Sunday, August 14, 2022

स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किया नोटिस, देश में ओमिक्रॉन के 33 मामले

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने उन राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के नाम नोटिस जारी किया है जहां पिछले दो हफ्तों में कोरोना पॉजिटिविटी रेट ज्यादा रिपोर्ट किया गया है। इस नोटिस में लिखा है कि कोरोना के मामले में चिन्हित किए गए इलाकों में नाइट कर्फ्यू लगाया जाए। साथ ही ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने पर रोक लगे और शादी-अंतिम संस्कार जैसे समारोह में कम लोगों को आने की अनुमति दी जाए।

वहीं ओमिक्रॉन के बढ़ते ख़तरे को देखते हुए शहर में धारा 144 लगाई गई है। जिसके तहत किसी भी तरह के रैली, मोर्चे निकलने पर सरकार, पुलिस की तरफ से सख्त मनाही है। 

बूस्टर डोज की ज़रूरत 

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री डॉ भारती प्रवीण पवार ने कहा है कि दुनिया भर के 60 से अधिक देश कोविड वैक्सीन की बूस्टर खुराक़ प्रदान कर रहे हैं। सीडीएससीओ ने भारत बायोटेक, बायोलॉजिकल ई को बूस्टर खुराक के प्रशासन के लिए नैदानिक परीक्षण करने की अनुमति दी है।

इससे पहले कल सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (CDSCO) के तहत आने वाली सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी (SEC) ने कोवीशील्ड बूस्टर डोज की मांग ख़ारिज़ करते हुये कहा है कि कोरोना के बूस्टर डोज को बिना क्लिनिकल ट्रायल के अप्रूव नहीं किया जा सकता है। SEC ने शुक्रवार को सीरम इंस्टीट्यूट की एप्लिकेशन का रिव्यू करते हुए यह बात कही है।

यूके हेल्थ सिक्योरिटी एजेंसी ने कहा है कि भारत में कोविशील्ड की दोनों डोज डेल्टा वैरिएंट की तुलना में ओमिक्रॉन के ख़िलाफ़ कम सुरक्षा प्रदान करते हैं। 

ब्रिटेन की हेल्थ एजेंसी ने दावा किया है कि ओमिक्रॉन के हल्के सिम्टम्स के ख़िलाफ़ बूस्टर डोज 75% तक प्रभावी पाया गया है। ब्रिटेन की स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी ने दावा किया है कि ओमिक्रॉन के हल्के लक्षणों को खत्म करने में कोरोना का बूस्टर डोज 70 से 75% तक प्रभावी है। एजेंसी के मुताबिक वैक्सीन को लेकर शुरुआती अध्ययन में इस बात की जानकारी सामने आई है। जिसके डेटा यह बताते हैं कि नए वैरिएंट से पीड़ित हल्के मरीजों में वैक्सीन का बूस्टर डोज 75% तक काम करता है।

वैज्ञानिकों ने एस्ट्राजेनेका और फाइजर-बायोएनटेक के बूस्टर डोज को लेकर ओमिक्रॉन प्रभावित 581 लोगों पर हाल ही में ये रिसर्च किया है। वैज्ञानिकों का कहना है कि डेल्टा वैरिएंट के मुकाबले ओमिक्रॉन के मरीजों पर बूस्टर डोज का असर काफी कम रहा। डेल्टा वैरिएंट में वैक्सीन का असर 90% तक पाया गया।

स्विट्जरलैंड में 5 साल से बड़े बच्चों के लिए फाइजर वैक्सीन को अप्रूवल दे दी गई है। स्विट्जरलैंड की स्विस एजेंसी फॉर थैरेप्यूटिक प्रोडक्ट्स (स्विसमेडिक) ने शुक्रवार को वहां 5 से 11 साल के बच्चों के लिए फाइजर वैक्सीन के इस्तेमाल को अप्रूवल दिया है। स्विसमेडिक ने अपनी वेबसाइट पर एक बयान में कहा कि हमने फाइजर-बायोएनटेक की एप्लीकेशन के साथ जमा कराए गए डेटा का बहुत ध्यान से अध्ययन किया है। बयान के मुताबिक, यह अध्ययन 1500 से ज्यादा बच्चों पर किया गया और इसमें सामने आया कि यह 5 से 11 साल के बच्चों के लिए पूरी तरह सुरक्षित है। एजेंसी ने यह भी बताया कि इंजेक्शन लगाने वाली जगह पर दर्द होने के साथ थकान, सिरदर्द, बुखार और हाथ और पैरों में दर्द जैसे साइड इफेक्ट देखे गए।

देश में कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट के कुल 33 मामले हो गए हैं। राजधानी दिल्ली में शनिवार को नए वैरिएंट ओमिक्रॉन का दूसरा केस मिला है। वहीं महाराष्ट्र में शुक्रवार को नए वैरिएंट के 7 नए केस मिले थे। इनमें 3 मुंबई से हैं। पुणे से सटे पिंपरी चिंचवाड़ जिले में 4 नए ओमिक्रॉन संक्रमित सामने आए हैं। यहां एक 3 साल की बच्ची भी ओमिक्रॉन से संक्रमित मिली है। यह बच्ची हाल में नाइजीरिया से लौटी ओमिक्रॉन संक्रमित महिला के संपर्क में आई थी

