Tuesday, October 4, 2022

गढ़वाल में भाजपा के लिये आधी सीटें बचाना भी आसान नहीं इस बार

ज़रूर पढ़े

सीमान्त प्रदेश उत्तराखण्ड के गढ़वाल मण्डल में कोटद्वार बावर से लेकर भारत-तिब्बत सीमा तक फैले 41 विधानसभा क्षेत्रों में नाम वापसी के बाद कुल 391 प्रत्याशी मैदाने जंग में रह गये हैं। इनके भाग्य का फैसला आगामी 14 फरबरी को 46,21,140 मतदाताओं द्वारा किया जाना है। इन सभी सीटों पर एक दो को छोड़ कर मुख्य मुकाबला सत्ताधारी भाजपा और कांग्रेस के बीच ही है। यद्यपि आम आदमी पार्टी, उत्तराखण्ड क्रांति दल, बसपा और सपा ने भी विभिन्न सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे हुये हैं। राजनीतिक दलों के बागियों के अलावा भी काफी संख्या में निर्दलीय भी चुनाव मैदान में रह गये हैं जोकि मुख्य दलों के प्रत्याशियों के गणित गड़बड़ा सकते हैं।

पिछले 2017 के चुनाव में चली प्रचण्ड मोदी लहर में भाजपा ने गढ़वाल का लगभग पूरा ही मैदान मार दिया था। उसे कुल 41 सीटों में 34 सीटों की प्रचण्ड जीत मिली थी, जबकि कांग्रेस केवल 6 सीटों पर सिमट गयी थी। उस चुनाव में कांग्रेस के पहाड़ी जिलों से मनोज रावत ने रुद्रप्रयाग की केदारनाथ, राजकुमार ने उत्तरकाशी की पुरोला और प्रीतम सिंह ने देहरादून की चकराता सीट जीती थी। इनके अलावा हरिद्वार जिले की भगवानपुर सीट से कांग्रेस की ममता राकेश, मंगलोर से काजी निजामुद्दीन और पिरान कलियर से फुरकान अहमद ने जीत दर्ज की थी।

लेकिन इस बार एण्टी इन्कम्बेंसी, सत्ता के अहंकार, बार-बार मुख्यमंत्री बदले जाने, कुशासन और महंगाई और बेरोजगारी जैसे मुद्दों को लेकर चुनावी माहौल एकदम बदला-बदला से नजर आ रहा है। भाजपा के लिये पिछली बार जीती हुयी 34 सीटों में से आधी सीटें बचानीं भी बहुत भारी नजर आ रही हैं। अगर आधी सीटें भाजपा ने बचा भी लीं तो 36 का जादुयी आंकड़ा उसके लिये बहुत दूर नजर आ रहा है। क्योंकि भाजपा समर्थक न्यूज चैनलों को भी कुमाऊं मण्डल में भाजपा को 29 में से 10 सीटों के आसपास मिलती नजर आ रही हैं।

गढ़वाल मण्डल के दोनों सीमान्त जिले चमोली और उत्तरकाशी इस समय कांग्रेस की झोली में जाते नजर आ रहे हैं। जबकि पिछले चुनाव में कांग्रेस चमोली जिले की बदरीनाथ, थराली और कर्णप्रयाग में से कहीं भी खाता नहीं खोल पायी थी। जबकि उत्तरकाशी में राजकुमार पुरोला सीट को बचा पाये थे। इस बार राजकुमार ने पाला बदल दिया मगर फिर भी उनको भाजपा का टिकट नहीं मिला। इस सीट पर कांग्रेस के मालचन्द काफी मजबूत माने जा रहे हैं। गंगोत्री सीट पर मुकाबला आप के कर्नल कोठियाल ने अवश्य ही तिकोना बना दिया फिर भी कांग्रेस के विजय पाल सजवाण की स्थिति सबसे मजबूत मानी जा रही है। इस सीट का मिथक है कि जिस भी पार्टी का प्रत्याशी यहां से जीतता है उसकी ही सरकार प्रदेश में बनती रही है। यह सलिसिला उत्तर प्रदेश के जमाने से चला आ रहा है।

टिहरी जिले में कुल 6 सीटें हैं। यहां भाजपा का पलड़ा थोड़ा भारी नजर आ रहा है। यहां देवप्रयाग सीट पर कांग्रेस के मंत्री प्रसाद नैथाणी और उक्रांद के दिवाकर भट्ट के बीच माना जा रहा है। इसी प्रकार टिहरी सीट पर हाल ही में कांग्रेस छोड़ भाजपा में गये किशोर उपाध्याय, कांग्रेस के धनसिंह नेगी और निर्दलीय दिनेश धनै के बीच माना जा रहा है। यहां कांग्रेस प्रत्याशी, जो कि हाल ही में भाजपा से कांग्रेस में आये हैं, तीसरे नम्बर पर रह सकते हैं। घनसाली में भी भाजपा प्रत्याशी शक्तिलाल कांग्रेस प्रत्याशी धनी लाल शाह पर भारी माने जा रहे हैं।

