Wednesday, August 10, 2022

जेल में बंद मालविंदर सिंह-शिविंदर बंधुओं ने खोली 2 ऑफशोर फर्म, पैंडोरा पेपर्स से खुलासा

ज़रूर पढ़े

पैंडोरा पेपर्स से हुए खुलासे ने भारत सहित दुनियाभर में तहलका मचा दिया है। कालाधन वापस लाने का दावा कर कर सत्ता में आये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पैंडोरा पेपर्स से हुए खुलासे पर चुप्पी साध रखी है। पैंडोरा पेपर्स से हुए खुलासे में कई देशों के राष्ट्राध्यक्षों समेत दुनिया भर के बड़े-बड़े रईस लोगों पर विदेशों में धन छिपाने के आरोप लगाए गए हैं। भारत में अब नया नाम जेल में बंद रैनबैक्सी के मालिक मालविंदर सिंह और उनके छोटे भाई शिविंदर सिंह का सामने आया है। रैनबैक्सी के मालिक मालविंदर सिंह और उनके छोटे भाई शिविंदर सिंह ने ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड्स में दो अपतटीय फर्मों की स्थापना की, द इंडियन एक्सप्रेस द्वारा जांचे गए पैंडोरा पेपर्स के रिकॉर्ड से पता चलता है। रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर मालविंदर सिंह और शिविंदर सिंह दो साल से तिहाड़ जेल में हैं।

जनवरी 2009 में, परिवार द्वारा रैनबैक्सी प्रयोगशालाओं में अपनी 34.8 प्रतिशत हिस्सेदारी जापानी फार्मा प्रमुख दाइची सांक्यो को लगभग 2.4 बिलियन डॉलर में बेचने के ठीक छह महीने बाद, मालविंदर सिंह और उनके छोटे भाई शिविंदर सिंह ने ब्रिटिश वर्जिन द्वीप समूह में दो अपतटीय फर्मों की स्थापना की। इंडियन एक्सप्रेस द्वारा पड़ताल किए गए पैंडोरा पेपर्स के रिकॉर्ड से यह खुलासा हुआ है।

इन रिकॉर्डों से पता चलता है कि दो फर्म, क्लोनबर्ग होल्डिंग्स लिमिटेड और फोर्थिल इंटरनेशनल लिमिटेड, लंदन में एक-एक अपार्टमेंट के मालिक हैं। इसके अलावा, वे दिखाते हैं, शिविंदर सिंह ने बार्कलेज बैंक से £5.1 मिलियन उधार लेने के लिए फोर्थिल इंटरनेशनल की कुछ संपत्तियों को गिरवी रख दिया। मालविंदर और शिविंदर दोनों कथित रूप से धन के कथित रूप से डायवर्जन और मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में दो साल से तिहाड़ जेल में हैं। उनके परिवारों को भेजे गए मेल का कोई जवाब नहीं आया।

पैंडोरा पेपर्स के रिकॉर्ड से पता चलता है कि क्लोनबर्ग होल्डिंग्स और फोर्थिल इंटरनेशनल को 2 जनवरी 2009 को बीवीआई में एलेमन, कोर्डेरो, गैलिंडो एंड ली ट्रस्ट (बीवीआई) लिमिटेड के माध्यम से पंजीकृत किया गया था। मई 2018 तक क्लोनबर्ग ने 44.5 लाख शेयर और फोर्थिल ने 48.5 लाख शेयर जारी किए थे। मालविंदर सिंह, उनकी पत्नी जपना और उनकी तीन बेटियां क्लोनबर्ग होल्डिंग्स के शेयरधारक थे, और शिविंदर सिंह, उनकी पत्नी अदिति और उनके चार बच्चे फोर्थिल इंटरनेशनल के शेयरधारक थे। क्लोनबर्ग को शुरू में केवल 50,000 शेयर जारी करने के लिए अधिकृत किया गया था, जिसे कई बार 1 डॉलर के 44.5 लाख शेयरों तक कई बार बढ़ाया गया था।

फोर्थिल के मामले में, शेयर पूंजी को कई मौकों पर 48.5 लाख शेयरों तक बढ़ाया गया था। क्लोनबर्ग और फोर्थिल दोनों के निर्देशकों का एक ही समूह था। रिकॉर्ड बताते हैं कि लंदन में एम्बेसी कोर्ट में क्लोनबर्ग का एक अपार्टमेंट और एक ही इमारत में तीन पार्किंग स्थान थे। दस्तावेज़ों में इन संपत्तियों का अनुमानित न्यूनतम वर्तमान मूल्य £7.4मिलियन आंका गया है। फ़ोर्थिल का एम्बेसी कोर्ट में एक और अपार्टमेंट भी था जिसमें दो स्टोरेज स्पेस और एक ही बिल्डिंग में दो पार्किंग स्पेस थे। दस्तावेज़ों का अनुमान है कि इन संपत्तियों का न्यूनतम वर्तमान मूल्य £6.6 मिलियन है।