महाराष्ट्र में शुक्रवार को साढ़े तीन साल की बच्ची सहित ओमिक्रॉन के सात नए मामले सामने आए हैं। इनमें तीन मामले मुंबई में सामने आए हैं, जिनकी क्रमशः तंजानिया, यूके और दक्षिण अफ्रीका-नैरोबी की ट्रैवल हिस्ट्री है। यह सभी 48, 25 और 37 वर्ष की आयु के पुरुष हैं। इन नए मामलों के साथ ही मुंबई में ओमिक्रॉन रोगियों की संख्या पांच हो गई है। अब महाराष्ट्र में मरीजों की संख्या 17 हो गई है, जबकि देश में अब तक 32 मामले सामने आ चुके हैं। 

मुंबई धारा 144 लागू 

न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक मुंबई में पुलिस ने बड़ी सभाओं पर दो दिन का प्रतिबंध लगाने का आदेश दिया है। एक अधिकारी ने पीटीआई-भाषा को बताया कि मुंबई शहर में यह प्रतिबंध लगाए गए हैं, जिसके तहत अगले दो दिनों के लिए सभी तरह के लोगों और वाहनों की रैलियों और विरोध मार्चों पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है। 

उन्होंने कहा कि पुलिस उपायुक्त (संचालन) द्वारा जारी आदेश शनिवार और रविवार को 48 घंटे तक प्रभावी रहेगा। यह फैसला COVID-19 के नए ओमिक्रॉन वैरिएंट से मानव जीवन के लिए ख़तरे को रोकने और अमरावती, मालेगांव और नांदेड़ में हुई हिंसा के मद्देनजर कानून व्यवस्था बनाए रखने के उद्देश्य से लिया गया। 

मुंबई के स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि बृहन्मुंबई नगर निगम के अनुसार, तंजानिया से लौटा 48 वर्षीय यात्री घनी आबादी वाले धारावी क्षेत्र का निवासी है, लेकिन लोगों के बीच जाने से पहले उसे किसी तरह के लक्षण नहीं थे और वह आइसोलेशन में था। 4 दिसंबर को उसकी कोविड -19 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। उसने वैक्सीन की कोई भी डोज नहीं ली है, वहीं उसके संपर्क में आए दो लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है।

वहीं महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने बताया कि पुणे में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित सात में से पांच मरीजों की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आ गई है। समाचार एजेंसी पीटीआई ने पवार के बयान के हवाले से बताया है कि पिम्परी-चिंचवाड़ औद्योगिक टाउनशिप में मिले छह में से चार मरीजों और पुणे शहर के एक मरीज की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई है। मालूम हो कि नाइजीरिया से आई एक प्रवासी भारतीय महिला और उसकी दोनों बेटियों समेत सात की जांच रिपोर्ट में ओमिक्रॉन की पुष्टि हुई थी।

पीटीआई ने जामनगर नगर निगम के अधिकारियों के हवाले से बताया कि जामनगर में एक प्रवासी भारतीय की पत्‍नी और उसका एक अन्य रिश्तेदार को कोरोना के नए वैरिएंट से संक्रमित पाया गया है। संक्रमितों के नमूनों की जीनोम जांच के बाद इसकी पुष्टि हुई है। इन लोगों को शहर के गुरु गोबिंद सिंह सरकारी अस्पताल में बनाए गए विशेष ओमिक्रॉन वार्ड में स्थानांतरित किया गया है। इसके साथ ही गुजरात में ओमिक्रॉन के मरीजों की संख्या बढ़कर तीन हो गई है।

इस बीच राजस्थान में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की चपेट में आए व्यक्ति के संपर्क में आई महिला दिल्ली में संक्रमित पाई गई है। महिला को दिल्‍ली के एलएनजेपी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। महिला विदेश यात्रा पर नहीं गई थी। समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक उसके परिवार के 17 लोग आइसोलेशन में हैं। महिला के नमूने को जीनोम सिक्‍वेंसिंग के लिए राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र में भेजा गया था। बता दें कि हाल ही में दिल्ली में ‘ओमिक्रॉन’ का पहला मामला सामने आया था।

पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 8,500 नए मामले मिले हैं 624 मौतें हुई हैं और सक्रिय मामले भी 201 बढ़े हैं। 624 में से 256 मौतें चंडीगढ़, 225 केरल और 94 गोवा से हैं। इन तीनों राज्यों ने पहले हुई मौतों को नए आंकड़ों के साथ जोड़कर जारी किया है। दैनिक और साप्ताहिक संक्रमण दर एक प्रतिशत से नीचे बनी हुई है। मरीजों के उबरने की दर में सुधार है और मृत्यु दर में स्थिर बनी हुई है। वहीं, गोवा में ब्रिटेन से आए तीन लोगों को कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद आइसोलेशन में रखा गया है। ये तीनों गोवा मूल के ही हैं।

(पाजनचौक ब्यूरो की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

कार्पोरेट्स के लाखों करोड़ की कर्जा माफ़ी क्या रेवड़ियां नहीं हैं मी लार्ड!

उच्चतम न्यायालय ने अभी तक यह तय नहीं किया है कि फ्रीबीज या रेवड़ियां क्या हैं, मुफ्तखोरी की परिभाषा क्या है? सुप्रीम...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This