जबकि कांग्रेस के विक्रमसिंह नेगी प्रतापनगर में भारी माने जा रहे हैं। नरेन्द्रनगर में कांग्रेस के ओमगोपाल रावत और कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल के बीच काफी तगड़ा मुकाबला है। उनियाल की सीट फंस गयी है। सत्ता विरोधी हवा कांग्रेस प्रत्याशी के लिये सहायक हो सकती है। इसी प्रकार धनोल्टी सीट पर भी कांग्रेस के जोतसिंह बिष्ट और भाजपा के प्रीतम सिंह पंवार के बीच माना जा रहा मुकाबला भाजपा के बागी महावीर सिंह रांगड़ ने तिकोना बना दिया। निर्दलीय प्रीतम हाल ही में भाजपा में शामिल हुये थे। वह इससे पहले उक्रांद में थे।

पौड़ी जिले में भी भाजपा और कांग्रेस के बीच जबरदस्त टक्कर चल रही है। इस जिले में अब तक चौबट्टाखाल भाजपा की सबसे आसान सीट मानी जा रही है। उस सीट पर कांग्रेस कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज के मुकाबले कोई दमदार प्रत्याशी नहीं उतार पायी। वहां कांग्रेसी केशर सिंह नेगी बाहरी माने जा रहे हैं। जबकि कोटद्वार और लैंसडौन सीटें कांग्रेस की आसान सीटें मानी जा रही है। कोटद्वार में कांग्रेस के सुरेन्द्र सिंह नेगी और भाजपा की ऋतु खण्डूड़ी हैं। ऋतु इससे पहले यमकेश्वर से विधायक थीं। इस सीट पर 2012 में ऋतु के पिता भुवनचन्द्र खण्डूड़ी मुख्यमंत्री रहते हुये भी कांग्रेस के सुरेन्द्र सिंह नेगी से हार गये थे। लैंसडौन में भाजपा विधायक दलीपसिंह रावत का मुकाबला हाल ही में कांग्रेस में शामिल अनुकृति रावत से है।

अनुकृति पूर्व मंत्री हरक सिंह रावत की बहू हैं। रावत दो बार इस सीट से विधायक रहे हैं। अनुमान है कि हरक सिंह की प्रतिष्ठा से जुड़ी यह सीट मौजूदा विधायक के खिलाफ एण्टी इन्कम्बेंसी के चलते अनुकृति को मिल सकती है। श्रीनगर गढ़वाल में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल का मुकाबला कैबिनेट मंत्री धनसिंह रावत से है। हरक सिंह का गांव इसी क्षेत्र में है। यहां हरक सिंह का समर्थन गोदियाल को विजयश्री दिला सकता है। धनसिंह के खिलाफ भी एण्टी इन्कम्बेंसी है। पौड़ी सीट पर भाजपा के राजकुमार पौरी की स्थिति फिलहाल ठीकठाक बतायी जा रही है। लेकिन यहां भी अगर सत्ताधारी दल के खिलाफ  एण्टी इन्कम्बेंसी चली तो पासा पलट सकता है।

राजधानी जिला देहरादून में कांग्रेस की सबसे आसान सीट चकराता मानी जा रही है। वहां कांग्रेस की ओर से प्रतिपक्ष के नेता प्रीतम सिंह और भाजपा की ओर से रामशरण नौटियाल है। नौटियाल नये-नये भाजपाई हैं। वह कभी कैप्टन सतीश शर्मा के करीबी माने जाते थे। नौटियाल के बेटे जुबिन नौटियाल विख्यात गायक हैं। लेकिन इस सीट पर मुन्ना सिंह चौहान की पत्नी मधू चौहान काफी पहले से सक्रिय थी। 2017 के चुनाव में वह प्रीतम सिंह से मात्र 1543 मतों से हारीं थीं। जौनसार बावर की राजनीति पर अब तक प्रीतम सिंह और मुन्ना सिंह के परिवारों का दबदबा रहा है। मुन्ना के परिवार के कारण यहां भाजपा मुकाबले में रही है।

