों की पहली बरसी मनाने दूर दूर से आदिवासी तीन दिन पहले ही पहुंच गए थे।

silanger
फोटो-संदीप राउजी

ये आंदोलन मूलवासी बचाओ मंच, बस्तर की ओर से चलाया जा रहा है और इसके नेता रघु ने हमें बताया कि 15,16,17 मई के कार्यक्रम में पूरे बस्तर से आदिवासी इकट्ठा हुए।

17 मई को मुख्य कार्यक्रम था। सुबह नौ बजे के करीब हजारों हजार की संख्या में लोगों ने सीआरपीएफ कैंप के पास बने शहीद स्थल की ओर मार्च किया।

कैंप के सामने सीआरपीएफ द्वारा लगाए बैरिकेड के सामने ये विशाल हुजूम रुका और अपनी मांगों को लेकर देर तक नारेबाजी की।

मांगें

इनकी प्रमुख मांग है कि मारे गए लोगों के परिजनों को एक-एक करोड़ रुपए और घायलों को 50-50 लाख मुआवजा दिया जाए। इस घटना की न्यायिक जांच कर दोषी सुरक्षा कर्मियों को सजा दी जाए।

सीआरपीएफ कैंप जिस सात एकड़ जमीन पर बना है, वो खेती की जमीन थी, वहां से कैंप को हटाया जाए। बस्तर में आदिवासियों का नरसंहार बंद किया जाए।

बस्तर में आदिवासी अधिकारों के लिए काम करने वाली मानवाडीखा कार्यकर्ता बेला भाटिया भी इस कार्यक्रम में पहुंची थीं।

silanger3
फोटो-संदीप राउजी

रातों रात उग आया कैंप

उन्होंने इस संवाददाता से कहा कि “एक साल पहले 12-13 मई की दरमियानी रात सिलंगेर में सीआरपीएफ ने रातों रात कैंप बना दिया।”

“सुबह जब आदिवासियों को पता चला तो वे वहां पहुंचे। तीन दिन तक हजारों की संख्या में आदिवासी कैंप को हटाने की मांग करते रहे और 17 मई को सीआरपीएफ की ओर से निहत्थी भीड़ पर फायरिंग कर दी गई।” 

वो कहती हैं कि “रात के अंधेरे में कौन आता है? चोर! आखिर सीआरपीएफ को इस तरह चोरों की तरह आने की क्या जरूरत थी? ग्रामसभा को क्यों सूचित नहीं किया गया?”

आदिवासी नेता गजेंद्र मंडावी कहते हैं कि “सीआरपीएफ के मन में चोर था इसीलिए उन्होंने बिना सोंचे गोली चलाई।”

असल में बीजापुर से जगरगुंडा तक सड़क निर्माण में हर दो चार किलोमीटर पर एक सीआरपीएफ कैंप है। सिलंगेर का ये ताजा कैंप 15वां कैंप था।

छत्तीसगढ़ में इस समय कांग्रेस की सरकार है। भूपेश बघेल मुख्यमंत्री हैं, जिन्हें कांग्रेस और वे खुद, बहुजनों का जुझारू नेता के रूप में प्रचारित कर रहे हैं।

silanger4
फोटो-संदीप राउजी

आंदोलन को समर्थन देने सिलंगेर पहुंचे सर्व आदिवासी समाज के प्रदेश उपाध्यक्ष सुरजू टेकाम का कहना है कि “भूपेश बघेल को साल भर में इतना मौका नहीं मिला कि वे पीढ़ियों के लिए संवेदना के दो शब्द कह सकें।”

“घटना की जांच छः महीने में करने की घोषणा की थी, लेकिन आज तक पता नहीं चला कि रिपोर्ट की क्या स्थिति है।”

टेकाम कहते हैं, “इस बार बघेल का खेल खत्म होगा।”

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ में साल भर बाद चुनाव भी होने वाला है और बस्तर में जिस तरह से सीआरपीएफ कैंप के खिलाफ जनांदोलन बढ़ रहा है, बघेल के पेशानी पर बल पड़ने शुरू हो गए हैं।

शायद यही कारण है कि सिलंगेर के विशाल प्रदर्शन के दो दिन बाद ही वे बीजापुर का दौरा कर रहे हैं जो कि सिलंगेर से महज 70 किलोमीटर दूर है।

देखना होगा कि बघेल यहां आने के बाद आंदोलनरत और पीड़ित आदिवासियों से मिलने जाते हैं कि नहीं!

(बस्तर के सिलंगेर से वर्कर्स यूनिटी के संपादक संदीप राउजी की रिपोर्ट।)

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

पुण्यतिथि पर विशेष: हत्यारों को आज भी सता रहा है बापू का भूत

समय के साथ विराट होता जा रहा है दुबले-पतले मानव का व्यक्तित्व। नश्वर शरीर से मुक्त गांधी भी हिंदुत्व...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x