Sunday, August 14, 2022

यूपी में अस्पतालों को मौत के घर में बदलने की तैयारी

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

लखनऊ। ऐसे समय में जबकि गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में 60 से ज्यादा बच्चों की मौत हो गयी है। आक्सीजन के सिलेंडरों के समय से आपूर्ति न हो पाने के पीछे पैसे की कमी प्रमुख कारण रहा है। तब यूपी की योगी सरकार ने स्वास्थ्य के बजट में आधे की कटौती करने का फैसला किया है। गौरतलब है कि इसी बजट के तहत बीआरडी और सूबे के दूसरे चिकित्सा कालेजों को रकम मुहैया करायी जाती है।

टाइम्स ऑफ इंडिया के हवाले से आयी खबर में बताया गया है कि 14 मेडिकल कालेजों के लिए 2016-17 में 2344 करोड़ रुपये बजट था जिसे 2017-18 में घटाकर 1148 करोड़ रुपये कर दिया गया है। इसके तहत उसी अनुपात में गोरखपुर के बीआरडी कालेज का बजट 15.9 करोड़ से घटकर 7.8 करोड़ हो गया है। इसमें सबसे खास बात ये है कि मशीनों और उपकरणों के मद में पहले 3 करोड़ आवंटित थे अब उसे कम करके 75 लाख कर दिया गया है।

इसी तर्ज पर सभी मेडिकल कालेजों के बजट में कटौती की गयी है। उदाहरण के लिए कानपुर और इलाहाबाद का बजट 15.9 करोड़ से घटाकर क्रमशः 3.3 करोड़ और 4.2 करोड़ कर दिया गया है।

कहा जा रहा है कि योगी आदित्यनाथ गोरखपुर समेत पूर्वांचल में अकाल मौतों के लिए कुख्यात जापानी बुखार के खिलाफ पिछले 20 सालों से संसद के भीतर आवाज उठा रहे हैं। ये उनकी चिंता का सबसे प्रमुख विषय रहा है। लेकिन ये चिंता उनके सिर्फ भाषणों तक ही सीमित लगती है। क्योंकि अब जब उनके पास उस क्षेत्र में करने के लिए कुछ अधिकार है तो उस दिशा में आगे बढ़ने की जगह उन्होंने उलटी राह अख्तियार कर ली है। जिससे मौत की तबाही के और बढ़ने की आशंका पैदा हो गयी है। 

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

कार्पोरेट्स के लाखों करोड़ की कर्जा माफ़ी क्या रेवड़ियां नहीं हैं मी लार्ड!

उच्चतम न्यायालय ने अभी तक यह तय नहीं किया है कि फ्रीबीज या रेवड़ियां क्या हैं, मुफ्तखोरी की परिभाषा क्या है? सुप्रीम...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This