Sunday, August 14, 2022

Steel Authority of India (SAIL)

बोकारो ग्राउंड जीरो: सेल और सरकार के बीच पिसते ग्रामीणों का अंतहीन संघर्ष

‘हम लोग खुले में ही शौच के लिए जाते हैं, क्योंकि हमारे घर में शौचालय नहीं है। रोज कमाते हैं, रोज खाते हैं, हम खाएं कि शौचालय बनवाएं? पता नहीं सरकार ने कैसे पूरे जिलों को खुले में शौच...
- Advertisement -spot_img

Latest News

कार्पोरेट्स के लाखों करोड़ की कर्जा माफ़ी क्या रेवड़ियां नहीं हैं मी लार्ड!

उच्चतम न्यायालय ने अभी तक यह तय नहीं किया है कि फ्रीबीज या रेवड़ियां क्या हैं, मुफ्तखोरी की परिभाषा क्या है? सुप्रीम...
- Advertisement -spot_img