Thursday, July 7, 2022

सुशील मानव

अग्निपथ योजना पर विशेष: अब सेना में होगी अंबानी और अडानी बटालियन

असुरक्षा एक स्थायी भाव-बोध है जिसे आरएसएस भाजपा और नरेंद्र दामोदार दास मोदी की अगुवाई वाली केंद्र सरकार ऐन केन प्रकारेण देश के तमाम नागरिकों में मैनिपुलेट करने के तमाम जतन अपनी योजनाओं, नीतियों, अनीतियों, गुप्त एजेंडों के मार्फत...

लोगों की पहुंच से बाहर क्यों हो गए आम?

प्रयागराज। मई बीत गया है। कल एक रिश्तेदार आये। मिठाई की जगह एक किलो आम ले आये। तो उनकी बदौलत इस सीजन में पहली बार आम खाने को मिला। ये कथन है निम्न-मध्यमवर्गीय समाज से ताल्लुक़ रखने वाले एक...

सत्ता के निशाने पर क्यों हैं दलित प्रोफेसर

इन दिनों दलित प्रोफेसर भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र व राज्य सरकारों के निशाने पर हैं। सरकार, सत्ताधारी पार्टी और संगठन तथा प्रशासन का संरक्षण प्राप्त भगवा जमात भी इन प्रोफेसरान पर जानलेवा हमला कर रही है। आखिर दिल्ली...

जानलेवा साबित हो रही है इस बार की गर्मी

प्रयागराज। उत्तर भारत में दिन का औसत तापमान 45 से 49.7 डिग्री सेल्सियस के बीच है। और इस समय लू और कॉलरा एक सामान्य महामारी की तरह फैली हुई है। उत्तर प्रदेश के लगभग हर घर में कोई न...

न जानवरों को चरी मिल रही न लोगों को सब्जी, यूपी के गांवों में बिजली कटौती से हाहाकार

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश के पूर्वी व मध्य क्षेत्र के जिलों में खेतों को पानी न मिलने से तपती धूप में चरी की पत्तियां ऐंठ ऐंठकर न जाने क्या हो गई हैं। चरी के खेतों मेड़ों से गुज़रते हुये लगता...

ख़ास रपट: निजी व सामाजिक संबंधों का इस्तेमाल कर उत्पाद बेंचती एमएलएम कंपनियां

पवन कुमार मल्टीलेवल मार्केटिंग कंपनियों से इस कदर परेशान हैं कि कहते हैं इन कंपनियों ने मेरी निजी ज़िंदग़ी को यातनापूर्ण बना दिया है। कैसे और किस तरह? पूछने पर पवन कुमार बताते हैं कि उनकी सास आईएमसी कंपनी की...

स्पेशल रिपोर्ट: कृषि मज़दूरों के हाथ काटती मशीनें

हार्वेस्टर मशीन से कटते गेहूं की फसलों को देख लालती की आँखों में आंसू और मन में पीड़ा है। वो डबडबाई आंखों से अपना हाथ कटते देख रही हैं। हार्वेस्टर मशीन सिर्फ़ गेहूं की फसल नहीं काट रही, लालती...

ग्राउंड रिपोर्ट: इलाहाबाद बन गया है छात्रों के लिए मृत्यु की उपत्यका घाटी

प्रयागराज। कभी इलाहाबाद आईएएस-पीसीएस की फैक्ट्री के तौर पर जाना जाता था। लेकिन आए दिन होने वाली छात्रों की खुदकुशियों ने इसकी पहचान बदल दी है। अब इसे 'मौत के कुएं' के तौर पर जाना जाता है। अखबारों में...

दंडकारण्य की लड़ाई आज भी लड़ रहे हैं आदिवासी, सलवा जुडूम के 17 साल बाद एक बार फिर पलायन को विवश

“मैंने अभी इंटरमीडिएट परीक्षा पास की है। मैं स्नातक की पढ़ाई करना चाहता हूँ लेकिन मैं कर नहीं पा रहा हूँ। क्योंकि मुझे सर्टिफिकेट नहीं दिया गया। मेरे माता पिता छत्तीसगढ़ में हैं। मैं आंध्र प्रदेश में शरण लिया...

ट्रेड यूनियनों की हड़ताल से देश भर का जनजीवन प्रभावित

नई दिल्ली/पटना/प्रयागराज। कर्मचारियों,किसानों और आम लोगों पर प्रतिकूल असर डालने वाली सरकार की ग़लत नीतियों के विरोध में केंद्रीय श्रमिक संगठनों की दो दिवसीय राष्ट्रीय हड़ताल आज से शुरू हो गई। देश बचाने के लिये हम हड़ताल पर हैं...

About Me

663 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

द्रौपदी मुर्मू, आदिवासी समुदाय और हिंदू राष्ट्र का एजेंडा

एक महीने के अंदर भारत एक नए राष्ट्रपति को देखेगा। तब तक इस लेख के प्रकाशन का शायद कोई...