Wednesday, August 10, 2022

संविधान बनने से बहुत पहले स्वामी विवेकानंद ने धर्मनिरपेक्षता की वकालत की थी:चीफ जस्टिस

ज़रूर पढ़े

जब से भारत के चीफ जस्टिस का पद जस्टिस एनवी रमना ने सम्भाला है तब से चाहे अदालत में सुनवाई हो या उनका व्याख्यान हो, वे हमेशा जनतांत्रिक मूल्यों, संविधान के धर्मनिरपेक्ष स्वरूप और कानून के शासन की अवधारणा पर बल देते रहे हैं। शनिवार को ही उन्होंने इलाहाबाद हाईकोर्ट के एक समारोह में इंदिरा गांधी मामले में साहसिक फैसला देने वाले जज जस्टिस जग मोहन लाल सिन्हा को याद किया और आपातकाल की विभीषिका को हल्के से छुआ तो कल रविवार को चीफ जस्टिस रमना ने बिरसा मुंडा, भगत सिंह और अल्लूरी सीताराम राजू जैसे उन युवाओं को याद किया, जिन्होंने आज़ादी की लड़ाई और आपातकाल के अंधेरों से संघर्ष किया। यही नहीं चीफ जस्टिस रमना ने धर्मनिरपेक्षता की वकालत करके व्यवस्था को यह संदेश दिया कि साम्प्रदायिकता से संविधान के धर्मनिरपेक्ष स्वरूप पर हमला न्यायपालिका बर्दास्त नहीं करेगी।    

भारत के चीफ जस्टिस एनवी रमना ने रविवार को कहा कि स्वामी विवेकानंद ने भारत के संविधान का मसौदा तैयार करने से बहुत पहले धर्मनिरपेक्षता की वकालत की थी और उनकी शिक्षाओं ने भारत को ऐसे समय में फिर से सुर्खियों में ला दिया जब इसे केवल पश्चिमी देशों के उपनिवेश के रूप में जाना जाता था। स्वामी विवेकानंद चाहते थे कि धर्म अंधविश्वास और कठोरता से ऊपर उठे और उनका मानना था कि धर्म का असली सार सहिष्णुता और सामान्य भलाई है।

चीफ जस्टिस ने कहा कि स्वतंत्रता संग्राम के दौरान उपमहाद्वीप में हुए दर्दनाक विभाजन, जैसे कि उन्होंने घटनाओं को सामने आने की भविष्यवाणी की थी, से बहुत पहले उन्होंने धर्मनिरपेक्षता की वकालत की, जिसके परिणामस्वरूप भारत के समतावादी संविधान का निर्माण हुआ। उनका दृढ़ विश्वास था कि धर्म का असली सार सामान्य अच्छा, और सहिष्णुता है। धर्म, अंधविश्वास और कठोरता से ऊपर होना चाहिए।

चीफ जस्टिस रमना विवेकानंद इंस्टीट्यूट ऑफ ह्यूमन एक्सीलेंस, हैदराबाद के 22वें स्थापना दिवस और स्वामी विवेकानंद के शिकागो संबोधन की 128वीं वर्षगांठ के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे।

चीफ जस्टिस ने कहा कि 1893 में शिकागो में धर्मों की संसद की दुनिया में उनकी भागीदारी ने भारत को एक सम्मानजनक पहचान दी, जो उस समय केवल उपनिवेशों में से एक के रूप में पहचाना जाता था। उनके संबोधन ने वेदांत के प्राचीन भारतीय दर्शन पर दुनिया का ध्यान आकर्षित किया। उन्होंने प्रैक्टिकल वेदांत को लोकप्रिय बनाया, क्योंकि इसने सभी के लिए प्रेम, करुणा और समान सम्मान का उपदेश दिया। उनकी शिक्षाओं की आने वाले समय में बहुत प्रासंगिकता है ।

चीफ जस्टिस ने युवाओं को सशक्त बनाने पर स्वामी विवेकानंद के जोर पर भी प्रकाश डाला। स्वामी विवेकानंद ने कहा था कि भविष्य की आशा युवाओं के हाथ में है। राष्ट्र का चरित्र युवाओं के चरित्र पर निर्भर करता है। इतिहास युवाओं द्वारा दी गई शक्ति का गवाह है। स्वतंत्रता संग्राम का इतिहास इनके उल्लेख के बिना अधूरा होगा। बिरसा मुंडा की या भगत सिंह और अन्य की तिकड़ी या चाहे वह अल्लूरी सीताराम राजू हों, जिन्हें प्रतिरोध आंदोलन के दौरान गोली मार दी गई थी। उन्होंने कहा कि यह अच्छी तरह से स्थापित तथ्य है कि युवाओं की आवाज और शक्ति दुनिया को बदल सकती है और शैक्षणिक संस्थानों पर उन्हें अधिकारों और जिम्मेदारियों के प्रति जागरूक करने की बड़ी जिम्मेदारी है।

