Thursday, August 18, 2022

tribal

एक आदिवासी महिला देश की राष्ट्रपति बनी, दूसरी बेरहम पिटाई के बाद खेत में हुई बेहोश

रांची। देश की पहली आदिवासी महिला के तौर पर जब द्रौपदी मुर्मू राष्ट्रपति पद का शपथ ले रही थीं उसी समय झारखंड में दो आदिवासी महिलाओं की बेरहमी से पिटाई की जा रही थी। और उनको इतना पीटा गया...

द्रौपदी मुर्मू देश की राष्ट्रपति या भाजपा की? 

ओडिशा के आदिवासी समुदाय से आने वाली द्रौपदी मुर्मू देश की 15वीं राष्ट्रपति बन गई हैं। वे देश की पहली आदिवासी और दूसरी महिला राष्ट्रपति हैं। प्रतीकात्मक तौर पर यह पूरे देश के लिए गर्व और भारत के अपाहिज...

मुख्यमंत्री के वादों के बावज़ूद झारखंड के आदिवासी-मूलवासी वन अधिकार से वंचित

सत्तारूढ़ दल झामुमो और कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्रों में वन अधिकार कानून को सही से लागू करने एवं जंगल में रहने वाले आदिवासी-मूलवासियों को वन पट्टा देने व जंगल पर पूर्ण अधिकार देने का वादा किया था। सरकार...

पहली नागरिक के रूप में कितना कारगर साबित होंगी मुर्मू

संविधान निर्माताओं समेत स्वाधीनता संग्राम से मंज-तपकर निकले सिद्धान्तनिष्ठ और खरे राजनेताओं की उस पुरानी पीढ़ी ने (जिसे यह पता था कि हमारा लोकतंत्र कितना बहुमूल्य है) यह कल्पना तक नहीं की होगी कि राज्यपाल और राष्ट्रपति जैसे पद...

द्रौपदी मुर्मू, आदिवासी समुदाय और हिंदू राष्ट्र का एजेंडा

एक महीने के अंदर भारत एक नए राष्ट्रपति को देखेगा। तब तक इस लेख के प्रकाशन का शायद कोई औचित्य भी नहीं रहेगा। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो जाएगा और चुनाव आयोग ने 18...

नक्सली होने के नाम पर एक बेगुनाह को 9 महीने काटने पर पड़े जेल

सुकमा (बस्तर)। बस्तर के सुकमा जिले में 9 महीने बाद एक आदिवासी को रिहाई मिली है। पुलिस ने उक्त बेगुनाह युवक को नक्सली बता कर जेल भेज दिया था। इसका नतीजा यह हुआ कि धुर नक्सल प्रभावित गांव मिनपा...

मीना खलखो हत्या मामले में सभी पुलिसकर्मी बरी

रायपुर। छत्तीसगढ़ के बलरामपुर की मीना खलखो हत्याकांड मामले में न्यायालय ने सभी आरोपी पुलिसकर्मियों को बरी कर दिया रायपुर की अदालत ने पुलिसकर्मियों को दोषमुक्त करार दिया है। इस आदेश की कॉपी एक माह बाद जारी की गई...

झारखंड में आदिम जनजाति असुर की 300 आबादी दूषित पानी पीने को मजबूर  

 वैसे तो झारखण्ड में बारह महीने ही पेयजल की भारी किल्लत रहती है, प्रायः ग्रामीण नदी, चुंआ (खेतों में या नदी-नालों के पास गड्ढा खोदकर बनाया गया एक मिनी कुंआ जिसमें रस्सी व बाल्टी की जरूरत नहीं होती), चापाकल...

बस्तर का बहिष्कृत भारत-2: ईसाई आदिवासियों का जीना हुआ दूभर

बीजापुर। छत्तीसगढ़ के दक्षिण में स्थित बस्तर संभाग में आदिवासियों के बीच धार्मिक आस्थाओं के सवाल को लेकर काफी तनाव और आपसी तकरार की स्थिति बनी हुई है। ऐसी एक घटना विगत दिनों होलिका दहन के दिन यानि मार्च...

ग्राउंड रिपोर्ट: बस्तर का बहिष्कृत भारत-1

बस्तर। बस्तर आमतौर पर माओवाद से संबंधित हिंसा और प्रतिहिंसा के लिए कुप्रसिद्ध है, जिसके बारे में काफी कुछ मीडिया और अन्य माध्यमों से देश दुनिया जानती है। पर इसी क्षेत्र में एक ऐसा भारत भी रहता है जो...
- Advertisement -spot_img

Latest News

शीर्ष पदों पर बढ़ता असंतुलन यानी संघवाद को निगलता सर्वसत्तावाद 

देश में बढ़ता सर्वसत्तावाद किस तरह संघवाद को क्रमशः क्षतिग्रस्त कर रहा है, इसके उदाहरण विगत आठ वर्षों में...
- Advertisement -spot_img