Sunday, May 22, 2022

Rashtriya Swayamsevak Sangh (RSS)

डर, ऐ मेरे देश, तू डर…

डर, डर मेरे दिल, डर, डर, इतना डर, कि डर  बन जाये तेरा घर  डर में ही तेरा बचाव, छुपाओ, अपने आप को छुपाओ छुपाओ अपने आप को जिस्म में, मकान में कार्पोरेटी दुकान में अपने आप को छुपाओ मौन के तूफ़ान में डर से भी डर जीते-जी ही मर डर,...

कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा के बाद ईश्वरप्पा ने अपने ही कुनबे के पाटिल को क्यों मारा ?

"कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा ?" यह डायलॉग हमारे प्रधानमंत्री मोदी जी के प्रिय फ़िल्मी संवादों में से एक है। वे इसे एकाधिक बार दोहरा चुके हैं। पिछले दिनों कर्नाटक की उनकी पार्टी- भाजपा - ने इस डायलॉग...

नफरत और सांप्रदायिक हिंसा : बदलता चरित्र

हाल (अप्रैल 2022) में देश के अलग-अलग हिस्सों में रामनवमी और हनुमान जयंती पर जो कुछ हुआ वह अत्‍यंत चिंताजनक है। रामनवमी पर गुजरात के खंबात और हिम्‍मत नगर, मध्‍यप्रदेश के खरगोन, कर्नाटक के गुलबर्गा, रायचूर व कोलार, उत्तर...

देश पर नई गुलामी थोपने की तैयारी है-‘अग्निपथ भर्ती योजना’

ताजातरीन खबर यह है कि अब सरकार सेना में ‘अग्निपथ भर्ती योजना' के तहत तीन वर्ष के लिए सैनिकों को संविदा पर भर्ती करने जा रही है। इन्हें ‘अग्निवीर' कहा जायेगा। बताया जा रहा है कि इससे सशस्त्र बलों...

आरएसएस का उग्र हिंदुत्व और दलितों की हत्या

अभी पिछले दिनों 15 मार्च की ही घटना है, जिसमें राजस्थान के पाली जिले के बारवा गांव के निवासी जितेन्द्र पाल मेघवाल, जो कि बाली नामक स्थान पर एक अस्पताल में कोशिश हेल्थ सेंटर हेल्थ सहायक के रूप में...

समय की घड़ी पीछे घुमाने लिए अब गीता का सहारा

अब वे कुछ ज्यादा ही जल्दी में हैं। ‘कश्मीर फाइल्स’ के नाम पर देश भर में तनाव भड़काने के लिए उन्होंने अपने सारे गधे-घोड़े और खच्चर छोड़ दिए हैं। अपनी राज्य सरकारों की तरफ से इस अति हिंसक, झूठी...

जवाहरलाल नेहरू से मोदी सरकार की यह खुन्नस संघ परिवार की बेचारगी का पता देती है

अंग्रेजी के प्रख्यात कवि एवं नाटककार विलियम शेक्सपियर भले ही कह गये हों कि नाम में क्या रखा है, गुलाब को चाहे जिस नाम से पुकारा जाये, वह गुलाब ही रहता है और उनके अलविदा कह जाने के चार...

मौजूदा साम्प्रदायिक दौर में और भी प्रासंगिक हो गए हैं गणेश शंकर विद्यार्थी

कौन भूल सकता है कानपुर के उस भीषण नर-संहारकारी हिन्दू मुस्लिम दंगे को? बीसियों मंदिर और मस्जिदें तोड़ी और जलाई गईं, हजारों मकान और दुकानें लुटीं गईं और भस्मीभूत हुईं। लगभग 75 लाख की सम्पत्ति स्वाहा हो गई, करीब...

द कश्मीर फाइल्स: रुकिए! भावनाओं में मत बहिए!

जब समाज में तार्किकता और सहिष्णुता का अभाव होने लगता है तब 'द कश्मीर फाइल्स' जैसी फिल्में बनती भी हैं और कामयाब भी होती हैं। यह देखना आश्चर्यजनक है कि हमारे समाज का एक बड़ा वर्ग यह समझ पाने...

धामी को अपनी ही घोषणाओं का बोझ चैन से रहने नहीं देगा

उत्तराखण्ड के युवा मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने चुनाव हारने के बावजूद पार्टी नेतृत्व का विश्वास जीत कर प्रदेश की सत्ता की बागडोर दुबारा हासिल तो कर ली है, लेकिन उनके सामने अब उस विश्वास को कायम रखने के...
- Advertisement -spot_img

Latest News

फिलिस्तीन की शीरीन की हत्या निशाने पर निर्भीक पत्रकारिता

11 मई को फिलिस्तीन के जेनिन शहर में इजरायली फौजों द्वारा की जा रही जबरिया बेदखली को कवर कर...
- Advertisement -spot_img