Thursday, August 18, 2022

jp

जीरो माइल पटनाः बदलते शहर में समाज और विकास

शहरों पर किताबें पहले भी लिखी गयी हैं, आज भी लिखी जा रही हैं और आगे भी लिखी जायेंगी। कुछ किताबें शहरों का इतिहास बताती हैं, कुछ समाजशास्त्र और कुछ खास घटनाओं के उल्लेख के जरिये शहर की कहानी...

नेहरू के भाषणों के आइने में नरेंद्र मोदी की स्पीच

वैसे तो प्रधानमंत्री जी के संसद में दिए गए भाषण भी चुनावी भाषणों की भांति होते हैं और इनमें कटुता तथा व्यक्तिगत आक्षेपों की प्रचुरता होती है किंतु चुनावी भाषणों की जो शैली उन्होंने विकसित की है वह तो...

स्मृति दिवस: मामा बालेश्वर ने कराया था रियासतों में बेगारी प्रथा और स्वतंत्र भारत में जागीरदारी प्रथा का खात्मा

मामाजी बालेश्वर दयाल जी का 26 दिसंबर को 23 वां स्मृति दिवस है। आज 25 दिसंबर की रात मामा जी के 25 हजार से ज्यादा अनुयायी राजस्थान से 3 दिनों से पदयात्रा करते हुए बामनिया भील आश्रम पहुंचेंगे, जहां...

शख्सियत: गांधी के विचार, विनोबा का सानिध्य और जयप्रकाश का साथ पाए अमरनाथ भाई की दास्तान

सार- -अमरनाथ भाई कहते हैं कि गांधी के विचार, विनोबा का सानिध्य और जयप्रकाश नारायण के साथ रह कर उनका जीवन धन्य हुआ।-वर्तमान परिस्थितियों से अमरनाथ भाई खिन्न हैं, वह कहते हैं आज़ादी तक तो भारतीय जनता ने संघर्ष किया...

जेपी-लोहिया की विरासत को मजबूती देता किसान आंदोलन

आज समाजवादी चिंतक, प्रखर सांसद, सप्तक्रांति विचार को प्रतिपादित करने वाले,पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु की गद्दी को झकझोर देने वाले डॉ.राम मनोहर लोहिया की 54 वीं पुण्यतिथि है। कल 11 अक्टूबर को लोकनायक जयप्रकाश नारायण की 119 वी जयंती...

पटना: जेपी की जयंती पर लोगों ने किसानों को रौंदने वाली सरकार को उखाड़ फेंकने का लिया संकल्प

पटना। जयप्रकाश नारायण की जयंती पर देश में बढ़ते फासीवादी शासन व लखीमपुर खीरी जघन्य हत्याकांड के खिलाफ केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी की बर्खास्तगी की मांग पर आज अखिल भारतीय किसान महासभा और भाकपा-माले के संयुक्त...

जन्मदिन पर विशेष: जवाहर के साथ था जेपी का घनिष्ठ रिश्ता

जवाहरलाल नेहरू (1889 -1964) और जयप्रकाश नारायण (1902 -1979) हमारे स्वतंत्रता आंदोलन की दो ऐसी विभूतियाँ हैं , जिनमें समानता के अनेक तत्व हैं, हालांकि विभेद के भी अनेक बिंदु हैं। दोनों ने विदेशों में शिक्षा पायी और दोनों...

जेपी और अन्ना आंदोलन की तरह क्या किसान आंदोलन में सत्ता बदलने की है ताकत?

(देश के 19 विपक्षी दलों द्वारा आगामी 20 सितंबर से 30 सितंबर के बीच किसान आंदोलन के समर्थन में विरोध प्रदर्शन का ऐलान किया गया है तथा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सभी विपक्षी दलों से 2024 का चुनाव...

बीजेपी ने केरल चुनाव में लगाया था हवाला का 40 करोड़ धन: केरल पुलिस

केरल पुलिस ने थ्रिसूर कोर्ट में दायर चार्जशीट में सनसनीखेज आरोप लगाया है। उसने कहा है कि भाजपा ने केरल चुनाव में हवाला का 40 करोड़ का काला धन खर्च किया है। केरल पुलिस ने भाजपा प्रदेशाध्यक्ष के सुरेंद्रन...

आपातकाल से भी भयावह है वर्तमान काल !

सन् 1975 का 26 जून से लेकर 21 मार्च 1977 का वह काला दौर जब तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने आपातकाल को समय की जरूरत बताते हुए उस दौर में लगातार कई संविधान संशोधन किये। 40वें और 41वें संशोधन...
- Advertisement -spot_img

Latest News

शीर्ष पदों पर बढ़ता असंतुलन यानी संघवाद को निगलता सर्वसत्तावाद 

देश में बढ़ता सर्वसत्तावाद किस तरह संघवाद को क्रमशः क्षतिग्रस्त कर रहा है, इसके उदाहरण विगत आठ वर्षों में...
- Advertisement -spot_img