इसी प्रकार भाजपा की सबसे आसान सीटें ऋषिकेश और डोइवाला मानी जा रही हैं। ऋषिकेश में विधानसभाध्यक्ष प्रेम चन्द अग्रवाल का मुकाबला कांग्रेस के जयेन्द्र रमोला से है। हालांकि पूर्व मंत्री शूरवीर सिंह सजवाण वहां मैदान से हट गये फिर भी प्रेम चन्द के आगे कांग्रेस प्रत्याशी की राह आसान नहीं है। डोइवाला में कांग्रेस ने भाजपा के बृजभूषण गैरोला के मुकाबले गौरव चौधरी को उतारा है। बृजभूषण गैराला पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत के प्रत्याशी माने जाते हैं। यहां फिलहाल गैरोला का ही पलड़ा भारी नजर आ रहा है।

देहरादून की अन्य सीटों में सहसपुर में भाजपा के सहदेव सिंह पुण्डीर का मुकाबला कांग्रेस के आर्येन्द्र शार्मा से, विकासनगर में भाजपा के मुन्ना सिंह चौहान का कांग्रेस के पुराने प्रतिद्वन्दी नव प्रभात से रायपुर में उमेश शर्मा का काग्रेसी दिग्गज हीरा सिंह बिष्ट से धर्मपुर में भाजपा के विनोद चमोली का पूर्व मंत्री दिनेश अग्रवाल से राजपुर रोड में भाजपा के खजानदास का कांग्रेस के राजकुमार से, मसूरी में गणेश जोशी का गोदावरी थापली से और कैंट में भाजपा की सविता कपूर का कांग्रेस के सूर्यकान्त धस्माना से है।

फिलहाल देहरादून की 10 सीटों पर 5-5 की जैसी स्थिति के बावजूद हल्का सा रुझान कांग्रेस के पक्ष में अवश्य है, लेकिन कांग्रेस की संभावनाओं को आप पार्टी के प्रत्याशी कम कर सकते हैं। इनमें कैंट में धस्माना के हाथ बाजी लग सकती है। इसी प्रकार गणेश जोशी की हरकतों और उनकी पृष्ठभूमि के कारण इस बार उनको झटका लग सकता है। जोशी स्वयं को पूर्व सैनिक प्रचारित कर रहे हैं जबकि कांग्रेसी उनको भगोड़ा सैनिक प्रचारित कर रही है। देहरादून जिले में डोइवाला, सहसपुर और विकासनगर में किसान आन्दोलन का असर हो सकता है।

 हरिद्वार जिले में सत्ताधारी भाजपा को किसान आन्दोलन के साथ ही सत्ता विरोधी हवा का समाना करना पड़ रहा है। इस जिले में मुस्लिम बहुल पिरान कलियर और मंगलौर में कांग्रेस के फुरकान अहमद और काजी निजामुद्दीन की स्थिति मजबूत मानी जा रही है। भगवानपुर में भी कांग्रेस की ममता रोकश के समक्ष उनके भतीजे की चुनौती अवश्य है जो कि इस बार बसपा से लड़ रहे हैं। फिर भी माना जा रहा है कि ममता अन्ततः सीट निकाल लेंगी। इसी प्रकार रुड़की में भाजपा के प्रदीप बत्रा को इस बार कांग्रेस के यशपाल राणा से कड़ी चुनौती मिल रही है।

बत्रा को भी सत्ता विरोधी हवा से नुकशान हो सकता है। खानपुर में प्रणव चैम्पियन की पत्नी देवयानी का मुकाबला सुभाष चौधरी से तथा हरिद्वार में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक का मुकबला सतपाल ब्रह्मचारी से तथा ज्वालापुर में सिटिंग भाजपा विधायक सुरेश राठौर का मुकाबला रवि बहादुर से है। लक्सर में इस बार भाजपा के संजय गुप्ता का मुकाबला कांग्रेस के अंतरिक्ष सैनी से है। हरीश रावत की बेटी अनुपमा अपने पिता की सीट हरिद्वार ग्रामीण से लड़ रही है। वहां इस बार भी बसपा प्रत्याशी से खतरा बना हुआ है। हरिद्वार की 11 में से 10 सीटों पर किसान आन्दोलन का असर पड़ सकता है। इसलिये यहां 11 में से 8 सीटें कांग्रेस को जा सकती हैं।

(जयसिंह रावत वरिष्ठ पत्रकार हैं और उत्तराखंड में रहते हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

कानून के शासन के लिए न्यायपालिका की स्वतंत्रता ज़रूरी: जस्टिस बीवी नागरत्ना

सुप्रीम कोर्ट की जज जस्टिस बीवी नागरत्ना ने शनिवार को कहा कि कानून का शासन न्यायपालिका की स्वतंत्रता पर बहुत...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -