Sunday, May 22, 2022

तन्मय के तीर

ज़रूर पढ़े

देश अंधकार के कितने गहरे कुएं में चला गया है उसकी ताजा नजीर इलाहाबाद हाईकोर्ट के एक जज की वह टिप्पणी है जिसमें मी लॉर्ड ने गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने की मांग की है। और फिर इस कड़ी में उन्होंने गाय की तारीफों के लिए जो-जो बातें कहीं हैं वो किन्हीं किताबों या वैज्ञानिक शोधों के हवाले से न होकर शुद्ध ह्वाट्सएपिया ज्ञान पर आधारित हैं। मसलन उन्होंने यहां तक कह डाला कि वह सांस में भी आक्सीजन ही लेती हैं और निकालती भी ऑक्सीजन ही है। अब अगर इस तरह के कुपढ़ लोग देश की उच्च न्यायपालिका में पहुंच गए हैं तो समझा जा सकता है कि देश के पतन की गति कितनी तेज है।

यह वह न्यायपालिका है जिसे तमाम संवैधानिक नियमों और कानूनों का न केवल परीक्षण करना है बल्कि यह सब कुछ वैज्ञानिकता और तार्किकता की कसौटी पर होगा। लेकिन जिस शख्स को इन सारी चीजों की हवा तक नहीं लगी है उससे भला क्या उम्मीद की जा सकती है। बस इसमें एक बात जरूर जोड़ी जा सकती है कि मौजूदा निजाम अपने मंसूबों में पूरी तरह से सफल रहा है। समाज, देश और विधायिका से लेकर कार्यपालिका तक अभी उसकी गिरफ्त में माने जा रहे थे लेकिन न्यायपालिका के बारे में यह कहा जाता था कि अभी उसकी पकड़ से बाहर है कम से कम वैचारिक स्तर पर। लेकिन इस वाकये ने बता दिया है कि दीमक उसकी नींव में भी लग गए हैं। इसी मसले पर देखिए कार्टूनिस्ट तन्मय का नया कार्टून:

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

- Advertisement -

Latest News

सरकारी दावों पर पानी फेरता झारखंड के पानी का सच

कहा जाता है कि पहाड़ से पानी का रिश्ता सदियों पुराना है। प्रकृति के इसी गठबंधन की वजह से...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This