स्वामी विवेकानंद ने एक बार कहा था कि भविष्य की मेरी आशा चरित्रवान-बुद्धिमान युवाओं में है, वे दूसरों की सेवा के लिए सब कुछ त्याग देते हैं। स्वामीजी ने यह भी कहा था कि ब्रह्मांड की सारी शक्ति पहले से ही हमारी है। यह हम हैं जिन्होंने अपना लगाया है, हमारी आंखों के सामने हाथ और रोना कि यह अंधेरा है ।

चीफ जस्टिस रमना ने कहा कि यह व्यापक रूप से माना जाता है कि राष्ट्र का चरित्र, युवाओं पर निर्भर करता है,युवा दिमाग आमतौर पर सबसे अधिक चिंतनशील होते हैं।युवा दिल, सबसे अधिक प्रतिक्रियाशील होता है।महानता प्राप्त करने के लिए इन भावनाओं को अक्सर ढाला जा सकता है, लेकिन इस रास्ते में सबसे बड़ी चुनौती सही और गलत विकल्प के बीच अंतर करने की क्षमता है युवा अक्सर हर क्रिया को स्पष्ट रूप से समझते हैं। वे अपने प्रति या दूसरों के प्रति अन्याय बर्दाश्त नहीं करते हैं। वे अपने आदर्शों से समझौता नहीं करते, कुछ भी हो जाए। वे न केवल निस्वार्थ हैं बल्कि साहसी भी हैं। वे जिस कारण से विश्वास करते हैं, उसके लिए बलिदान देने को तैयार हैं।

आज हम जिन लोकतांत्रिक अधिकारों को मानते हैं, वे किसके परिणाम हैं?स्वतंत्रता संग्राम के दौरान या आपातकाल के अंधेरे के दौरान सड़कों पर उतरे हजारों युवाओं का संघर्ष। कई लोगों ने अपनी जान गंवाई, आकर्षक करियर का बलिदान दिया, सभी देश और समाज की बेहतरी के लिए।

चीफ जस्टिस ने कहा कि भारत एक जीवंत अर्थव्यवस्था वाला एक तेजी से विकसित होने वाला देश है। एक सर्वेक्षण में पता चला है कि भारत की 45 फीसद से अधिक आबादी युवा है। हमारे देश की कुल जनसंख्या का लगभग 65 फीसद 15 से 35 आयु वर्ग के बीच है।

चीफ जस्टिस ने कहा कि मैं युवा अधिवक्ताओं और वकीलों के साथ बातचीत करता हूं। मैंने देखा है कि युवाओं में बहुत ऊर्जा और जुनून है। दुनिया आप पर कई तरह की चुनौतियाँ डालने की कोशिश कर सकती है, लेकिन मैं कहता हूं कि आपको अच्छी लड़ाई लड़नी चाहिए। मुझे पता है कि यह आसान नहीं है, लेकिन मैं चाहता हूँ कि आप सभी को यह याद रखना चाहिए कि दृढ़ता और दृढ़ता दो हैं जो सफलता के लिए मंत्र हैं। शिक्षा और जागरूकता सशक्तिकरण के प्रमुख घटक हैं।

चीफ जस्टिस ने कहा कि मैं ग्रामीण पृष्ठभूमि से आता हूं। हमने खुद को शिक्षित करने के लिए संघर्ष किया। आज संसाधन आपकी उंगलियों पर उपलब्ध हैं। असीमित है सूचना की दुनिया तक पहुंच। ये फायदे भारी बोझ के साथ आते हैं। अति जागरूकता कि आधुनिक समाज सूचना जनादेश के प्रवाह में आसानी के साथ अनुमति देता है कि छात्र सामाजिक और राजनीतिक रूप से अधिक जागरूक हैं। आपको समाज और राजनीति की उन सामाजिक बुराइयों और समसामयिक मुद्दों के बारे में पता होना चाहिए जिनका सामना करना पड़ रहा है। अपनी दृष्टि का विस्तार करने और विविधता लाने के लिए किताबें पढ़ें। हालांकि इन दिनों हमारे पास रखने के लिए कई उपकरण हैं।

(जेपी सिंह वरिष्ठ पत्रकार हैं और आजकल इलाहाबाद में रहते हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

शिशुओं का ख़ून चूसती सरकार!  देश में शिशुओं में एनीमिया का मामला 67.1%

‘मोदी सरकार शिशुओं का ख़ून चूस रही है‘ यह पंक्ति अतिशयोक्तिपूर्ण लग सकती है पर मेरे पास इस बात...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This