Wednesday, December 7, 2022

किसान आंदोलन के समर्थन में यूपी, एमपी व महाराष्ट्र से भारी तादाद में लोग पहुंचे दिल्ली

Follow us:
Janchowk
Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

नई दिल्ली। दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन के समर्थन में जन आन्दोलनों के राष्ट्रीय समन्वय की नेता मेधा पाटेकर और मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित सोशलिस्ट पार्टी  के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. संदीप पाण्डेय के नेतृत्व में महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश व उत्तर प्रदेश विभिन्न जिलों के विभिन्न संगठनों के करीब से अधिक प्रतिनिधियों ने दिल्ली आकर किसान आंदोलन का समर्थन किया।

8 जनवरी को उत्तर प्रदेश दिल्ली गाजीपुर बॉर्डर, 9 जनवरी को राजस्थान हरियाणा बॉर्डर (शाहजहांपुर बॉर्डर), 10 हरियाणा दिल्ली टिकरी बॉर्डर, 11 जनवरी को दिल्ली हरियाणा सिंघु बॉर्डर पहुंच कर किसानों के धरने का समर्थन किया। जन आंदोलनों की राष्ट्रीय समन्वय की नेता मेधा पाटेकर ने कहा कि दिल्ली के चारों तरफ बैठे किसान पूरे भारत के किसानों का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।

medha patekar

यह लड़ाई अडानी-अंबानी जैसे पूंजीपतियों के साम्राज्य जिसको मोदी जी चला रहे के खिलाफ है। अन्नदाता किसान की तरफ से 13 व 14 जनवरी को तिलकुट बाँटने के लंगर के कार्यक्रम चलाये जायेंगे। 23 जनवरी को सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर किसानों के समर्थन में कार्यक्रम किए जाएंगे और 26 जनवरी को दिल्ली में होने जा रहे बड़े किसान आंदोलन के समर्थन में देशभर के किसान समर्थन में विरोध प्रदर्शन करेंगे।

सोशलिस्ट पार्टी इंडिया के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. संदीप पाण्डेय ने कहा कि पंजाब में जो न्यूनतम समर्थन मूल्य मिलता है वह पूरे देश के किसानों को मिलना चाहिए जिससे पूरे देश के किसान खुशहाल हो सकें। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के शासन में छुट्टा जानवरों ने किसानों को तबाह कर दिया है।

rajeev yadav

पिछले दिनों हरदोई ज़िले में किसान जब छुट्टा गायों को गोशाला ले जाना चाहते थे तो भारतीय जनता पार्टी के समर्थकों ने गाँव वालों के साथ मारपीट की लेकिन आज तक पुलिस ने उनके खिलाफ कोई भी मामला दर्ज नही किया है, अनुसूचित जाति/जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम की धारा लगाना तो दूर की बात है। उन्होंने कहा कि जब देश के  किसान 26 जनवरी को दिल्ली में प्रवेश करेंगे तो उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ मुख्मंत्री आवास पर गायों को बांधने किसान पहुचेंगे।

dhol nagade

नर्मदा बचाओ आन्दोलन के किसानों  ने ढोल नगाड़े और नाच गाने के साथ जुलूस निकल कर आन्दोलन का समर्थन किया।

(प्रेस विज्ञप्ति पर आधारित।)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

क्यों ज़रूरी है शाहीन बाग़ पर लिखी इस किताब को पढ़ना?

पत्रकार व लेखक भाषा सिंह की किताब ‘शाहीन बाग़: लोकतंत्र की नई करवट’, को पढ़ते हुए मेरे ज़हन में...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -