Tuesday, August 9, 2022

मदन कोथुनियां

हर मोर्चे पर फेल प्रधानमंत्री के 4 एल

भारत के प्रधानमंत्री मोदी जी परसों देश से मुखातिब हुए और चार "L"का महत्व जनता को समझाया। 1.Land 2.Labour 3.Law 4.Liquidity मुझे नहीं पता कि प्रधानमंत्री जी की क्या मंशा है और क्या करना चाहते हैं मगर इन चारों पैरामीटर के हिसाब से जो...

मनुष्य कहने लायक़ नहीं हैं अपने-अपने संप्रदाय की चिंता करने वाले लोग!

देश के पीएम नित नए नए ढंग से एकता के संदेश दे रहे हैं। फिर भी देशवासियों में जाति और संप्रदाय के नाम पर आपसी अविश्वास और नफरत तेजी से फैलती जा रही है। जिसके लिए देश का मीडिया,...

इतिहास से सबक़ न लेने वाला उसके ही कूड़ेदान में समा जाता है!

कहा जाता है कि इतिहास जब गौरव मात्र करने की विषयवस्तु बन जाता है तो इतिहास खुद को बार-बार दोहराने लगता है। और जब ऐतिहासिक गौरव में संस्कृति का तड़का लगा दिया जाए तो भविष्य, इतिहास से दो कदम...

पत्नी को कंधे पर बैठाकर तय की हज़ारों किमी की दूरी

लोककथाओं में हमने श्रवण की कहानी सुनी थी। जिसमें वह दोनों आँखों से न देख सकने वाले अपने माता-पिता को तराज़ू में रखकर अपने कंधे के सहारे तीर्थाटन कराते हैं। लेकिन एक शख़्स अपनी पत्नी के लिए श्रवण बन...

About Me

24 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

बिहार में सियासत करवट लेने को बेताब

बिहार में बीजेपी-जेडीयू की सरकार का दम उखड़ने लगा है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस दमघोंटू वातावरण से निकलने को...