Friday, December 2, 2022

kargil

सेना के पराक्रम और शौर्य के साथ-साथ, खुफिया विफलता भी है कारगिल

कारगिल युद्ध पर कोई बात करने के पहले युद्ध की क्रोनोलॉजी यानी घटनाक्रम का जान लेना आवश्यक है। पहले यह घटनाक्रम देखें।  ● 3 मई 1999 : एक चरवाहे ने भारतीय सेना को कारगिल में पाकिस्तान सेना के घुसपैठ कर...

कारगिल शौर्य दिवस की रोशनी में भुला दिया गया शहीदों के परिवारों का अंधेरा

आज से ठीक 22 वर्ष पूर्व 1999 में भारत और पाक के बीच एक साठ दिन लम्बा युद्ध चला, जो 26 जुलाई 1999 को समाप्त हुआ। भारत की सीमा में स्थित कारगिल नामक एक जगह पर स्थित एक पहाड़...

कारगिल युद्ध: शौर्य का अनुपम उदाहरण और खुफिया की विफलता भी

आज विजय दिवस है। आज ही के दिन वर्ष 1999 में हमारी सेनाओं ने पाकिस्तान की सेना जो घुसपैठियों के रूप में घुस कर कारगिल की ऊंची पहाड़ियों पर कब्ज़ा जमा चुकी थी, को अत्यंत कठिन युद्ध में पराजित...

चीनी घुसपैठ क्या हमारी खुफिया एजेंसियों की नाकामी नहीं है ?

लद्दाख की पैंगांग झील और गलवान घाटी में घुसपैठ मई महीने के अंत तक होने लगी थी और जून के पहले सप्ताह तक सीमा पर अंदर तक चीनी सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी पीएलए की गतिविधियां बढ़ने लगी थीं। जब...

गलवान घाटी में झड़प: बरकरार है चीन का तीन सेक्टरों के कई हिस्सों पर कब्जा!

पूर्वी लद्दाख के पास भारत-चीन सीमा पर जारी झड़प में चीनी सैनिकों ने हमला कर भारत के 20 सैनिकों को मौत के घाट उतार दिया है। सोमवार की रात हुई इस घटना में मरने वाले सैनिकों में एक कर्नल...

सेना का राग अलापने वाले मोदी बजट के नाम पर सैन्य क्षेत्र को थमाते रहे हैं ढेला

आज पूरे भारत में कारगिल विजय दिवस मनाया जा रहा है। आज ही के दिन 26 जुलाई 1999 को कारगिल युद्ध में भारत को विजय मिली थी, इसमें भी प्रधानमंत्री मोदी अपनी ब्रांडिंग से बाज नहीं आए, ट्विटर पर अपनी तस्वीर...
- Advertisement -spot_img

Latest News

रवीश में संभावनाओं का कोई अंत नहीं! 

मोदी-अडानी, अर्थात् सरकार-कारपोरेट की धुरी का एनडीटीवी पर झपट्टा भारत के मीडिया जगत में एक घटना के तौर पर...
- Advertisement -spot_img