Saturday, August 13, 2022

Subhash Chandra Bose

धार्मिक कट्टरपंथियों के तीखे आलोचक थे नेताजी सुभाषचन्द्र बोस

देश इस साल नेताजी सुभाषचन्द्र बोस की 125वीं जयंती मना रहा है। इसी के मद्देनजर, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की घोषणा के अनुसार 23 जनवरी को नेताजी के जन्मदिवस को ‘पराक्रम दिवस' के रूप में मनाया इस वर्ष से मनाये...

नेताजी की 125वीं जयंती और 1942 में सावरकर व डॉ. मुखर्जी की भूमिका

कोलकाता में नेताजी की 125वीं जयंती मनाई गई और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उस समारोह के मुख्य अतिथि थे। बंगाल ने यूं तो देश को अनेक रत्न दिए हैं, पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस और रवींद्रनाथ टैगोर का स्थान उनमें...

जब पूरा देश एक ही नारे से गूंज उठा! ‘लाल किले से आई आवाज-सहगल, ढिल्लन, शाहनवाज़’

हमारे देश की स्वतंत्रता में यूं तो असंख्य भारतीयों और अनेक तूफानी घटनाओं का योगदान है, लेकिन इन घटनाओं में से कुछ घटनाएं ऐसी हैं, जो आगे चलकर आजादी में निर्णायक साबित हुईं। ‘लाल किला ट्रायल’ ऐसी ही एक...

आजादी की लड़ाई पर पैबंद साबित होगा हिंदुत्व का लगाया गया पर्दा

मोदी ने पांच अगस्त को अयोध्या में अपने भाषण में स्वतंत्रता आंदोलन (Freedom Movement) की तुलना राम मंदिर आंदोलन  (RJB Movement) से कर दी। मुझे लगा कि जरूर तमाम देश भक्तों का ख़ून खौलेगा और इस पर वो मोदी...
- Advertisement -spot_img

Latest News

भ्रष्ट अधिकारियों, राजनेताओं को लोकायुक्त से बचाने के लिए कर्नाटक में गठित एसीबी भंग

पिछले पखवाड़े कर्नाटक हाईकोर्ट के जस्टिस एचपी संदेश ने राज्य के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) को 'वसूली केंद्र' कहा था। उन्होंने एसीबी प्रमुख आईपीएस...
- Advertisement -spot_img