Wednesday, December 7, 2022

finance

अब शुरू होगा बाजार में महालूट का सिलसिला!

भारत में पेट्रोल और डीजल के खुदरा दाम पिछले तीन-चार महीने से स्थिर हैं। बीते सितंबर महीने के आखिरी में केंद्र सरकार ने पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों में बढ़ोत्तरी शुरू की थी और अक्टूबर के आखिरी तक लगभग हर...

  भारत सरकार की उपलब्धियां गिनाता आर्थिक सर्वे

आज संसद के पटल पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 2021-22 का आर्थिक सर्वे पेश किया। स्थापित तथ्य है कि आर्थिक सर्वे भारत के मुख्य आर्थिक सलाहकार द्वारा तैयार किया जाता है, भले ही उसे वित्त मंत्री द्वारा प्रस्तुत...

वित्त मंत्री ने दिया इंश्योरेंस कर्मियों को वेतनमान संशोधन का भरोसा

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने जनरल इंश्योरेंस एम्प्लॉइज ऑल इंडिया एसोसिएशन (जीआईईएआईए) के एक प्रतिनिधिमंडल से बातचीत के दौरान आश्वासन दिया कि सार्वजनिक क्षेत्र की साधारण बीमा कंपनियों (Public Sector General Insurance Companies) जैसे नेशनल इंश्योरेंस, न्यू इंडिया एश्योरेंस, ओरिएंटल इंश्योरेंस,...

‘आधी जमीन’ ने दिखाई पटना की सड़कों पर पूरी ताकत

पटना। माइक्रो फाइनेंस संस्थाओं की मनमानी पर रोक लगाने, महिलाओं का कर्ज माफ करने, ब्याज वसूली पर अविलंब रोक लगाने, कर्ज पर 0 से 4 प्रतिशत की दर से ब्याज लेने, स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को अनिवार्य रूप...

शिक्षा बजट में कटौती: अनपढ़ और जाहिल समाज मौजूदा सत्ता की पहली पसंद

बजट 2021 - 22, सरकारी सम्पदा को बेचने यानी सरकार के शब्दों में विनिवेशीकरण या निजीकरण का एक दस्तावेज है, और इसे साइबर की तकनीकी भाषा मे कहें तो, यह एक टूलकिट की तरह है। सरकार, किसलिए अवतरित हुयी...

पी चिदंबरम ने बोला सरकार पर हमला, कहा- नया प्रोत्साहन पैकेज पुराने 20 लाख करोड़ पैकेज के फेल होने का सबसे बड़ा सबूत

नई दिल्ली। पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने सरकार पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने वित्तमंत्री निर्मला सीतारमन द्वारा कल घोषित किए गए प्रोत्साहन पैकेज को खोदा पहाड़ निकली चुहिया करार देने के...

एलाआईसी नहीं, लोगों के जीवन का सौदा कर रही है सरकार!

चालू वित्त वर्ष में विनिवेश से 2.10 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य बताते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 1 फरवरी 2020 के बजट भाषण में एलान किया था कि एलआईसी का आईपीओ लाया जाएगा। इसके लिए सरकार...

कोरोना काल के संकेतों को न समझने वाला नष्ट होने जाने के लिए अभिशप्त

आर्थिक नीतियों के बारे में प्रधानमंत्री के अब तक की तमाम ऐतिहासिक लफ़्फ़ाज़ियों के परे वित्तमंत्री और रिज़र्व बैंक के गवर्नर के नृत्यों की जुगल जोड़ी सचमुच अब अश्लीलता की हद तक असहनीय होती जा रही है ।  इस पूरी...

आख़िर वित्तमंत्री क्यों नहीं जानतीं कि देश में कितने हैं प्रवासी मज़दूर?

सरकारें जब जनता के आक्रोश से डरने लगती हैं तब तरह-तरह के भ्रम फैलाती हैं। इन्हें अब साफ़ दिख रहा है कि कोरोना संकट से जुड़ी उसकी रणनीतियाँ औंधे मुँह गिर चुकी हैं। समाज के विशाल तबके तक सरकारी...

20 लाख करोड़ का पैकेज नहीं, बजट भाषण दे रही हैं वित्तमंत्री

कोरोना संकट से जूझते देश में चार दिनों से ‘पैकेज़’ की आड़ में सिर्फ़ भाषणों की बरसात और जुगलबन्दी हो रही है। वर्ना, क्या माननीय प्रधानमंत्री और वित्तमंत्री ये नहीं जानते कि ‘पैकेज़’ और ‘रिफ़ॉर्म’ में फ़र्क़ होता है?...
- Advertisement -spot_img

Latest News

आरबीआई ने नोटबंदी पर केंद्र सरकार के फैसले के आगे घुटने टेक दिए: पी चिंदबरम

सुप्रीम कोर्ट में नोटबंदी पर दायर याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान, याचिकाकर्ता का पक्ष रखते हुए  सुप्रीम के वरिष्ठ...
- Advertisement -spot_img