मालविंदर सिंह और शिविंदर सिंह को अक्तूबर 2019 में आर्थिक अपराध शाखा ने रेलिगेयर एंटरप्राइजेज लिमिटेड (आरईएल) की सहायक कंपनी रेलिगेयर फिनवेस्ट लिमिटेड को कथित तौर पर 2,397 करोड़ रुपये का नुकसान पहुंचाने के आरोप में गिरफ्तार किया था। प्रवर्तन निदेशालय ने बाद में शिविंदर सिंह और अन्य को 12 दिसंबर, 2019 को मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार किया।

पैंडोरा पेपर्स के गोपनीय दस्तावेजों से पता चलता है कि कैसे लोग टैक्स बचाने के वास्ते अपने धन को छुपाने के तरीके इस्तेमाल करते हैं। लगभग एक करोड़ 20 लाख दस्तावेजों को मिलाकर तैयार की गई इस रिपोर्ट को ‘इंटरनेशनल कंसोर्टियम ऑफ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स’ (आईसीआईजे) ने जारी किया है। यह कंसोर्टियम दुनिया भर के मीडिया संगठनों के साथ काम करती है।

पैंडोरा पेपर्स ‘पनामा पेपर्स’ नामक दस्तावेजों के इसी तरह के लीक होने के पांच साल बाद आये हैं। उन दस्तावेजों से पता चलता है कि दुनिया के सबसे धनी लोगों में से कितने लोग अपनी संपत्तियों को कम टैक्स रेट वाले देशों या अधिकार क्षेत्र में रखकर किसी भी प्रकार के टैक्स से बचते हैं। पैंडोरा पेपर्स उस रणनीति को प्रकट करते हैं जो धनी लोगों ने अतीत में इस्तेमाल किए गए अब गुप्त साधनों को बदलने के लिए विकसित की हैं। विशेष रूप से, पैंडोरा पेपर्स कर लगाना कठिन बनाने में मुखौटा कंपनियों की भूमिका पर प्रकाश डालते हैं।

एक मुखौटा कंपनी एक कानूनी इकाई है जो केवल कागज पर मौजूद होती है। यह कुछ भी उत्पादन नहीं करती है और न ही किसी को रोजगार देती है। इसका मूल्य एक प्रमाण पत्र में निहित है जो एक सरकारी कार्यालय में होता है। इस प्रमाणपत्र के साथ, मुखौटा कंपनी – जिसका एकमात्र उद्देश्य संपत्ति रखना और छिपाना है।

आईसीआईजे ने पंडोरा पेपर्स नाम से जो नए खुलासे किए हैं, उनसे सामने आया एक अहम तथ्य यह है कि अमेरिका का दक्षिण डकोटा राज्य भी अब एक ‘टैक्स हेवन’ बन गया है। उसका नाम उन स्थानों में शामिल हो गया है, जहां दुनिया के धनी लोग अवैध या अनैतिक ढंग से अपने धन को लाकर रखते हैं। पैंडोरा पेपर्स में पहचाने गए 206 अमेरिकी ट्रस्टों में से – जिनके पास एक अरब अमेरिकी डॉलर से अधिक की संपत्ति है, 81 दक्षिण डकोटा से हैं।टैक्स हेवन उन देशों को कहते हैं जहां अन्य देशों की अपेक्षा बहुत कम कर लगता है, या बिल्कुल कर नहीं लगता। ऐसे देशों में कर के अलावा भी बहुत सी गतिविधियां चलती हैं। ऐसे देश कर में किसी प्रकार की पारदर्शिता नहीं रखते हैं और न ही किसी प्रकार की वित्तीय जानकारी को साझा करते हैं। ये देश उन लोगों के लिए स्वर्ग हैं, जो कर चोरी करके पैसा यहां जमा कर देते हैं।

(जेपी सिंह वरिष्ठ पत्रकार हैं और आजकल इलाहाबाद में रहते हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

शिशुओं का ख़ून चूसती सरकार!  देश में शिशुओं में एनीमिया का मामला 67.1%

‘मोदी सरकार शिशुओं का ख़ून चूस रही है‘ यह पंक्ति अतिशयोक्तिपूर्ण लग सकती है पर मेरे पास इस बात...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This