Sunday, May 22, 2022

जाति आधारित भेदभाव और शक्ति समीकरण

ज़रूर पढ़े

“मुझे लगता है कि समस्या यह है कि अमेरिका में बहुत से लोग सोचते हैं कि नस्लवाद एक रवैया है। और यह पूंजीवादी व्यवस्था द्वारा प्रोत्साहित किया जाता है। इसलिए वे सोचते हैं कि लोग जो सोचते हैं वह उन्हें नस्लवादी बनाता है। वास्तव में नस्लवाद एक रवैया नहीं है।

अगर कोई गोरा आदमी मुझे पीटना चाहता है, तो यह उसकी समस्या है। लेकिन अगर उसमें मुझे पीटने की ताकत है, तो यह मेरी समस्या है। जातिवाद दृष्टिकोण का प्रश्न नहीं है, यह शक्ति का प्रश्न है।

जातिवाद को पूँजीवाद से शक्ति मिलती है। इस प्रकार, यदि आप नस्लवाद विरोधी हैं, चाहे आप इसे जानते हों या नहीं, आपको पूंजीवादी विरोधी होना चाहिए। जातिवाद की शक्ति, लिंग वाद की शक्ति, पूंजीवाद से आती है, दृष्टिकोण से नहीं।

आप शक्ति के बिना नस्लवादी नहीं हो सकते। आप शक्ति के बिना सबसे कामुक नहीं हो सकते। यहां तक कि जो पुरुष अपनी पत्नियों को पीटते हैं, उन्हें भी यह शक्ति समाज से मिलती है जो इसे अनुमति देता है या इसकी निंदा करता है, इसे प्रोत्साहित करता है। कोई नस्लवाद के खिलाफ नहीं हो सकता, कोई सेक्सिज्म के खिलाफ नहीं हो सकता, जब तक कि कोई पूंजीवाद के खिलाफ न हो।”

— स्टोकेली कारमाइकल

जातिगत भेदभाव और भारत में अछूतों (दलितों) के उत्पीड़न के मामले में जातिवाद में शक्ति की भूमिका समान रूप से प्रासंगिक है। यह सच है कि दलित वंचित हैं। सवर्णों (उच्च जातियों) के हाथों में सामाजिक, आर्थिक, प्रशासनिक और राजनीतिक सभी प्रकार की शक्ति केंद्रित होती है। उच्च जातियों पर दलितों की पूर्ण निर्भरता उन्हें कमजोर बनाती है। इसलिए जातिगत भेदभाव और दलितों के दमन को दलितों और उच्च जातियों के बीच सत्ता समीकरण में बदलाव से ही रोका जा सकता है। दृष्टिकोण परिवर्तन का सरलतम उपाय जातिगत भेदभाव को समाप्त नहीं कर सकता। जातिगत भेदभाव को समाप्त करने के लिए सशक्त होने के लिए दलितों को स्वयं कड़ी मेहनत करनी होगी। डॉ. अम्बेडकर ने यह भी महसूस किया था कि दलितों की समस्याएँ सामाजिक कम लेकिन राजनीतिक अधिक हैं। इसीलिए उन्होंने दलितों को राजनीतिक सत्ता हासिल करने का आह्वान किया। अब समय आ गया है कि हम दलितों को सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक रूप से सशक्त बनाने के लिए हर संभव प्रयास करें। दलितों की भौतिक परिस्थितियों में परिवर्तन ही उन्हें जातिगत भेदभाव और उत्पीड़न से मुक्ति दिला सकता है। दलितों को सभी प्रकार की शक्ति और संसाधनों में उनका उचित हिस्सा पाने के लिए स्वयं कठिन संघर्ष करना पड़ता है। हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि जातिगत भेदभाव दृष्टिकोण का विषय नहीं है। बल्कि यह समाज में सत्ता समीकरण बदलने का सवाल है।

(एसआर दारापुरी आल इंडिया पीपुल्स फ्रंट के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

- Advertisement -

Latest News

फिलिस्तीन की शीरीन की हत्या निशाने पर निर्भीक पत्रकारिता

11 मई को फिलिस्तीन के जेनिन शहर में इजरायली फौजों द्वारा की जा रही जबरिया बेदखली को कवर कर...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This