Sunday, January 29, 2023

मजाज़ः आंसू पोंछकर आंचल को परचम बनाने की बात करने वाला शायर

Follow us:

ज़रूर पढ़े

असरार उल हक ‘मजाज़’ उर्दू  साहित्य के उन महत्वपूर्ण शायरों में से एक हैं, जिनकी नज़्मों में इश्क़ो-मुहब्बत तो था ही साथ ही उनमें बगावती तेवर भी थे। मजाज़ ने अदबी दुनिया मे कई रंग बिखेरे। जरिया चाहे नज़्म रहा हो, ग़ज़ल रही हो या अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी का कुल गीत। कभी वो औरतों को नेतृत्व करने की आवाज़ देते तो कभी  मज़लूमों को इंक़लाब करने का पैगाम। जिस वक्त इन तबकों की बराबरी के हक़ की बात करना बड़े हिम्मत का काम समझा जाता था, मजाज़ ने उन्हें आवाज़ दी। महिला सशक्तिकरण के लिए उन्हें सदैव याद किया जाएगा।

एक बार मशहूर अदाकारा नरगिस सिर पर दुपट्टा रखकर मजाज़ का ऑटोग्राफ़ लेने पहुंचीं। ऑटोग्राफ देने के बाद उन्होनें कहा-
दिल-ए-मजरूह को मजरूह-तर करने से क्या हासिल,
तू आंसू पोंछ कर अब मुस्कुरा लेती तो अच्छा था
तिरे माथे पे ये आंचल बहुत ही ख़ूब है लेकिन,
तू इस आंचल से इक परचम बना लेती तो अच्छा था

और यही उनकी तारीखी नज़्म औरत के नाम से पूरी दुनिया में चर्चित हुई, जिसने मजाज़ को वक़्त का इंकलाबी शायर साबित किया। रूमानियत की नज़्में कहना, निजी ज़िंदगी में उसी से महरूम होना, साथ ही अत्यधिक संवेदनशीलता ने उन्हें उर्दू शायरी का कीट्स तो बनाया, साथ ही उनको गहरे अवसाद में भी डाल दिया।

फिर भी जब बात औरत की आती है तब यही शायर जिसने अपने इर्द-गिर्द औरतों को हमेशा हिजाब में देखा, कहता है-

सर-ए-रहगुज़र छुप-छुपा कर गुज़रना
ख़ुद अपने ही जज़्बात का ख़ून करना
हिजाबों में जीना हिजाबों में मरना
कोई और शय है ये इस्मत नहीं है

मजाज़ का ये मानना है कि अगर समाज की तस्वीर बदलना है तो औरतों को आगे आना होगा और ये जिम्मेदारी पुरुषों को उनसे ज्यादा उठानी होगी। हमने फेमिनिज्म शब्द को 21वीं सदी में जाना, लेकिन मजाज़ के यहां मुल्क़ की आज़ादी से भी पहले ये परिकल्पना परवान चढ़ चुकी है।

औरत के अतिरिक्त मजाज़ की संवेदनशीलता भीड़ के उस आखिरी व्यक्ति के लिए भी है जो गरीब है, शोषित है, लेकिन तब वे अपने गीतों से सहलाते नहीं जोश भरते हैं और इंक़लाब लाने की पुरजोर कोशिश करते हैं-
जिस रोज़ बग़ावत कर देंगे
दुनिया में क़यामत कर देंगे
ख़्वाबों को हक़ीक़त कर देंगे
मज़दूर हैं हम मज़दूर हैं हम

मजाज़ जितने रूमानी हैं, उतने ही इन्क़लाबी भी। फर्क़ बस इतना है ‘आम इंकलाबी शायर इंकलाब को लेकर गरजते हैं और उसका ढिंढोरा पीटते है, जबकि मजाज़ इंक़लाब में भी हुस्न ढूंढकर गा लेते हैं,
बोल कि तेरी ख़िदमत की है
बोल कि तेरा काम किया है
बोल कि तेरे फल खाए हैं
बोल कि तेरा दूध पिया है
बोल कि हम ने हश्र उठाया
बोल कि हमसे हश्र उठा है
बोल कि हम से जागी दुनिया
बोल कि हम से जागी धरती
बोल! अरी ओ धरती बोल!
राज सिंघासन डांवाडोल

मजाज़ ने खुद अपने बारे में कहा-
ख़ूब पहचान लो असरार हूं मैं,
जिन्स-ए-उल्फ़त का तलबगार हूं मैं

उल्फत का ये शायर जिंदगी भर उल्फत के इंतजार में सूनी राह तकते-तकते इस फानी दुनिया से कूच कर गया पर अपने पीछे अदब को वो खज़ाना छोड़ गया जो उसे सदियों तक मरने नहीं देगा।

बख्शी हैं हमको इश्क़ ने वो जुरअतें मजाज़,
डरतें नहीं सियासत-ए-अहल-ए-जहां से हम

(लेखक जानेमाने इतिहासकार और सामाजिक कार्यकर्ता हैं।)

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

‘थ्री इडियट्स’ के ‘वांगड़ू’ हाउस अरेस्ट, कहा- आज के इस लद्दाख से बेहतर तो हम कश्मीर में थे

लद्दाख में राजनीति एक बार फिर गर्म हो गयी है। सूत्रों के मुताबिक लद्दाख प्रशासन ने प्रसिद्ध इनोवेटर 'सोनम वांगचुक' के...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x