Wednesday, August 10, 2022

sindhia

मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार ने 21 महीनों में मतदाताओं से किया एक भी वायदा नहीं किया पूरा

मध्यप्रदेश के विधानसभा के चुनाव में प्रदेश के मतदाताओं ने कांग्रेस को बहुमत दिया था। कांग्रेस की सरकार 17 दिसंबर, 2018 से 20 मार्च, 2020 तक 15 माह चली। भाजपा द्वारा की गई खरीद-फरोख्त और कांग्रेस की अंदरूनी गुटबाजी...

राजनीति की विरासती पीढ़ी को संघर्ष नहीं सत्ता की मलाई है प्यारी

मध्य प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया और राजस्थान में सचिन पायलट की बगावत के बाद कांग्रेस में जलजला आ गया है। कमलनाथ और दिग्विजय सिंह की लापरवाही से ज्योतिरादित्य सिंधिया की बगावत नहीं संभली और तीन चुनावों के बाद मध्य...

मध्य प्रदेश में अपने मंत्रियों को ‘मलाई’ दिलाने में सफल रहे सिंधिया

महज चार महीने पहले कांग्रेस छोड़कर भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मध्य प्रदेश में भाजपा को सत्ता दिलाने की कीमत की एक और बड़ी किस्त आज वसूल कर ली। दस दिन पहले राज्य मंत्रिपरिषद के...

अब राजस्थान की राजनीति में भूचाल! क्या सिंधिया की राह पर हैं पायलट?

जयपुर। राजस्थान कांग्रेस की राजनीति में जो ताजा भूचाल आया है, उसके पीछे प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और डिप्टी सीएम सचिन पायलट को एसओजी यानी स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप द्वारा भेजा गया कानूनी नोटिस बताया जा रहा है। चूंकि...

मध्य प्रदेश में सिंधिया के आगे बौने साबित हुए सभी दिग्गज भाजपाई

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आखिरकार अपनी साढ़े तीन महीने पुरानी मंत्रिपरिषद का विस्तार तो कर लिया, मगर वे इसे अपने मनमाफिक शक्ल नहीं दे पाने में पूरी तरह नाकाम रहे। मंत्रिपरिषद में शामिल 28 नए...

भंवर में महाराज की राजनीतिक पगड़ी!

राजनीति में एक गलत कदम किसी भी स्थापित राजनेता को अर्श से फर्श पर ला पटकता है। कोरोना की आहट के बावजूद कांग्रेस के कद्दावर नेता रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जिस तरह पाला बदल के मध्यप्रदेश में कांग्रेस की...

माहेश्वरी का मत: आगे भारी दुर्गति के लिए तैयार रहें ज्योतिरादित्य सिंधिया

सिंधिया ने कहा है कि कांग्रेस में रहते हुए जनता की सेवा अब संभव नहीं है ।  सवाल है कि जब वे कांग्रेस में थे और केंद्र में मंत्री भी, तब की कांग्रेस और आज की कांग्रेस में कौन सा...
- Advertisement -spot_img

Latest News

धरती पर मासूमियत को जिंदा रखने का संघर्ष

जब विश्व आदिवासी दिवस के मौके पर अनेक आयोजन हो रहे हैं तब पता नहीं क्यों उस घटना की...
- Advertisement -spot_img