Monday, August 15, 2022

corporate

तैयार हो गया रेलवे के निजीकरण का ब्लूप्रिंट, पीएमओ ने सौंपा रेल विभाग को “100 डे प्लान”

आधुनिकीकरण के बहाने मोदी सरकार ने देश की रेल सेवाओं के निजीकरण की शुरुआत कर दी है। और इसके लिए उसने सबसे पहले पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप का रास्ता चुना है। इसकी पृष्ठभूमि हाल में संसद में पेश निर्मला सीतारमण के बजट में...

कारपोरेट फासीवाद को बढ़ाता बजट

बजट के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने वाराणसी में बजट की आलोचना करने वालों के सम्बंध में कहा कि देश में कुछ लोग ‘पेशेवर निराशावादी‘ होते हैं, जो हमारे 5000 अरब डालर की अर्थव्यवस्था बनाने के लक्ष्य पर सवाल उठा रहे हैं। हमारी सरकार...

बड़ी घोषणाओं के गुलाबी पर्दे में अर्थव्यवस्था की खस्ता हालत को छुपाने की कोशिश

मई के आम चुनावों में जीत के बाद भाजपा सरकार की नई वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 5 जुलाई को वित्त वर्ष 2019-20 के लिये बजट पेश किया। 2 घंटे से अधिक के लंबे बजट भाषण में वित्त मंत्री ने घोषणाओं की...

संकट के स्वेच्छाचारी समाधान का बजट

निर्मला सीतारमण का यह पहला बजट बजट नहीं, भारत के सरकारी बैंकों और एनबीएफसी के लिये बेलआउट पैकेज है। बैंकों के पांच लाख करोड़ के एनपीए को बट्टे खाते में डालने के बाद सरकार कह रही है कि बैंकों...

“कॉरपोरेट को रिर्टन गिफ्ट है मोदी सरकार का बजट”

बजट पर सीपीआई (एमएल) महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य की प्रतिक्रिया: महंगाई को बढ़ाने वाला बजट में पहले से महंगे पेट्रोल-डीजल पर 1 रुपया प्रति लीटर एक्साइज ड्यूटी और 1 रुपया प्रति लीटर सेस बढ़ाया गया है। इससे माल ढुलाई व यात्री किराए पर...

निगमीकरण की पटरी पर दौड़ते हुए निजीकरण के आखिरी प्लेटफार्म पर पहुंचेगा रेलवे

अब भूल जाइये रेलवे की नौकरियों को! रेलवे में केंद्र सरकार की ओर से अब कोई नयी वैकेंसी नहीं निकलने वाली। रेलवे की नौकरियों में आरक्षण का प्रश्न भी एक झटके में साफ हो जाएगा क्योंकि न नौ मन तेल होगा और...
- Advertisement -spot_img

Latest News

जेल प्रशासन द्वारा मांगें माने जाने पर पत्रकार रूपेश ने भूख हड़ताल वापस ली

पत्रकार रूपेश कुमार सिंह ने सरायकेला जेल में अपनी तीन मांगों को लेकर आज यानी 15 अगस्त से भूख हड़ताल...
- Advertisement -spot_img