Monday, October 3, 2022

gangester

पत्रकारों के साथ गैंगस्टरों जैसा व्यवहार कर रही है उत्तराखंड की त्रिवेंद्र सरकार!

‘सच्ची पत्रकारिता करके दिखाओ’ - मानो उत्तराखंड सरकार ने स्थानीय पत्रकारों को खुली चुनौती दे रखा हो। डॉ. हरेंद्र रावत नामक व्यक्ति की शिकायत पर देहरादून पुलिस 31 जुलाई को आधी रात सांध्य दैनिक ‘क्राइम स्टोरी’ के संपादक राजेश...

विशेष लेख: राजनीतिक एजेंडा पूर्ति का उपकरण नहीं है पुलिस

गैंगस्टर विकास दुबे के मारे जाने के बाद, पुलिस के राजनीतिकरण और माफियाओं के खिलाफ पुलिस कार्रवाई पर लगातार सवाल उठ रहे हैं। पुलिस जो लम्बे समय से एक सुधार की आवश्यकता से जूझ रही है, को लेकर पुलिस...

विकास एनकाउंटर: सुप्रीम कोर्ट ने लगायी यूपी सरकार को फटकार, कहा-कैसे था इतना बड़ा अपराधी जेल से बाहर

कानपुर के कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे के एनकाउंटर को लेकर उच्चतम न्यायालय ने उत्तर प्रदेश सरकार को फटकार लगाते हुए सवाल किया है कि हम इस बात से हैरान हैं कि इतने मामलों में वांछित अपराधी जमानत पर कैसे रिहा हो...

विकास की गिरफ्तारी या फिर सत्ता के संरक्षण में पूर्व नियोजित सरेंडर?

लंबी लुका-छिपी के बाद विकास दुबे का पकड़ा जाना कानपुर पुलिस हत्याकांड का पटाक्षेप नहीं बल्कि अपराध-राजनीति-पुलिस गठजोड़ के ड्रामे का एक कौतूहल भरा और चौंकाने वाला दृश्य मात्र है, क्योंकि कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे की गिरफ्तारी जिस नाटकीय...

यूपी में आंदोलनकारियों पर गैंगस्टर एक्ट और गुंडों को पुलिस की हत्या तक की छूट

लखनऊ। रिहाई मंच ने यूपी के विभिन्न जिलों में सीएए विरोध के नाम पर गैंगस्टर एक्ट के तहत की जाने वाली लोकतंत्र विरोधी कार्रवाइयों की निंदा करते हुए इसे बदले की कार्रवाई करार दिया है। मंच ने लखनऊ के...
- Advertisement -spot_img

Latest News

पेसा कानून में बदलाव के खिलाफ छत्तीसगढ़ के आदिवासी हुए गोलबंद, रायपुर में निकाली रैली

छत्तीसगढ़। गांधी जयंती के अवसर में छत्तीसगढ़ के समस्त आदिवासी इलाके की ग्राम सभाओं का एक महासम्मेलन गोंडवाना भवन...
- Advertisement -spot_img