Friday, October 7, 2022

मेरे चरित्र हनन का किया जा रहा है प्रयास: योगेंद्र यादव

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

(26 जनवरी के ट्रैक्टर मार्च से जुड़े लाल किला का मसला संसद में भी उठा था। उसमें कांग्रेस के एक सांसद ने स्वराज अभियान के नेता योगेंद्र यादव को निशाना बनाते हुए उन पर तमाम किस्म के आरोप लगाए थे। हालांकि बाद में सदन में कांग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी ने सफाई देकर योगेंद्र को उससे अलग कर दिया था। लेकिन यह मुद्दा अब सत्तारूढ़ दल को मिल गया और उसने योगेंद्र के खिलाफ अभियान छेड़ दिया है। इसी सिलसिले में योगेंद्र यादव ने एक बयान जारी किया है। पेश है उनका पूरा वक्तव्य-संपादक)

9 फरवरी को कांग्रेस के लुधियाना के सांसद श्री रवनीत बिट्टू ने लोकसभा के पटल पर संसदीय विशेषाधिकार का दुरुपयोग करते हुए मेरा नाम लेकर मुझ पर अनर्गल, आधारहीन और दुष्प्रेरित आरोप लगाए और इसके जरिए मुझे लालकिले में 26 जनवरी की घटनाओं से जोड़ने का हास्यास्पद प्रयास किया। जब उनकी अपनी पार्टी कांग्रेस के संसदीय नेता श्री अधीर रंजन चौधरी ने इन आरोपों से पार्टी को अलग कर लिया तो बीजेपी नेता और ट्रोल आर्मी ने इस चरित्र हनन अभियान की कमान संभाल ली है।

जैसा कि पूरा देश जानता है कि 26 जनवरी को कुछ समूह और व्यक्ति संयुक्त किसान मोर्चा और पुलिस के बीच ट्रैक्टर यात्रा को लेकर बनी समझदारी का पालन न करने पर आमादा थे। यह जानकारी दिल्ली पुलिस को थी।फिर भी  उनको रोकने के कोई पुख़्ता इंतज़ाम नहीं किए गए। लाल क़िला में जो उपद्रव और बेहूदा हरकतें की गयीं उसकी संयुक्त किसान मोर्चा और मैंने तत्काल आलोचना और निंदा की, उसी वक्त शांति की अपील की और ट्रैक्टर परेड रोक देने का फैसला घोषित किया।

सरकार ने पूरी जानकारी होते हुए भी जान-बूझ कर इस आंदोलन को बदनाम करने का प्रयास किया और किसान नेताओं को आरोपित किया। फिर इस बहाने आंदोलन पर हमले आयोजित किए जिसे किसानों ने अपनी एकजुटता से नाकामयाब कर दिया।

26 जनवरी को दिल्ली की गणतंत्र किसान परेड में हुई कथित गड़बड़ियों के बारे में दिल्ली पुलिस के शो कॉज नोटिस का जवाब मैं एक सप्ताह पहले ही दे चुका हूं।

आंदोलन को बदनाम करने की इस कुत्सित रणनीति का सच देश के सामने आए इसके लिए जरूरी है कि इस अभियान में जुटे कांग्रेसी और बीजेपी नेता या तो इन आरोपों के पक्ष में कोई प्रमाण पेश करें या फिर इन्हें वापस ले। मैं लोकसभा के अध्यक्ष से अनुरोध करता हूं की सदन के विशेषाधिकार के इस दुरुपयोग को रोकने के लिए आवश्यक कदम उठाएं। मैं दिल्ली पुलिस से मांग करता हूं कि अगर उन्हें 26 जनवरी की घटनाओं में मेरी संलिप्तता का कोई प्रमाण है तो उसे सार्वजनिक करें और उस दिन पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ हुई मेरी बातचीत का लॉग और ब्यौरा सार्वजनिक करें।

सत्यमेव जयते!

योगेंद्र यादव

सदस्य, संयुक्त किसान मोर्चा समन्वय समिति

संस्थापक, जय किसान आंदोलन

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

पीयूष गोयल के कार्यकाल में रेल अधिकारियों ने ओरेकल से चार लाख डालर की रिश्वत डकारी; अमेरिका में कार्रवाई, भारत में सन्नाटा

अब तो यह लगभग प्रमाणित हो गया है कि मोदी सरकार की भ्रष्टाचार पर जीरो टालरेंस का दावा पूरी...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -